गोलकीपर सविता पुनिया बनी भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान

0
34

1.निर्वाचन आयोग ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए मतदान की तिथि बदलकर 20 फरवरी की

निर्वाचन आयोग ने पंजाब में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 20 फरवरी को कराने का फैसला किया है। पहले यह मतदान 14 फरवरी को कराये जाने की घोषणा की गई थी। 16 फरवरी को रविदास जयंती पडने के कारण ऐसा किया गया है। इसके लिए पंजाब में सभी राजनीतिक दलों ने निर्वाचन आयोग से अनुरोध किया था।

2.स्मार्ट सिटी मिशन, आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने ‘ओपन डाटा वीक’ का शुभारंभ किया

देशभर की शहरी इको-सिस्‍टम में मुक्त आंकड़ों को अपनाने तथा नवोन्मेष को प्रोत्साहन देने के लिये आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने ‘ओपन डाटा वीक’ (मुक्त सूचना-सामग्री सप्ताह) को आरंभ करने की घोषणा की। उल्लेखनीय है कि इसी क्रम में ‘आजादी का अमृत महोत्सव – स्मार्ट सिटीज़ः स्मार्ट अर्बनाइजेशन’ संगोष्ठी का आयोजन सूरत में फरवरी 2022 में होगा। ‘ओपन डाटा वीक’ उन कार्यक्रम-पूर्व गतिविधियों का अंग है, जिन्हें आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने शुरू किया है, ताकि मुक्त आंकड़ों के प्रति जागरूकता तथा उनके इस्तेमाल को प्रोत्साहित किया जा सके। इसका आयोजन जनवरी के तीसरे सप्ताह, यानी 17 जनवरी, 2022 से 21 जनवरी, 2022 तक होगा।

3.दिल्ली में पहली DTC इलेक्ट्रिक बस शुरु की गई

17 जनवरी, 2022 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली परिवहन निगम की पहली इलेक्ट्रिक बस को हरी झंडी दिखाई। ई-बसें 27 किमी लंबे रूट पर चलेंगी। इन बसों का निर्माण JBM ऑटो लिमिटेड द्वारा किया गया है। ये इलेक्ट्रिक बसें लो फ्लोर बसें हैं। ये पूरी तरह से वातानुकूलित हैं। इन बसों को Faster Adoption and Manufacturing of Hybrid and electric Vehicles in India यानी FAME-II के तहत अधिग्रहित किया गया था। 300 बसों का पहला बेड़ा तैयार है। शुरुआत में, कुछ इलेक्ट्रिक बसें प्रगति मैदान से आईपी डिपो तक चलेंगी। यह 27 किमी लंबा मार्ग है। यह अपने रास्ते में आईटीओ, सफदरजंग और आश्रम जैसे स्थानों को कवर करेंगी। यह एक प्रोटोटाइप है। बस में बैटरी कितने समय तक चलती है, इसकी जांच के लिए इसे हरी झंडी दिखाई जा रही है।इसमें तकनीकी खराबी की भी जांच की जाएगी। इस टेस्ट रन के बाद बेड़े में बाकी बसों को जोड़ा जाएगा। दिल्ली सरकार ने फरवरी 2022 तक 50 और इलेक्ट्रिक बसें जारी करने की योजना बनाई है। प्रति माह 50 इलेक्ट्रिक बसों को जोड़ने का लक्ष्य है। पहले तय की गई पाइपलाइन में दिल्ली सरकार 2,300 इलेक्ट्रिक बसें लॉन्च करेगी। इनमें से 1,300 की खरीद DTC द्वारा की जाएगी। बाकी हजार बसों को क्लस्टर योजना के तहत संचालित किया जायेगा।

4.गोलकीपर सविता पुनिया बनी भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान

गोलकीपर सविता पुनिया मस्कट में आगामी महिला एशिया कप में भारत का नेतृत्व करेंगी क्योंकि हॉकी इंडिया ने इस आयोजन के लिए 18 सदस्यीय टीम का नाम रखा, जिसमें 16 खिलाड़ी शामिल हैं, जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक में भाग लिया था। चूंकि नियमित कप्तान रानी रामपाल बेंगलुरु में चोट से उबर रही हैं, इसलिए सविता टूर्नामेंट में टीम की अगुवाई करेंगी, जो 21-28 जनवरी के बीच होने वाला है। महिला हॉकी एशिया कप 2022 में प्रतिस्पर्धा करने वाली सात अन्य टीमें चीन, इंडोनेशिया, जापान, मलेशिया, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया और थाईलैंड हैं।

5.शेरसिंह बी ख्यालिया अडानी पावर के सीईओ नियुक्त

अडानी ग्रुप की सहायक कंपनी अडानी पावर लिमिटेड (APL) के निदेशक मंडल ने 11 जनवरी 2022 से अडानी पॉवर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के रूप में शेरसिंह बी ख्यालिया की नियुक्ति को मंजूरी दी। वह एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं, जिन्होंने गुजरात पावर कॉरपोरेशन में प्रबंध निदेशक के रूप में कार्य किया है। इससे पहले, ख्यालिया ने गुजरात पावर कॉरपोरेशन में प्रबंध निदेशक के रूप में काम किया है, जहाँ उन्हें अक्षय ऊर्जा क्षेत्र, विशेष रूप से अल्ट्रा मेगा रिन्यूएबल पार्कों के विकास का अनुभव मिला है।

6.टोंगा में ज्वालामुखी विस्फोट

हाल ही में टोंगा के दक्षिणी प्रशांत द्वीप में एक ज्वालामुखी विस्फोट हुआ है, जिससे प्रशांत महासागर के चारों ओर सुनामी लहरें उठी रही हैं। टोंगा द्वीप समूह ‘रिंग ऑफ फायर’ में मौजूद है, जो कि प्रशांत महासागर के बेसिन को घेरने वाली ऊँची ज्वालामुखी और भूकंपीय गतिविधि की परिधि है। यह एक अंडर-सी ज्वालामुखी विस्फोट है, जिसमें दो छोटे निर्जन द्वीप, हुंगा-हापाई और हुंगा-टोंगा शामिल हैं। पिछले कुछ दशकों में हुंगा-टोंगा-हुंगा-हापाई में नियमित रूप से ज्वालामुखी विस्फोट हो रहा है। वर्ष 2009 और वर्ष 2014-15 की घटनाओं के दौरान भी मैग्मा और भाप के गर्म जेट के साथ विस्फोट हुए थे। लेकिन हालिया घटनाओं (जनवरी 2022) की तुलना में ये विस्फोट काफी छोटे थे। इस बार का विस्फोट उन बड़े विस्फोटों में से एक है, जो प्रत्येक हज़ार वर्ष में रिकॉर्ड किये जाते हैं। इसके अत्यधिक विस्फोटक होने का एक कारण ‘फ्यूल-कूलेंट इंटरेक्शन’ है।

7.चीन का कृत्रिम चंद्रमा

चीन के कृत्रिम सूर्य के बाद, चीन ने अपना पहला ‘कृत्रिम चंद्रमा’ तैयार कर लिया है। वैज्ञानिकों ने एक “कृत्रिम चंद्रमा” अनुसंधान सुविधा का निर्माण किया है। यह सुविधा उन्हें चुंबकत्व का उपयोग करके कम-गुरुत्वाकर्षण वातावरण (low-gravity environment) का संचालन करने में मदद करेगी। कृत्रिम चंद्रमा अनुसंधान सुविधा को वर्ष 2022 में आधिकारिक तौर पर लॉन्च किया जायेगा। यह गुरुत्वाकर्षण को ख़त्म करने के लिए 2-फुट-व्यास के वैक्यूम कक्ष के अंदर शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्रों का उपयोग करेगा। वैज्ञानिकों ने इस सुविधा का उपयोग चंद्रमा पर भेजने से पहले लंबे समय तक कम-गुरुत्वाकर्षण वातावरण में प्रौद्योगिकी का परीक्षण करने के लिए करने की योजना बनाई है, जहां गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का छठा हिस्सा है। यह प्रयोग वैज्ञानिकों को तकनीकी मुद्दों को सुलझाने में मदद करेगा और परीक्षण करेगा कि क्या कुछ संरचनाएं चंद्रमा की सतह पर जीवित रहेंगी। यह चंद्रमा पर मानव बस्ती की व्यवहार्यता का आकलन करने में भी मदद करेगा।

8.अब भारत में गाड़ियों में अनिवार्य रूप से 6 एयरबैग दिए जायेंगे

केंद्र सरकार ने 1 अक्टूबर 2022 से 6 एयरबैग अनिवार्य करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। भारत में बिकने वाली सभी कारों के लिए एयरबैग अनिवार्य कर दिए जायेंगे। सरकार ने एक मसौदा अधिसूचना जारी की है और प्रस्तावित नियम पर सार्वजनिक टिप्पणियों और हितधारकों की टिप्पणियों को आमंत्रित किया है। 1 जुलाई, 2019 से चालक की सीट के लिए एयरबैग के नियम को अनिवार्य कर दिया गया था। सह-यात्री के लिए एक एयरबैग का नियम 1 जनवरी, 2022 से लागू हुआ था। हालांकि, कई भारतीय कारों के टॉप वेरिएंट में पहले से ही 6 एयरबैग हैं। अब, सरकार ने न्यूनतम 6 एयरबैग अनिवार्य करने के लिए GSR अधिसूचना के मसौदे को मंजूरी दे दी है। यह निर्णय आगे और साथ ही पीछे के डिब्बों में बैठने वालों के लिए आगे और पीछे के टकराव के प्रभाव को कम करने के लिए लिया गया था। M1 वाहन श्रेणी में 4 अतिरिक्त एयरबैग अनिवार्य किए जाएंगे। M1 वाहन श्रेणी का तात्पर्य ड्राइवर की सीट के अलावा अधिकतम 8 सीटों वाली यात्री कारों से है। इसमें सेडान, हैचबैक, MUV और SUV शामिल हैं।

9.National Start-up Awards 2021 प्रदान किये गये

भारत सरकार ने “राष्ट्रीय स्टार्ट-अप पुरस्कार 2021” के विजेताओं की घोषणा की और 46 स्टार्ट-अप को उनके संबंधित क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया। सरकार ने इस समारोह के दौरान एक इनक्यूबेटर और एक एक्सेलेरेटर को भी पुरस्कार से सम्मानित किया। यह राष्ट्रीय स्टार्ट-अप पुरस्कारों के दूसरे संस्करण को चिह्नित करता है। कृषि से लेकर पशुपालन और उद्यम प्रौद्योगिकी से लेकर फिनटेक तक 15 सेक्टरों और 49 उप-क्षेत्रों से आवेदन आमंत्रित किए गए थे। राष्ट्रीय स्टार्ट-अप पुरस्कार नवाचार को प्रोत्साहित करके और प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देकर आर्थिक गतिशीलता में योगदान देने वाले स्टार्ट-अप को सम्मानित करते हैं। यह निम्नलिखित स्टार्ट-अप पर केंद्रित है:

  1. जो अभिनव उत्पादों या समाधानों का निर्माण करते हैं
  2. वे स्केलेबल उद्यम हैं, जिनमें धन सृजन या रोजगार सृजन की उच्च क्षमता है
  3. यह मापने योग्य सामाजिक प्रभाव को प्रदर्शित करता है।

10.चीन की जन्म दर रिकॉर्ड निम्न स्तर पर पहुंची

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, चीन में जन्म दर 2021 में रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गई, क्योंकि विश्लेषक देश में अपेक्षा से अधिक उम्र बढ़ने (faster-than-expected ageing) की चेतावनी दे रहे हैं। विश्लेषकों के अनुसार, अपेक्षा से अधिक तेजी से बढ़ती उम्र आर्थिक विकास की चिंताओं को गहरा करेगी। चीन पहले से ही तेजी से उम्र बढ़ने वाले कार्यबल, दशकों में सबसे कमजोर जनसंख्या वृद्धि और धीमी अर्थव्यवस्था के साथ एक खतरनाक जनसांख्यिकीय संकट से जूझ रहा है। चीन में 2021 में जन्म दर घटकर प्रति 1,000 लोगों पर 7.52 जन्म हो गई। 2020 में यह 8.52 थी। यह 1978 के बाद से चीन के वार्षिक सांख्यिकीय वार्षिक डेटा में सबसे कम आंकड़ा है। 2016 में, चीन ने देश की “एक बच्चे की नीति” में ढील दी। इसने जोड़ों को दो बच्चों की अनुमति दी। दुनिया भर में सबसे सख्त परिवार नियोजन नियमों में से एक को आसान बनाने के बाद भी, यह जन्म दर को बढ़ाने में विफल रहा है। 2021 में, चीन ने दंपतियों को तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति देने की नीति को आगे बढ़ाया।

11.चीन-ईरान रणनीतिक समझौता

चीन दोनों देशों के बीच आर्थिक और राजनीतिक सहयोग को मजबूत करने के लिए ईरान के साथ एक रणनीतिक समझौते को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार है। एक बैठक में, चीन ने ईरान पर अमेरिका के प्रतिबंधों के विरोध की भी पुष्टि की। 14 जनवरी, 2022 को पूर्वी चीन के वूशी में एक बैठक में “चीन-ईरान रणनीतिक समझौते” को लागू करने की घोषणा की गई। इस बैठक के दौरान, विदेश मंत्रियों ने ऊर्जा, उत्पादन क्षमता, बुनियादी ढांचे, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, चिकित्सा और स्वास्थ्य देखभाल में सहयोग बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की। कृषि, मत्स्य पालन, तीसरे पक्ष के बाजार, साइबर सुरक्षा, शिक्षा और कार्मिक प्रशिक्षण में सांस्कृतिक आदान-प्रदान जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों का विस्तार किया जाएगा।

12.केंद्र सरकार Chips to Start-up (C2S) Programme के तहत स्टार्ट-अप, MSMEs, R&D संगठनों और शिक्षाविदों से आवेदन मांग रही

Chips to Start-up (C2S) Programme” के तहत, केंद्र सरकार बहुत बड़े पैमाने पर एकीकरण (VLSI) और एम्बेडेड सिस्टम डिज़ाइन क्षेत्रों में 85,000 इंजीनियरों को प्रशिक्षित करने के लिए 100 स्टार्ट-अप, MSMEs, R&D संगठनों और शिक्षाविदों से आवेदन मांग रही है। चिप टू स्टार्ट-अप (C2S) प्रोग्राम के परिणामस्वरूप पांच साल की अवधि के लिए 175 ASIC (application-specific integrated circuits), IP कोर रिपॉजिटरी और चिप्स (SoC) पर 20 सिस्टम के वर्किंग प्रोटोटाइप का विकास होगा। यह स्नातक, परास्नातक और अनुसंधान स्तर पर SoC/सिस्टम स्तरीय डिजाइन की संस्कृति को बढ़ावा देकर इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम डिजाइन एंड मैन्युफैक्चरिंग (ESDM) स्पेस में छलांग लगाने की दिशा में एक कदम होगा। यह फैबलेस डिजाइन में शामिल स्टार्ट-अप्स के विकास में भी मदद करेगा। यह कार्यक्रम इलेक्ट्रॉनिक्स में मूल्य श्रृंखला की प्रत्येक इकाई को भी संबोधित करता है, अर्थात् गुणवत्ता जनशक्ति प्रशिक्षण, अनुसंधान और विकास, सिस्टम डिजाइन, हार्डवेयर आईपी डिजाइन, प्रोटोटाइप डिजाइन, अनुप्रयोग-उन्मुख अनुसंधान एवं विकास, और तैनाती।

13.ई-गवर्नेंस के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया

ई-गवर्नेंस 2020-21 के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार (रजत) हाल ही में नागालैंड के मोन जिला प्रशासन को प्रदान किया गया। हैदराबाद में ई-गवर्नेंस पर 24वें राष्ट्रीय सम्मेलन में पुरस्कार प्रदान किया गया। केंद्रीय राज्य मंत्री (MoS) डॉ. जितेंद्र सिंह द्वारा मोन जिले के उपायुक्त थावसेलन के. को यह पुरस्कार सौंपा गया। ई-गवर्नेंस के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मोन जिले को “कोविड -19 के प्रबंधन में ICT का उपयोग” की श्रेणी 6 के तहत प्रस्तुत किया गया था। इसका उद्देश्य जिला प्रशासन द्वारा की गई पहलों को सम्मानित करना था। संक्रमण के प्रसार को प्रतिबंधित करने के लिए कोविड -19 उपयुक्त व्यवहार (Covid-19 Appropriate Behaviour – CAB) को लागू करते हुए जनता को होने वाली कठिनाइयों को कम करने के लिए मोन जिले में “प्रशासन की सहायता में प्रौद्योगिकी” (Technology in Aid to Administration) शीर्षक वाली परियोजना शुरू की गई थी। यह परियोजना लोगों की कठिनाई को कम करने, लोगों को कोविड से सुरक्षित रखने और प्रशासन की प्रभावशीलता बढ़ाने में मदद कर रही है।

14.ऑक्सफैम इंडिया ने ‘Inequality Kills’ रिपोर्ट जारी की

ऑक्सफैम इंडिया की “Inequality Kills” रिपोर्ट के अनुसार, भारत के सबसे अमीर परिवारों की संपत्ति 2021 में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, 84% भारतीय परिवारों ने कोविड -19 महामारी के बीच आय में गिरावट दर्ज की। सबसे अमीर 98 भारतीयों के पास उतनी ही संपत्ति है, जितनी नीचे के 552 मिलियन लोगों के पास है। 2021 के दौरान भारतीय अरबपतियों की संख्या 102 से बढ़कर 142 हो गई। शीर्ष 100 परिवारों की संपत्ति 57.3 लाख करोड़ रुपये है। इस रिपोर्ट के अनुसार, असमानता को कम करने के उपायों के वित्तपोषण में मदद करने के लिए, भारतीय आबादी के सबसे अमीर 10 प्रतिशत पर अधिक कर लगाकर भारत में असमानता को कम किया जा सकता है। यह फंड स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा और सामाजिक सुरक्षा के लिए योजनाओं को कवर कर सकता है। ऑक्सफैम ने अनौपचारिक श्रमिकों के लिए असमानता और बेहतर सामाजिक सुरक्षा को मापने के लिए हर 10 साल में कम से कम दो सर्वेक्षण करने की सिफारिश की है। ऑक्सफैम के अनुसार, 98 अरबपतियों की संपत्ति पर 4% टैक्स 17 साल के लिए मिड-डे मील कार्यक्रम के लिए फंड कर सकता है। उनमें से 1% संपत्ति कर स्कूली शिक्षा a7 साक्षरता, या सात साल से अधिक के लिए आयुष्मान भारत योजना के लिए कुल खर्च का वहन रखने के लिए पर्याप्त होगा।

15.आरबीआई ने लोकपाल योजनाओं, 2020-21 की वार्षिक रिपोर्ट जारी की

भारतीय रिजर्व बैंक ने 2020-21 के लिए लोकपाल योजनाओं की वार्षिक रिपोर्ट जारी की है, जो 1 जुलाई 2020 से प्रभावी रूप से आरबीआई के वित्तीय वर्ष को ‘जुलाई-जून‘ से ‘अप्रैल-मार्च‘ में परिवर्तन के अनुरूप 9 महीने की अवधि (1 जुलाई, 2020 से 31 मार्च, 2021) के लिए तैयार किया गया है। वार्षिक रिपोर्ट में बैंकिंग लोकपाल योजना, 2006 (बीओएस), गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए लोकपाल योजना, 2018 (ओएसएनबीएफसी) और डिजिटल लेनदेन के लिए लोकपाल योजना, 2019 (ओएसडीटी) के तहत गतिविधियों को शामिल किया गया है। सभी 3 लोकपाल योजनाओं के तहत प्राप्त शिकायतों की मात्रा में वार्षिक आधार पर 22.27 प्रतिशत की वृद्धि हुई और यह 3,03,107 रही। 1 जुलाई, 2020 से 31 मार्च, 2021 तक BOS में प्राप्त शिकायतों की संख्या 2,73,204 थी। 1 जुलाई, 2020-31 मार्च, 2021 के दौरान OSNBFC में प्राप्त शिकायतें 26,957 थीं। 1 जुलाई, 2020-31 मार्च, 2021 के दौरान OSDT में प्राप्त शिकायतों की संख्या बढ़कर 2,946 हो गई। योजना के तहत शिकायतों के प्रमुख क्षेत्र एटीएम या डेबिट कार्ड, मोबाइल या इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग और क्रेडिट कार्ड से संबंधित हैं। यह क्षेत्र कुल शिकायतों का सामूहिक रूप से 42.74 प्रतिशत है। इस साल, आरबीआई ने रिपोर्टिंग अवधि को अप्रैल-मार्च में बदल दिया। आरबीआई के आंकड़े आगे बताते हैं कि इसी अवधि के दौरान चंडीगढ़ को सबसे ज्यादा शिकायतें मिलीं। शिकायतों की कुल संख्या 28019 है। यह कुल शिकायतों का 10.26 प्रतिशत है। चंडीगढ़ के बाद 21,168 शिकायतों के साथ कानपुर और 18,767 शिकायतों के साथ नई दिल्ली है। कानपुर में 7.75 प्रतिशत और दिल्ली में कुल शिकायतों का 6.87 प्रतिशत हिस्सा है।

16.तसनीम मीर बैडमिंटन अंडर-19 गर्ल्स सिंगल्स में वर्ल्ड नंबर 1 बनीं

तसनीम मीर नवीनतम बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (बीडब्ल्यूएफ) जूनियर रैंकिंग में अंडर -19 (अंडर -19) गर्ल्स सिंगल्स वर्ग में वर्ल्ड नंबर 1 हासिल करने वाली पहली भारतीय बनीं। उनके बाद रूस की मारिया गोलूबेवा और स्पेन की लूसिया रोड्रिग्ज का नंबर आता है। 2021 में, उन्होंने बुल्गारिया, फ्रांस और बेल्जियम में आयोजित 3 जूनियर अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट जीते, जिससे उन्हें नंबर 1 स्थान पर चढ़ने में मदद मिली। लड़कों के एकल में विश्व नंबर 1 की स्थिति लक्ष्य सेन, सिरिल वर्मा और आदित्य जोशी द्वारा साझा की गई है।

17.वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर क्लाइव लॉयड को मिला नाइटहुड

वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान क्लाइव लॉयड (Clive Lloyd) ने क्रिकेट के खेल के प्रति उनकी सेवाओं के लिए विंडसर कैसल में ड्यूक ऑफ कैम्ब्रिज प्रिंस विलियम से नाइटहुड (Knighthood) प्राप्त किया। उसी दिन, इंग्लैंड के विश्व कप विजेता कप्तान इयोन मॉर्गन (Eoin Morgan) को क्रिकेट के खेल के प्रति उनकी सेवाओं के लिए प्रिंस विलियम द्वारा CBE (कमांडर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर) से सम्मानित किया गया था। सीबीई ब्रिटिश एम्पायर का सर्वोच्च रैंकिंग ऑर्डर है, इसके बाद ओबीई (ऑफिसर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर) और फिर एमबीई (मेंबर ऑफ द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर) आता है।

18.IAMAI ने 16वें भारत डिजिटल शिखर सम्मेलन 2022 का आयोजन किया

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री, पीयूष गोयल ने 16वें भारत डिजिटल शिखर सम्मेलन, 2022 को आभासी रूप से संबोधित किया। दो दिवसीय आभासी कार्यक्रम का आयोजन 11 और 12 जनवरी, 2022 को इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Internet And Mobile Association of India- IAMAI) द्वारा किया गया था। शिखर सम्मेलन का विषय “सुपरचार्जिंग स्टार्टअप्स (Supercharging Startups)” था। इंडिया डिजिटल समिट भारत में डिजिटल उद्योग की सबसे पुरानी घटना है। कार्यक्रम के दौरान, मंत्री ने हमारे स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को और मजबूत करने के लिए ‘लीप (LEAP)’ का अनावरण किया। LEAP का अर्थ “लीवरेज, इन्करज, ऐक्सेस और प्रमोट” है।

19.यस म्युचुअल फंड का नाम व्हाइटऑक कैपिटल म्युचुअल फंड हुआ

यस एसेट मैनेजमेंट का नाम व्हाइटऑक कैपिटल एसेट मैनेजमेंट के रूप में फिर से नामित किया गया है और इसलिए यस म्यूचुअल फंड का नाम बदलकर व्हाइटऑक कैपिटल म्यूचुअल फंड कर दिया गया है। नामों में परिवर्तन 12 जनवरी, 2022 से प्रभावी है। व्हाइट ओक को म्यूचुअल फंड चलाने का लाइसेंस मिला है। व्हाइट ओक कैपिटल ग्रुप 42,000 करोड़ रुपये से अधिक की इक्विटी संपत्ति के लिए निवेश प्रबंधन और सलाहकार सेवाएं प्रदान करता है।

20.तिरुवल्लुवर दिवस

प्रधानमंत्री ने 15 जनवरी, 2022 को तमिल कवि और दार्शनिक तिरुवल्लुवर को उनकी जयंती ‘तिरुवल्लुवर दिवस’ (Thiruvalluvar Day ) के अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित की। यह पहली बार 17-18 मई को वर्ष 1935 में मनाया गया था। वर्तमान समय में इसे आमतौर पर तमिलनाडु में 15 या 16 जनवरी को मनाया जाता है और यह पोंगल समारोह का एक हिस्सा है। तिरुवल्लुवर जिन्हें वल्लुवर भी कहा जाता है, एक तमिल कवि-संत थे। धार्मिक पहचान के कारण उनकी कालावधि के संबंध में विरोधाभास है सामान्यतः उन्हें तीसरी-चौथी या आठवीं-नौवीं शताब्दी का माना जाता है। सामान्यतः उन्हें जैन धर्म से संबंधित माना जाता है। हालाँकि हिंदुओं का दावा है कि तिरुवल्लुवर हिंदू धर्म से संबंधित थे। द्रविड़ समूहों (Dravidian Groups) ने उन्हें एक संत माना क्योंकि वे जाति व्यवस्था में विश्वास नहीं रखते थे। उनके द्वारा संगम साहित्य में तिरुक्कुरल या ‘कुराल’ (Tirukkural or ‘Kural’) की रचना की गई थी। वर्ष 2009 में बंगलूरू के पास उलसूर में प्रसिद्ध तमिल कवि की एक प्रतिमा का अनावरण किया गया। लंदन के रसेल स्क्वायर में स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज़ के बाहर भी वल्लुवर की एक प्रतिमा लगाई गई है। तिरुवल्लुवर की 133 फुट ऊँची प्रतिमा कन्याकुमारी में भी है। अक्तूबर 2002 में तमिलनाडु के वेल्लोर ज़िले में तमिलनाडु सरकार द्वारा तिरुवल्लुवर विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। वर्ष 1976 में वल्लुवर कोटम नामक एक मंदिर-स्मारक चेन्नई में बनाया गया जो एशिया में सबसे बड़े सभागारों में से एक है। 16वीं शताब्दी की शुरुआत में चेन्नई के मायलापुर में एकमबेश्वरेश्वर मंदिर परिसर में तिरुवल्लुवर को समर्पित एक मंदिर बनाया गया था।

21.माली के अपदस्थ राष्ट्रपति इब्राहिम बाउबकर केस्टा का निधन

माली के अपदस्थ राष्ट्रपति इब्राहिम बाउबकर केस्टा का 76 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। केस्टा ने माली का वर्ष 2020 (सात साल) तक नेतृत्व किया, जिहादी अशांति से निपटने के लिये सरकार विरोधी भारी आंदोलन के बाद उन्हें तख्तापलट में हटा दिया गया था। आर्थिक संकट और विवादित चुनावों ने भी उनके शासन के खिलाफ प्रदर्शनों को बढ़ावा दिया। केस्टा तीन दशकों से अधिक समय तक राजनीति में शामिल रहे, उन्होंने वर्ष 1994 से 2000 तक समाजवादी प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। उनका जन्म कौटियाला में हुआ, उनके पिता एक सिविल सेवक थे, उन्होंने पेरिस में साहित्य, इतिहास और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का अध्ययन किया। वह वर्ष 1980 में माली लौटने से पूर्व वे यूरोपीय विकास कोष के सलाहकार के रूप में पहली बार काम करने से पहले पेरिस विश्वविद्यालय में अध्यापन सहित दशकों तक फ्राँस में रहे और काम किया। वर्ष 2012 में आज़ादी और जिहादी विद्रोहों के फैलने के बाद से माली सुरक्षा एवं राजनीतिक संकट की चपेट में है। राष्ट्रपति केस्टा वर्ष 2013 में “शांति और सुरक्षा लाने” के वादे पर चुने गए, लेकिन फिर भी उनकी सरकार माली की गंभीर सुरक्षा चुनौतियों को समाप्त करने में विफल रही, और उन्हें अगस्त 2020 में सेना द्वारा हटा दिया गया।

22.गीतकार इब्राहिम अश्क का निधन

मशहूर गीतकार इब्राहिम अश्क (Ibrahim Ashq) का निधन हो गया। वह कोरोना वायरस से संक्रमित थे और साथ ही निमोनिया के भी मरीज़ थे। इब्राहिम अश्क मूल रूप से मध्य प्रदेश के रहने वाले थे और उनकी पहचान एक गीतकार के साथ शायर की भी थी। उन्होंने करियर की शुरुआत एक पत्रकार के रूप में की थी और कई अखबार एवं मैग्ज़ीन के लिये काम किया था। इब्राहिम अश्क की शुरुआती पढ़ाई उज्जैन के बंदनगर से हुई। इंदौर विश्वविद्यालय से उन्होंने ग्रेजुएशन और मास्टर्स की डिग्री ली। बॉलीवुड में उन्होंने ‘कहो ना प्यार है’, ‘कोई मिल गया’, ‘जानशीन’, ‘ऐतबार’, ‘आप मुझे अच्छे लगने लगे’, ‘कोई मेरे दिल से पूछे’ और ‘धुंध’ जैसी फिल्मों के लिये गाने लिखे। ‘कहो ना प्यार है’ का टाइटल ट्रैक, गाना ‘ना तुम जानो ना हम’ उन्होंने ही लिखा था।

23.सामाजिक कार्यकर्ता और पद्म श्री से सम्मानित शांति देवी का निधन

सामाजिक कार्यकर्ता और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित शांति देवी का ओडिशा के रायगडा जिले के गुनुपुर में उनके आवास पर निधन हो गया। शांति देवी ओडिशा में एक जानी मानी सामाजिक कार्यकर्ता थीं। उनका जन्म 18 अप्रैल 1934 को हुआ था। सामाजिक कार्यकर्ता ने कोरापुट में एक छोटा आश्रम शुरू किया और बाद में रायगढ़ में सेवा समाज की स्थापना की। सेवा समाज का गठन बालिकाओं के सर्वांगीण विकास के लिए किया गया था। फिर यह सामाजिक कार्य की कभी न खत्म होने वाली यात्रा थी जहां उन्होंने गनपुर में एक और आश्रम स्थापित किया। इस आश्रम ने अनाथ और बेसहारा बच्चों की शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण, पुनर्वास की दिशा में काम किया।