पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: समग्र अध्ययन सामग्री

0
2271

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय का अध्ययन कर आप भूगोल के कुछ प्रश्नों का भी उत्तर दे सकते हैं, इसलिए इस विषय के अध्ययन से आप एक तीर से दो निशान लगा सकते हैं I इस विषय की अध्ययन सामग्री को हमने न सिर्फ स्कूल जाने वाले छात्र/छात्राओं बल्कि ग्रेजुएशन की पढाई कर रहे विद्यार्थियों के साथ – साथ प्रतियोगी छात्रों के लिए भी बनाया है I इसलिए आपकी सहूलियत के लिए हमने इस पूरी अध्ययन सामग्री को 5 मुख्य भागों में बांटा है, जो कि इस प्रकार है …

 

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय: संकल्पना

पारिस्थितिकी का अर्थ

पर्यावरण (परि+आवरण) शब्द का शाब्दिक अर्थ है हमारे चारों ओर का घेरा अर्थात हमारे चारों ओर का वातावरण जिसमें सभी जीवित प्राणी रहते हैं और अन्योन क्रिया करते हैं। पर्यावरण का अंग्रेजी शब्द एनवॉयरमेंट है जो फ्रेंच भाषा के शब्द एनवॉयरनर से बना है, जिसका अर्थ है ‘घेरना।’ अतः पर्यावरण के अन्तर्गत किसी जीव के चारों ओर उपस्थित जैविक तथा अजैविक पदार्थों को सम्मिलित किया जाता है।

पारिस्थितिकी पर्यावरण अध्ययन का वह भाग है जिसमे हम जीवो, पौधो और जन्तुओं और उनके संबंधो या अन्य जीवित या गैर जीवित पर्यावरण पर परस्पराधीनता के बारे मे अध्ययन करते है ।

पारिस्थितिकी दो शब्दों से मिल कर बना है जो ग्रीक शब्द “ Oekologue” से लिया गया है:

(a) ‘Oekos’ का अर्थ घेराव/ आस पास का क्षेत्र

(b) ‘Logs’ का अर्थ एक पूरे पारिस्थितिकी पर अध्ययन मतलब ‘घेराव /आस पास का अध्ययन’

पारस्थितिक अध्ययन मे शामिल है:

  1. यह वातावरण मे ऊर्जा और पदार्थो के प्रवाह के अध्ययन से संबन्धित है।
  2. यह प्रकृति के अध्ययन और इसके क्रियाकलाप से संबन्धित है।
  3. यह पर्यावरण के जैविक और अजैविक घटको के बीच विभिन्न पदार्थों के आदान प्रदान से संबन्धित है। उदाहरण: भू जैव रासायनिक चक्र।

“पारिस्थितिकी” शब्द (“Okologie”) का आविष्कार जर्मन वैज्ञानिक अर्नस्ट हैकेल (1834-1919) ने 1866 मे किया। पारिस्थितिक सोच दर्शन मे स्थित धाराओं, विशेष रूप से नैतिकता और राजनीति के व्युत्पन्न है। अरस्तू और हिप्पोक्रेट जैसे प्राचीन यूनानी दार्शनिकों ने अपने प्राकृतिक इतिहास पर अध्ययन मे पारस्थितिकी की नीव रखी। उन्नीसवीं शताब्दी के अंत मे आधुनिक पारिस्थितिकी और अधिक सख्त विज्ञान बन गया।  अनुकूलन और प्राकृतिक चयन से संबन्धित विकासवादी अवधारणाएं आधुनिक पारिस्थितिकी सिद्धान्त की आधारशिला बन गयी।

पारिस्थितिकी पर्यावरण अध्ययन का वह भाग है जिसमे हम जीवो, पौधो और जन्तुओं और उनके संबंधो या अन्य जीवित या गैर जीवित पर्यावरण पर परस्पराधीनता के बारे मे अध्ययन करते है । पारिस्थितिकी को जीव विज्ञान की शाखा के रूप मे परिभाषित किया जा सकता है जो जीवो के एक दूसरे के साथ संबंधो और उनके भौतिक परिवेशो की चर्चा / व्याख्या करता है। इसे जीवो के मध्य अन्तः क्रिया और उनके परिवेश के वैज्ञानिक अध्ययन के रूप मे भी परिभाषित किया जा सकता है। पारिस्थितिकी शब्द का वास्तविक अर्थ “घर का अध्ययन” है। पारिस्थितिकी एक बहुआयामी विज्ञान है एवं विज्ञान की अन्य शाखाओ जैसे भूगोल, भूविज्ञान, मौसम विज्ञान, भूतत्व, भौतिकी और रसायन विज्ञान के साथ इसका संबंध है।

विज्ञान की अन्य शाखाओ के साथ यह अंतर-संबंध इसे विज्ञान का एक सबसे महत्वपूर्ण शाखा बनाता है।

पारिस्थितिकी जीवन के सभी पहलुओं, छोटे जीवाणुओं से लेकर पूरे ग्रह के विस्तार की प्रक्रियाओं तक, के बारे मे चर्चा करती है। पारिस्थिति विज्ञानिओ के अध्ययन के अनुसार प्रजातियों मे परभक्षण और परागण जैसे अनेक असमानताये और जटिल संबंध पाये जाते है।  जीवन की विविधता स्थलीय (मध्य) से लेकर जलीय परिस्थितिकी प्रणालियों तक अलग अलग निवासों मे सुनियोजित है।

पारिस्थितिकी वातावरण, पर्यावरणवाद, प्राकृतिक इतिहास या पर्यावरण विज्ञान का पर्याय नहीं है। इसका विकसवादी जीव विज्ञान, आनुवंशिकी और आचार विज्ञान से घनिष्ठ संबंध है।

 

साथ ही साथ पारिस्थितिकी एक मानव विज्ञान भी है। जीव संरक्षण पारिस्थितिकी के  कई व्यावहारिक उपयोग है। संरक्षण जीव विज्ञान, आद्रभूमि प्रबंधन, प्राकृतिक संसाधन (कृषि पारिस्थितिकी, कृषि, वानिकी, कृषि वानिकी, मत्स्य पालन), नगर नियोजन (शहरी पारिस्थितिकी), सामुदायिक स्वास्थ्य, अर्थशास्त्र, बुनियादी और अनुप्रयुक्त विज्ञान, और मानव सामाजिक संपर्क (मानव पारिस्थिकी) में पारिस्थितिकी के कई व्यावहारिक उपयोग है।

उदाहरण के तौर पर, स्थिरता दृष्टिकोण का चक्र पर्यावरण की तुलना मे पारिस्थितिकी को अधिक मानते है। इसे मानवों से अलग नहीं समझा जाता है। जीव (मानव सहित) और पारिस्थितिक तंत्र रचना के संसाधनों के परिणाम स्वरूप, जैव भौतिकी प्रतिक्रिया तंत्र को व्यवस्थित बनाए रखने के लिए जो ग्रह के जैविक और अजैविक घटको पर किए गए प्रक्रिया को नियंत्रित करता है। पारिस्थितिक तंत्र जीवन के समर्थक कार्यो को बनाए रखता है, और बायोमास उत्पाद (खाद्य, ईंधन, फाइबर, और औषधि), जलवायु नियंत्रण, वैश्विक भू-जैव रसायनिक चक्र, पानी का छनना, मृदा निर्माण, कटाव नियंत्रण, बाढ़ सुरक्षा और वैज्ञानिक, ऐतिहासिक, आर्थिक या आंतरिक मूल्य के कई अन्य प्राकृतिक विशेषताओ, जैसे प्राकृतिक पूंजी का उत्पादन करता है।

पर्यावरण और पारिस्थितिकी पर शब्दावली (जार्गन)

विभिन्न प्रकार की शब्दावली (जार्गन) जो पर्यावरण और पारिस्थितिकी में उपयोग की जाती है, का वर्णन इस प्रकार है:

छत्र या मंडप (Canopy)

शाखाओं से आच्छादित और वृक्ष के अग्रभाग से पत्तों का गठन को कहते है

 

मंडप घनिष्ठता (Canopy Density)

वृक्ष के मंडप से आच्छादित भूमि का प्रतिशत क्षेत्र, यह एक दशमलव गुणांक के रूप में व्यक्त किया जाता है और मंडप को एकता के रूप में किनारे करता है।

 

मानचित्र कला संबंधी सीमा (Cartographic Limit)

एक विशेष आकृति (फीचर) का न्यूनतम क्षेत्र जिसे दिये गये पैमाने पर एक मानचित्र में प्रस्तुत किया जा सकता है।

 

बदलाव वाला सांचा (Change Matrix)

एक दिये गये क्षेत्र के लिए वन आच्छादित श्रेणियों में यह परिवर्तन होता है। इस अवधि के दौरान एक-दूसरे वर्ग से क्षेत्र परिवर्तन दिखा कर एक मैट्रिक्स का लगातार दो बार मूल्यांकन होता है।

 

शीर्ष क्षेत्र (Crown Area )

यह जमीन पर एक पेड़ की शीर्ष क्षैतिज प्रक्षेपण वाला क्षेत्र है।

 

कृषि योग्य गैर वन क्षेत्र (Culturable Non Forest Area (CNFA)

यह शुद्ध भौगोलिक क्षेत्र है, इसका बाहरी आवरण वनों से आच्छादित होता है जो पेड़ वनस्पति का समर्थन कर सकते हैं (इस प्रकार, झीलों के अधीन क्षेत्रों को छोड़कर, नदी के किनारों, बारहमासी बर्फ से ढके पहाड़ आदि)। सीएनएफए वह क्षेत्र है जहां वृक्ष आच्छादित डेटा का संग्रहण पेड़ों के आकलन के लिए किया जाता है।

 

डिजिटल इमेज प्रोसेसिंग (Digital Image Processing (DIP)

कंप्यूटर और डीआईपी सॉफ्टवेयर का उपयोग कर डिजिटल उपग्रह आंकड़ों की व्याख्या और वर्गीकरण।

 

एरर मैट्रिक्स (Error Matrix/Confusion matrix)

भाषातंरित उपग्रह आंकड़ों के वर्गीकरण की सटीकता का आकलन करने के लिए यह एक मात्रात्मक साधन है। इसके तहत संदर्भ डेटा (जमीनी हकीकत) की श्रेणी दर श्रेणी अनुमानित ढंग से चयनित स्थानों में वर्गीकरण के समान परिणाम के साथ तुलना की जाती है। इसे एक वर्ग मैट्रिक्स में प्रस्तुत किया जाता है।

 

कृत्रिम रंग मिश्रण)( False Color Composite)

लाल, हरे और नीले चैनलों पर उपग्रहीय डेटा के किसी भी तीन वर्णक्रमीय समूहों द्वारा उत्पन्न तस्वीर वास्तविक रंग में आकृति (फीचर) को प्रदर्शित नहीं करती है।

 

कृषिक्षेत्र वानिकी (Farm Forestry)

कृषि भूमि पर के संविदा खंडों की खेती औऱ प्रबंधन का अभ्यास।

 

वन क्षेत्र (Forest Area)

सरकार के रिकॉर्ड में एक जंगल के रूप में दर्ज क्षेत्र। इसे “दर्ज किया गया वन क्षेत्र” के रूप में भी जाना जाता है।

 

वन आवरण (Forest Cover)

दस प्रतिशत का एक छत्र पेड़ों के घनत्व के साथ या अधिक ध्यान दिये बगैर स्वामित्व के साथ सभी प्रकार की भूमि, एक हेक्टेयर से ज्यादा का क्षेत्र और कानूनी स्थिति। इस प्रकार की भूमि को जंगली क्षेत्र के डेटा में दर्ज कराना जरूरी नही है। इसमें बगीचे, बांस और खजूर भी शामिल हैं।

 

वन सूची (Forest Inventory)

जंगलों के बढ़ते हुए भंडार और अन्य विशेषताओं के लिए जंगलों के कुछ मानदंडों का परिमाण। जंगलों के कुछ मानदंडों के माप से बढ़ रहा है भंडारण और जंगलों की अन्य विशेषताओं का आकलन करने के लिए।

 

भौगोलिक सूचना प्रणाली (Geographic Information System (GIS)

अभिग्रहण, भंडारण, जोड़ तोड़, विश्लेषण और डेटा प्रदर्शित करने की एक कम्प्यूटर आधारित प्रणाली जो स्थानिक दृष्टि से पृथ्वी को संदर्भित करती है।

 

ग्रीन वॉश (Green Wash)

जंगली क्षेत्रों की सीमा तक आम तौर पर एसओआई की शीर्ष परत हल्के हरे रंग में दिखती है।

 

प्रगतिशील भंडार (Growing Stock)

पर्वतीय क्षेत्र और पश्चिमी घाट विकास कार्यक्रम के लिए योजना आयोग द्वारा अपनाए गये मानदंडों के आधार पर “पर्वतीय तालुकाओं” के तहत 50 प्रतिशत से अधिक अपने भौगोलिक क्षेत्र के साथ एक जिला।

 

भूमि का आवरण (Land Cover)

उपग्रह आंकड़ों से व्यापक भूमि उपयोग के वर्ग की व्याख्या। इसमें बहुत ही घने जंगल, मध्यम घने जंगल, खुले वन, साफ़ वन और इस रिपोर्ट के प्रायोजन के लिए गैर वन शामिल हैं।

 

वनस्पतियां (मैन्ग्रोव)

नमक सहनीय सदाबहार वनीय पारिस्थितिकी तंत्र मुख्य रूप से उष्णकटिबंधीय और उप उष्णकटिबंधीय तटीय और / अंतर-ज्वारीय क्षेत्रों में पाये जाते हैं।

 

सदाबहार आवरण (मैन्ग्रोव क्षेत्र)

रिमोट सेंसिंग डाटा की व्याख्यानुसार सदाबहार वनस्पति के तहत आच्छादित। यह वन क्षेत्रों में शामिल है। जल निकाय और खाड़िया सदाबाहर आवरण में शामिल नहीं है।

 

मामूली घने जंगल (Moderately Dense Forest)

40 प्रतिशत या उससे अधिक और 70 प्रतिशत से कम के वन आवरण के एक क्षेत्र को  मामूली रूप से  घने जंगल कहा जाता है

 

जंगल क्षेत्र में शुद्ध परिवर्तन (Net Change in Forest Cover)

एक दिए गए क्षेत्र के लिए दो आकलन की अवधि में वन क्षेत्र में सकारात्मक और नकारात्मक परिवर्तन का योग।

 

खुले जंगल (Open Forest)

10 प्रतिशत या उससे अधिक और 40 प्रतिशत से कम के साथ वन आवरण के एक छत्र घनत्व की सभी भूमियों को कहा जाता है।

 

संरक्षित वन (Protected Forest (PF)

भारतीय वन अधिनियम या अन्य राज्यों के वन अधिनियम के प्रावधानों के अधीन अधिसूचित क्षेत्रों के पास सुरक्षा की सीमित सीमा होती है। कुछ रुकावटों के अलावा संरक्षित वन में सभी गतिविधियों की अनुमति होती है।

 

भौगोलिक क्षेत्र (Physiographic Zone)

एक भौगोलिक क्षेत्र उन भौगोलिक क्षेत्रों का गठन करता है जहा पेड़ वनस्पति के विकास के लिए जिम्मेदार कारकों में व्यापक समानता दिखती है। भौगोलिक क्षेत्रों देश में पेड़ आच्छादन का आकलन करने के लिए तबके के रूप में प्रयुक्त किये जाते हैं।

 

दर्ज किये गए वन क्षेत्र  Recorded Forest Area (RFA)

एक ही “वन क्षेत्र’ के रूप में यानी भौगोलिक क्षेत्र सरकार के रिकॉर्ड में वनों के रूप में दर्ज किया जाता है।

 

आरक्षित वन (आरएफ) Protected Forest (PF)

भारतीय वन अधिनियम या अन्य राज्यों के वन अधिनियम के प्रावधानों के अधीन अधिसूचित क्षेत्रों के पास सुरक्षा की सीमित सीमा होती है। निषिद्ध के अलावा संरक्षित वन में सभी गतिविधियों की अनुमति होती है।

 

स्क्रब (सफ़ाई)

अवक्रमित वन भूमि में 10 प्रतिशत से कम छत्र घनत्व कम होता है।

 

स्थानिक संकल्प (Spatial Resolution)

पृथ्वी की सतह पर न्यूनतम क्षेत्र जिसे उपग्रह संवेदक द्वारा कब्जा किया जा सकता है।

 

वर्णक्रमीय संकल्प (Spectral Resolution)

तरंग लंबाई की सीमा जिससे एक उपग्रह की छवि (इमेजिंग) प्रणाली का पता लगा सकते हैं। यह चौड़ाई और वर्णक्रम बंधन की संख्या को दर्शाता है। वर्णक्रमीय बंधन, अधिक से अधिक संकरे बंधन।

 

विषयगत नक्शे (Thematic Maps)

मानचित्र, आम तौर पर 1:50,000 के पैमाने पर वनों के प्रकार, प्रमुख प्रजातियों की रचना, छत्र घनत्व और अन्य भूमि के उस प्रयोग को दिखाता है जो हवाई तस्वीरों की व्याख्या का प्रयोग करके तथा जमीनी हकीकत द्वारा सत्यापित किया जाता है

 

वृक्ष

एक बड़े जंगली बारहमासी पौधे में एक सुपरिभाषित तना (बोले या ट्रंक) और न्यूनतम या अधिकतम सिरे होते हैं। इसमें बांस, ताड, फलों के पेड़ आदि भी शामिल हैं, और केले और लंबी झाड़ियां या बेल जैसे गैर बारहमासी, गैर जंगली प्रजातियां शामिल नहीं है। भंडार के बढ़ने और पेड़ों के आवरण का आकलन करने हेतु प्रयोजन के लिए केवल इन पेड़ों में 10 सेमी या उससे अधिक की आंचल ऊंचाई (DBH) से मापा जाता है।

 

जंगलों के बाहर वृक्ष (Trees Outside Forests (TOF)

मापे गये क्षेत्र के बाहर उगने वाले वृक्षों को जंगली क्षेत्र में दर्ज किया जाता है।

 

जनजातीय जिलों में (Tribal Districts)

जनजातीय उप-योजना (भारत सरकार) के तहत आदिवासी जिलों के रूप में चिह्नित जिले।

 

अवर्गीकृत वन (Unclassed Forests)

एक क्षेत्र जो जंगल के रूप में दर्ज है, लेकिन सुरक्षित या संरक्षित वन की श्रेणी में शामिल नहीं है। इस तरह के जंगलों की स्वामित्व स्थिति से एक से दूसरे राज्य में बदल जाती है।

 

बहुत घने वन (Very Dense Forest)

वन क्षेत्र में 70 प्रतिशत और उससे अधिक की एकछत्र घनत्व वाली भूमि।

पर्यावरण के अर्थ

पर्यावरण को वातावरण या स्थिति के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसमें एक व्यक्ति, जीव, या पौधे रहते हैं या कार्य करते हैं | “पर्यावरण” शब्द भौतिक और जैविक दुनिया के सभी तत्वों, साथ ही इन सबके बीच के सम्बन्धों को दर्शाता है। यह मनुष्य के जीवन चक्र में पूर्व प्रख्यात भूमिका निभाता है क्योंकि मानव जीवन पर्यावरण पर अत्यधिक निर्भर है| पर्यावरण के पास पर्यावरण उत्पादक मूल्य, सौंदर्यबोध / मनोरंजन मूल्य है;जिसे बाद में  “पर्यावरण हमारे लिए क्या करता है”

पर्यावरण उन स्थितियों का महायोग है जो हमें निश्चित समय और स्थान के आसपास घेरे हुए है | यह भौतिक, जैविक और सांस्कृतिक तत्वों की संपर्क प्रणाली से बना हुआ है जो कि आपस में व्यक्तिगत और सामूहिक रूप दोनों प्रकार से आपस में जुड़े हैं। पर्यावरण स्थितियों का कुल योग है जिसमे एक जीव को  जीवित रहना पड़ता है या जीवन प्रक्रिया को बनाए रखना होता है|  यह जीवित जीव की वृद्धि और विकास को प्रभावित करता है।

अन्य शब्दों में पर्यावरण उस परिवेश को दर्शाता है जो कि सजीवों को सभी तरफ से घेरे रहता है व उनके जीवन को प्रभावित करता है | यह वायुमंडल, जलमंडल, स्थलमंडल और जीवमंडल से बना होता है। इसके प्रमुख घटक मिट्टी, पानी, हवा, जीव और सौर ऊर्जा हैं। पर्यावरण ने एक आरामदायक जीवन जीने के लिए हमें सभी संसाधन प्रदान किए हैं ।

इस प्रकार, पर्यावरण का संदर्भ किसी भी चीज़ से है जोकि वस्तु के एकदम आस-पास है और उस पर सीधा प्रभाव डालती है |हमारा पर्यावरण उन चीजों या साधनों को दिखाता है जो हमसे भिन्न हैं और हमारे दैनिक जीवन या गतिविधि को प्रभावित करते हैं |

 

पर्यावरण के घटक:

पर्यावरण मुख्य रूप से वायुमंडल, जलमंडल, स्थलमंडल और जीवमंडल से बना होता है। लेकिन इन्हें साधारणतया दो प्रकार से विभजित किया जा सकता है जैसे की – सूक्ष्म पर्यावरणमैक्रो वातावरण | इसे दो अन्य प्रकार में विभाजित किया जा सकता है, शारीरिक और जैविक वातावरण के रूप में, जो नीचे चर्चा की गई है|

  • सूक्ष्म पर्यावरणका अर्थ है जीव का निकटतम स्थानीय वातावरण |
  • मैक्रो पर्यावरणका अर्थ है चारों ओर की सभी भौतिक और जैविक परिस्थितियों जो जीवों के आसपास बाह्य रूप से होते हैं |
  • भौतिक वातावरणसभी अजैविक कारकों या स्थितियों को दर्शाता है जैसे तापमान, प्रकाश, वर्षा, मिट्टी, खनिज आदि| यह वायुमंडल, स्थलमंडल और जलमंडल से बना होता है |
  • जैविक पर्यावरणमें सभी जैविक कारक या जीवित रूपों से बना होता है जैसे पौधे, जीव, सूक्ष्म जीव

पर्यावरण हमारे लिए क्या करता है?

  • प्रकृति के उत्पादक मूल्य:कच्चा माल जो की प्रयोग किया जाता है
  1. नई दवाओं के विकास के लिए
  2. औद्योगिक उत्पादों और

III. पर्यावरण हमारे लिए कच्चे पदार्थों का एक भंडार हैं जिनसे भविष्य में हजारों नए उत्पादों विकसित किए जा सकें|

सौन्दर्य और मनोरंजन का साधन: पर्यावरण हमारी सौंदर्य और मनोरंजन  जैसी जरूरतों का भी पूरा ख्याल रखता है इसके कई उदहारण हमारे दैनिक जीवन में मिलते रहते हैं |

• प्रकृति की विकल्प मान्यता : यदि  हम हमारे सभी संसाधनों का उपयोग कर लेते हैं सभी जीवों को मर देते हैं या वे पृथ्वी से विलुप्त हो जाते हैं, हवा प्रदूषित हो जाती है, भूमि बंजर हो जाती हैं, तथा पृथ्वी के हर कोने पर कूड़ा कचरा इकठ्ठा कर लेते हैं तो इतना तो तय है कि हम आगे आने वाली पीढ़ियों के लिए कुछ भी रहने लायक नहीं छोड़ रहे हैं|

हमारी वर्तमान पीढ़ी ने अपनी अर्थव्यवस्थाओं और जीवनशैली को जीवन की अव्यावहारिक पद्धति पर विकसित कर लिया है। हालांकि, प्रकृति ने हमें कई विकल्प प्रदान किए हैं कि किस तरह हम इन वस्तुओं व सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं। अब यदि जल्दी ही हम लोगों ने अपनी जरूरतों को काबू में नहीं किया तो आने वाले समय में इसके भयानक परिणाम सबको भुगतने होंगे|