पीएम मोदी ने हजीरा, सिलवासा और मुंबई में विभिन्न परियोजनाओं का शुभारंभ किया

0
85

राष्टीय न्यूज़

1.पीएम मोदी ने हजीरा, सिलवासा और मुंबई में विभिन्न परियोजनाओं का शुभारंभ किया:-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के दादरा और नागर हवेली के केंद्र की राजधानी मुंबई, हजीरा और सिलवासा का दौरा करेंगे। मुंबई में, वह भारतीय सिनेमा के राष्ट्रीय संग्रहालय के लिए नए भवन का उद्घाटन करेंगे और सभा को संबोधित करेंगे। म्यूजियम की स्थापना भारत के समृद्ध सिनेमाई इतिहास को प्रदर्शित करने के साथ-साथ सिनेमा के विकास के माध्यम से भारत के सामाजिक-सांस्कृतिक इतिहास को प्रदर्शित करने के लिए की गई है। यह विज़ुअल और ग्राफिक्स, फिल्म क्लिपिंग, प्रचार सामग्री और इंटरैक्टिव प्रदर्शनों की मदद से कहानी कहने की विधा में भारतीय सिनेमा की एक सदी से अधिक की अवशोषित यात्रा के माध्यम से आगंतुकों को ले जाएगा।हजीरा में, श्री मोदी एलएंडटी आर्मड सिस्टम्स कॉम्प्लेक्स राष्ट्र को समर्पित करेंगे। प्रधानमंत्री नवसारी में निराली कैंसर अस्पताल की आधारशिला भी रखेंगे। अल्ट्रा-आधुनिक निराली कैंसर अस्पताल नवसारी का पहला व्यापक कैंसर अस्पतालहोगा। इसका फायदा दक्षिण गुजरात और पड़ोसी राज्यों के कैंसर रोगियों को मिलेगा। सिलवासा में, प्रधानमंत्री साईली में मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखेंगे।  मेडिकल कॉलेज की स्थापना से दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव, और आसपास के क्षेत्रों में तृतीयक देखभाल सुविधाओं में सुधार होगा। श्री मोदी दमन और दादरा और नगर हवेली में विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए पट्टिका का अनावरण भी करेंगे। प्रधानमंत्री दादरा और नगर हवेली में सॉलिड वेस्ट के डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन, सेग्रीगेशन और प्रोसेसिंग के साथ-साथ एम-आरोग्य ऐप और डोर भी डिजिटल रूप से लॉन्च करेंगे।

2.भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन 2020 और 2021 में दो मानव रहित अंतरिक्ष अभियान भेजेगा:-

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने घोषणा की है कि वह अगले वर्ष दिसम्‍बर में और जुलाई 2021 में अं‍तरिक्ष में दो मानवरहित मिशन भेजेगा। इसरो के अध्‍यक्ष डॉ. के. सिवन ने बताया कि नवाचार और सृजनात्‍मकता को बढ़ावा देने तथा अंतरिक्ष यान उद्योग को सशक्‍त करने के लिए इसरो ने इस वर्ष कई योजनाएं बनाई हैं। उन्‍होंने कहा कि दिसम्‍बर 2021 में देश के पहले मानवचलित अंतरिक्षयान गगनयान में तीन अंतरिक्ष यात्रियों को सात दिनों के लिए अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। डॉ. सिवन ने बताया कि 2021 में गगनयान के मानवरहित परीक्षण मिशन में जानवरों की बजाय हिमोनॉयड्स यानी मानवाभ मशीन भेजी जाएगी।

3.भेल और लिबकॉइन भारत की पहली लिथियम आयन गीगा फैक्ट्री का निर्माण करेंगे:- 

 

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) और लिबकॉइन भारत में 1 जीडब्ल्यूएच लिथियम आयन बैट्री संयंत्र के निर्माण के लिए वार्ता कर रहे हैं। इस संयंत्र की क्षमता 30 जीडब्ल्यूएच तक बढ़ाई जाएगी। इसके साथ ही भारत ने ऊर्जा सुरक्षा और स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में अपनी प्रतिबद्धता को स्पष्ट किया है।भेल जल्द ही सुविधाओं, आरएंडडी अवसंरचना तथा अन्य तकनीकी – व्यवसायिक मामलों के अध्ययन के लिए उच्च अधिकारियों की एक टीम भेजेगी। टीम के मूल्यांकन और अनुशंसाओं के आधार पर संयुक्त उद्यम के गठन को आगे बढ़ाया जाएगा।इस परियोजना से ऊर्जा आत्मनिर्भरता आएगी तथा तेल आयात में कमी आएगी। यह परियोजना मेड बाई इंडिया फॉर इंडिया के तहत शुरू की जाएगी। इसके अतंर्गत प्रमुख मशीनों का निर्माण देश में किया जाएगा।दिल्ली सहित देश के कई नगर अपने प्रदूषण स्तर को कम करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। बिजली आधारित परिवहन व्यवस्था से उत्सर्जन में कमी आएगी। पिछले वर्ष के दौरान पूरे विश्व में बिजली से चलने वाली कारों की संख्या दस लाख तक पहुंच गई है और अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी ने 2030 तक पूरे विश्व में बिजली चालित कारों की संख्या 140 मिलियन होने का अनुमान लगाया है।

4.अंतरिक्ष में भारत की दिखेगी ताकत, चीन जैसे देशों को छोड़ेगा पीछे:-

ड़ोसी देश चीन ने चंद्रमा पर मानव भेजने के अपने मिशन को भले ही पूरा कर लिया है, लेकिन अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत उससे पीछे नहीं है। गगनयान की सफलता के बाद वह इससे काफी आगे निकल जाएगा। इसरो प्रमुख के. सिवान ने शुक्रवार को यह दावा किया। साथ ही कहा कि गगनयान के जरिए भारत अंतरिक्ष में ऐसी ताकत हासिल कर लेगा, जो अब तक किसी भी देश के पास नहीं है। वह गगनयान को चंद्रमा के साउथ पोल पर भेजेगा। अभी तक यहां किसी भी देश का यान नहीं पहुंचा है।इसरो प्रमुख ने इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में चंद्रयान-2 अभियान से जुड़ी जानकारी भी साझा की। उन्होंने बताया कि यह अभियान इस साल 25 मार्च से 30 अप्रैल के बीच अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर दिया जाएगा। इससे भी अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत की ताकत बढ़ेगी। चंद्रमा पर मानव को लेकर जाने वाले गगनयान को लेकर उन्होंने इस दौरान कुछ नई जानकारियां साझा की।

उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष पर भेजे जाने वालों की खोज शुरू हो गई है। इस काम में वायु सेना और दूसरी एजेंसियों को जिम्मेदारी दी गई है। हालांकि उन्होंने इस बात के संकेत दिए कि इनके लिए वायुसेना के ही किसी अनुभवी पायलट को मौका मिल सकता है।उन्होंने गगनयान के पहले परीक्षण यान को भेजे जाने की अवधि को आगे बढ़ाने के कारणों को भी साफ किया और कहा कि प्रयोग में ज्यादा समय लगने से इसके समय को आगे बढ़ाया गया है। वैसे भी यान की लांचिंग के लिए दो ही विडों ( समय) उपयुक्त है। पहला मार्च-अप्रैल का या फिर दिसंबर का। निश्चित ही देरी के चलते हमने इसे मार्च-अप्रैल से आगे बढ़ाकर दिसंबर कर दिया है। अब यह दिसंबर 2020 में जाएगा, जबकि दूसरा परीक्षण यान जुलाई 2021 के आसपास भेजा जाएगा। वहीं तीन अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गगनयान को दिसंबर 2021 में भेजा जाएगा।

परीक्षण यान में भेजे जाएगे रोबोट
इसरो प्रमुख ने गगनयान से पहले परीक्षण के तौर पर भेजे जाने वाले दोनों यानों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दोनों यानों में मानव की तरह सेंसटिव सेंसर वाले रोबोट भेजे जाएगे। उन्होंने कहा कि अब तक ऐसे यानों में किसी न किसी जीव को भेजा जाता था, लेकिन उससे कोई नतीजा नहीं मिल पा रहा था। इसे देखते हुए यह फैसला लिया गया है। यह परीक्षण इसलिए जरूरी होता है, क्योंकि इसके जरिए ही यह पता लगाया जाएगा, कि अंतरिक्ष में जाने पर मानव को किन-किन चुनौतियों का सामना करना होगा।

युवाओं को अंतरिक्ष से जुड़ी गतिविधियों से जोड़ने चलेगा अभियान
इसरो ने इस बीच युवाओं को अंतरिक्ष से जुड़ी गतिविधियों से जोड़ने के लिए एक व्यापक अभियान चलाने की भी घोषणा की है। इसरो के चेयरमैन के. सिवान ने बताया कि युवा वैज्ञानिक प्रोग्राम के तहत देश भर से अंतरिक्ष से जुड़ी गतिविधियों में रुचि रखने वाले लोगों की पहचान की जाएगी। जिन्हें इसरो के केंद्रों को दिखाया जाएगा। साथ ही उन्हें अंतरिक्ष को लेकर एक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इसे लेकर देश में छह इंक्यूवेटर सेंटर स्थापित किए जाएगे। इसके तहत पहला सेंटर अगरतला में स्थापित किया गया है। बाकी सेंटरों को भी जल्द ही स्थापित किया जाएगा।

 

खेल न्यूज़

5.खेलो इंडिया युवा खेलों में पहला स्‍वर्ण पदक गुजरात के देव जाविया ने जीता:-

पुणे में खेलो इंडिया युवा खेलों का पहला स्‍वर्ण पदक गुजरात के देव जाविया को मिला। पदक तालिका में महाराष्‍ट्र शीर्ष पर कायम है।गुजरात के देव जाविया ने खेलो इंडिया युवा प्रतियोगिता का आज का पहला स्‍वर्ण पदक जीता। अंडर-17 टेनिस में महाराष्‍ट्र के आर्यन भारतिया को हराया। अंडर-17 लड़कियों में महाराष्‍ट्र की गार्गी पंवार ने आंध्रप्रदेश की लक्ष्‍मी रेड्डी को हराकर कांस्‍य पदक जीता। पंजाब के अंडर-17 लड़कों और लड़कियों की टीम ने बॉस्‍केटबॉल फाइनल्‍स में प्रवेश किया है। खेलो इंडिया गेम्‍स में आज कबड्डी और  टेनिस के फाइनल्‍स तथा बॉस्‍केटबॉल, टेबल टेनिस, हॉकी और बॉलीबॉल के सेमीफाइनल्‍स होंगे। तीरंदाजी के प्रारंभिक और बॉक्सिंग के फाइनल मुकाबले भी नियोजित हैं।

6.धोनी की नाबाद 87 रनों की पारी ने भारत को ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक एकदिवसीय श्रृंखला में जीत दिलाई:-

महेंद्र सिंह धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऐतिहासिक एकदिवसीय द्विपक्षीय श्रृंखला जीत में भारत का मार्गदर्शन करने के लिए नाबाद 87 रन बनाए।  मेलबर्न में तीसरे निर्णायक मैच में दर्शकों ने मेजबान टीम को सात विकेट से हराया। धोनी और केदार जाधव ने 61 रन बनाकर चौथे विकेट के लिए नाबाद 121 रनों की साझेदारी की। भारत ने धीमे विकेट पर 231 रनों के लक्ष्य को चार गेंद शेष रहते हासिल कर लिया। भारत ने बनाए 234 रन। कप्तान विराट कोहली ने 46. शिखर धवन ने 23 और रोहित शर्मा ने नौ योगदानदिया। पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 230 रन बनाए। मेजबानों के लिए, पीटर हैंड्सकॉम्ब 58 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर थे। लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने छह विकेट लेने का दावा करने वाले ऑस्ट्रेलियाई शो को चुरा लिया। धोनी को मैन ऑफ द सीरीज और चहल को मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया। इससे पहले, भारत टेस्ट श्रृंखला जीतने के लिए उप-महाद्वीप से पहली टीम बन गई थी। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा कि बल्लेबाजी क्रम में उनकी कोई प्राथमिकता नहीं है और टीम की जरूरत के अनुसार किसी भी स्थिति में बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हैं। यह पहली बार है जब भारत तीनों प्रारूपों में ऑस्ट्रेलियाई धरती पर अजेय रहा और कोहली ने कहा कि यह आगामी विश्व कप के लिए अच्छा है।

 

बाजार न्यूज़

7.गुजरात रिलायंस की जन्मभूमि, अगले दस सालों में करेंगे 3 लाख करोड़ रुपये का निवेश: मुकेश अंबानी:-

रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने आने वाले वर्षों में गुजरात में भारी निवेश किए जाने की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए कहा कि उनकी कंपनी अगले 10 सालों के दौरान इस राज्य में 3 लाख करोड़ रुपये तक का निवेश करेगी। उन्होंने कहा कि रिलायंस की तरफ से किया जाने वाला निवेश ऊर्जा, पेट्रोकेमिकल्स से लेकर तकनीक और डिजिटल बिजनेस में होगा।

रिलायंस इंडस्ट्रीज गुजरात के जामनगर में दुनिया की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल्स रिफाइनरी चलाती है। वाइब्रेंट गुजरात समिट के 9वें संस्करण में अंबानी ने कहा, ‘गुजरात, रिलायंस की जन्मभूमि के साथ कर्मभूमि भी है। गुजरात हमेशा से हमारी प्राथमिकता में था और आगे भी रहेगा।’ हाल ही में रिलायंस ने टेलीकॉम बिजनेस में बड़ा निवेश किया है।अंबानी ने कहा, ‘हमने अभी तक राज्य में 3 लाख करोड़ रुपये तक का निवेश किया है, जिससे करीब दस लाख लोगों से अधिक को रोजगार मिला है। पिछले दशक के मुकाबले रिलायंस अगले दस सालों में दोगुने से अधिक का निवेश करेगी, जिससे रोजगार के मौके भी दोगुने होंगे।’ उन्होंने कहा कि जियो का नेटवर्क पूरी तरह से 5जी के लिए तैयार है और कंपनी का टेलीकॉम और रिटेल डिवीजन जल्द ही छोटे खुदरा दुकानदारों को जोड़ने के लिए नया कॉमर्स प्लेटफॉर्म बनाएगा। हालांकि उन्होंने इस बात की जानकारी नहीं दी कि जियो कब 5G की शुरुआत करेगा। जियो ने 2016 में टेलीकॉम बिजनेस की शुरुआत की थी।

अंबानी ने कहा, ‘आज गुजरात जियो के 4जी वायरलेस ब्रॉडबैंक नेटवर्क की मिसाल पेश करता है। जियो का नेटवर्क 5जी के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसका मतलब यह हुआ कि गुजरात आने वाले दिनों में भी डिजिटल कनेक्विविटी के मोर्च पर अग्रणी बना रहेगा।’ उन्होंने कहा कि रिलायंस फाउंडेशन पंडित दीनदयाल यूनिवर्सिटी में 150 करोड़ु रुपये का निवेश करेगा।हाल ही में रिलायंस एक तिमाही में 10,000 करोड़ रुपये मुनाफा कमाने वाली पहली भारतीय कंपनी बनने में सफल रही है। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में देश की सबसे बड़ी पेट्रोकेमिकल कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने विश्लेषकों के अनुमान को धत्ता बताते हुए 10,251 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है।सालाना आधार पर कंपनी के मुनाफे में 9 फीसद की वृद्धि हुई है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी को 9,420 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। इसके साथ ही रिलायंस 10,000 करोड़ रुपये मुनाफा कमाने वाली कंपनियों के क्लब में शामिल हो गई है। रिलायंस ऐसी पहली भारतीय कंपनी है।

तीसरी तिमाही में कंपनी के राजस्व में 56 फीसद का इजाफा हुआ है और यह बढ़कर 171,336 करोड़ रुपये हो गया।

8.टेलीकॉम के बाद ई-कॉमर्स बिजनेस में उतरेंगे मुकेश अंबानी, एमेजॉन और वॉलमार्ट को मिलेगी टक्कर:-

एमेजॉन और वॉलमार्ट को टक्कर देने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ऑनलाइन शॉपिंग के क्षेत्र में कदम रखेगी। ऑनलाइन बिजनेस का खाका सार्वजनिक करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि समूह की दो कंपनियां रिलायंस रिटेल और जियो इन्फोकॉम संयुक्त रूप से देश में नए ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म की शुरुआत करेंगी।वाइब्रेंट गुजरात समिट के 9वें संस्करण को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा कि रिलायंस की इस पहल से सबसे पहले गुजरात जुड़ेगा। उन्होंने कहा कि इससे राज्य के करीब 12 लाख खुदरा व्यापारी और स्टोर ऑनर्स जुड़ेंगे।गौरतलब है कि चालू वित्त वर्ष की दिसंबर तिमाही के नतीजों में कंपनी ने पहली बार कंज्यूमर बिजनेस विशेषकर टेलीकॉम और रिटेल ऑपरेशंस से होने वाली कमाई का जिक्र किया है। कंपनी ने बताया है कि उसकी कुल कमाई में इन क्षेत्रों से एक चौथाई की मदद मिली। वहीं पेट्रोकेमिकल्स से 42 फीसद जबकि रिफाइनिंग से 26 फीसद राजस्व कमाने में मदद मिली।रिलायंस की 41वीं सालाना बैठक को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा था कि उनकी कंपनी की कोशिश 2025 तक राजस्व को दोगुना करने की है। उन्होंने कहा कि यह इसलिए संभव हो पाएगा क्योंकि रिटेल और टेलीकॉम बिजनेस का राजस्व हाइड्रोकार्बन बिजनेस की बराबरी में पहुंच जाएगा।2017-18 में कंपनी ने कुल 430,731 करोड़ रुपये का राजस्व कमाया था, जिसमें कंपनी को शुद्ध रूप से 36,075 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में कंपनी को शुद्ध 10,251 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है।

भारत में ई-कॉमर्स सर्वाधिक तेजी से बढ़ने वाला बिजनेस है और इस सेक्टर में एमेजॉन और वॉलमार्ट सबसे बड़ी कंपनी है। 2010 से 2014 के बीच भारत का ई-कॉमर्स 209 फीसदी की ग्रोथ रेट से आगे बढ़ा है। 2010 में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री करीब 20,020 करोड़ रुपये का था जो 2014 में बढ़कर 83,096 करोड़ रुपये का हो गया।सीआईआई और डेलॉएट की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2020 तक भारत में ऑनलाइन रिटेल इंडस्ट्री के 6.6 लाख करोड़ रुपये के होने की उम्मीद है। वहीं केपीएमजी के अनुमान के मुताबिक यह 7.78 लाख करोड़ रुपये का हो सकता है।