प्रख्‍यात अभिनेत्री वहीदा रहमान को भारतीय सिनेमा में उनके शानदार योगदान के लिए इस साल के दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा

0
60

1 प्रख्‍यात अभिनेत्री वहीदा रहमान को भारतीय सिनेमा में उनके शानदार योगदान के लिए इस साल के दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने घोषणा की कि प्रख्‍यात अभिनेत्री वहीदा रहमान को इस साल दादा साहब फाल्के लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्‍मानित किया जाएगा। श्री ठाकुर ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि वहीदा रहमान को भारतीय सिनेमा में उनके शानदार योगदान के लिए यह प्रतिष्ठित पुरस्कार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वहीदा रहमान को प्यासा, कागज के फूल, चौदहवी का चांद, साहेब बीवी और गुलाम, गाइड, खामोशी और कई अन्य हिंदी फिल्मों में उनकी भूमिकाओं के लिए समीक्षकों द्वारा सराहा गया है।

2 रसायन और उर्वरक मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने नई दिल्ली में फार्मा-मेडटेक के क्षेत्र में अनुसंधान, विकास और नवाचार पर राष्ट्रीय नीति की शुरूआत की

रसायन और उर्वरक मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने नई दिल्ली में भारत में फार्मा-मेडटेक के क्षेत्र में अनुसंधान, विकास और नवाचार पर राष्ट्रीय नीति की शुरूआत की। श्री मांडविया ने फार्मा मेडटेक (MedTech) सेक्टर में अनुसंधान और नवाचार को प्रोत्‍सा‍हन देने की योजना भी शुरू की। इस योजना का उद्देश्य भारत को फार्मा और मेडटेक उद्योग के लिए वैश्विक केंद्र के रूप में विकसित करना है, जिससे सात राष्ट्रीय फार्मास्युटिकल शिक्षा और अनुसंधान संस्थानों में यह उत्कृष्टता केंद्र भी स्थापित करेगा।

3 पूर्व अधिकारी अमित खरे को सेवा विस्तार देकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी का सलाहकार बनाया गया

पूर्व अधिकारी अमित खरे को सेवा विस्‍तार देकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी का सलाहकार बनाया गया है। कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि कैबिनेट की नियुक्ति‍यों से संबंधित समिति ने श्री खरे की सेवा को 12 अक्‍टूबर 2023 से आगे विस्‍तार देने के लिए स्‍वीकृति दे दी है। उन्‍हें अक्‍टूबर 2021 में दो वर्षों के लिए नियुक्‍त किया गया था। 1985 बैच के झारखण्‍ड कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री खरे को 30 सितम्‍बर 2021 को सेवा विस्‍तार दिया गया था।

4 भारत ने सीमा सड़क श्रमिकों के लिए अभूतपूर्व नीति का किया अनावरण

देश की दूरस्थ सीमाओं पर अपने बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के मिशन पर भारत ने हाल ही में सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा नियोजित आकस्मिक श्रमिकों के जीवन को बेहतर बनाने के उद्देश्य से एक अभूतपूर्व नीति का अनावरण किया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस नीति को मंजूरी दी, जो न केवल नश्वर अवशेषों के संरक्षण और परिवहन को संबोधित करती है, बल्कि अंतिम संस्कार के खर्च को भी बढ़ाती है। यह कदम चुनौतीपूर्ण इलाकों में इन व्यक्तियों द्वारा किए गए काम की खतरनाक प्रकृति पर जोर देता है। अब तक, सरकारी खर्च पर शवों को संरक्षित करने और परिवहन की सुविधा विशेष रूप से बीआरओ के जनरल रिजर्व इंजीनियर फोर्स (GREF) कर्मियों के लिए उपलब्ध थी। हालांकि, आकस्मिक मजदूरों के अमूल्य योगदान को पहचानते हुए, यह नीति उन्हें भी यह विशेषाधिकार प्रदान करती है।

5 पूर्वोत्तर के मिथुन को मिला ‘फूड एनिमल’ का टैग

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने हाल ही में मिथुन को ‘खाद्य पशु’ के रूप में मान्यता दी है, जिससे इसके व्यावसायिक उपयोग के लिए दरवाजे खुल गए हैं। मिथुन को ‘फूड एनिमल’ के रूप में मान्यता और इसके मांस को एक वाणिज्यिक उत्पाद के रूप में बढ़ावा देने के प्रयासों से वास्तव में इस क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण आर्थिक और सांस्कृतिक प्रभाव पड़ सकते हैं। मिथुन पूर्वोत्तर भारत में पाई जाने वाली एक मनोरम और सांस्कृतिक रूप से महत्वपूर्ण गोजातीय प्रजाति है। स्वदेशी समुदायों, पारिस्थितिक संतुलन और स्थानीय परंपराओं की आजीविका में इसकी भूमिका इसे अत्यधिक महत्व की प्रजाति बनाती है जो संरक्षण और टिकाऊ प्रबंधन प्रयासों की आवश्यकता है।

6 मेघालय ने सीएम एलिवेट कार्यक्रम शुरू किया

मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड के. संगमा ने शिलांग में अभूतपूर्व सीएम एलिवेट कार्यक्रम का उद्घाटन किया, जो उद्यमिता को बढ़ावा देने, रोजगार को बढ़ावा देने और राज्य के भीतर आर्थिक विकास को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। नवाचार और आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू की गई इस पहल का उद्देश्य अगले तीन वर्षों में लगभग 300 करोड़ रुपये के पर्याप्त निवेश के साथ विभिन्न क्षेत्रों में 20,000 से अधिक व्यक्तियों के लिए उद्यमिता के अवसर पैदा करना है। सीएम एलिवेट कार्यक्रम तीन प्रमुख उद्देश्यों पर केंद्रित है:
सहभागिता: उद्यमिता में युवाओं की सक्रिय भागीदारी को प्रोत्साहित करना।
रोजगार: मेघालय के युवाओं के लिए रोजगार के पर्याप्त अवसर पैदा करना।
सशक्तिकरण: राज्य में आर्थिक वृद्धि और विकास को सुगम बनाना।

7 अनुसूचित जाति और अन्य के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना और अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए पोस्ट-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना (पीएमएस-एससी)

अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना (पीएमएस-एससी) भारत में पढ़ाई के लिए एससी छात्रों के लिए एक केंद्र प्रायोजित योजना है, जिनके माता-पिता/अभिभावक की आय 2.5 लाख रुपये प्रति वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। इस योजना का उद्देश्य अनुसूचित जाति के छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करना और सबसे गरीब परिवारों पर ध्यान केंद्रित करते हुए उच्च शिक्षा में अनुसूचित जाति के छात्रों के सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) में उल्लेखनीय वृद्धि करना है। सरकार का प्रयास है कि वित्तीय वर्ष 2025-26 तक उच्च शिक्षा में अनुसूचित जाति का जीईआर 23.0 प्रतिशत से बढ़ाकर राष्ट्रीय औसत तक लाया जाए। अनुसूचित जाति और अन्य के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना एक केंद्र प्रायोजित योजना है। इसका उद्देश्य अनुसूचित जाति के बच्चों और वैसे बच्चों के लिए प्री-मैट्रिक स्तर पर साक्षरता और निर्बाध शिक्षा को बढ़ावा देना है, जिनके माता-पिता/अभिभावक साफ-सफाई और जोखिम भरे काम में लगे हैं। ‘एससी और अन्य के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना’ और ‘पीएमएस-एससी’ को संशोधित किया गया है। इन योजनाओं के कार्यान्वयन को और मजबूत करने के लिए निम्नलिखित कदम उठाए गए हैं:
अनुसूचित जाति और अन्य के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत फंडिंग पैटर्न: यह योजना केंद्र और राज्य के बीच 60:40 (पूर्वोत्तर राज्यों, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के मामले में 90:10 और विधानसभा रहित केंद्र शासित प्रदेश के मामले में 100:0) के निश्चित साझा पैटर्न पर आधारित है।
पीएमएस-एससी के अंतर्गत फंडिंग पैटर्न: वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान फंडिंग पैटर्न को प्रतिबद्ध दायित्व की अवधारणा से संशोधित करके केंद्र और राज्यों के बीच 60:40 के निश्चित साझाकरण पैटर्न (पूर्वोत्तर राज्यों के मामले में 90:10) कर दिया गया है।

8 चतुर्थ लिंग संवाद (Fourth Gender Samvaad) का आयोजन किया गया

दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (DAY-NRLM) और इंस्टीट्यूट फॉर व्हाट वर्क्स टू एडवांस जेंडर इक्वेलिटी (IWWAGE) की एक सहयोगी पहल, ‘लिंग संवाद’ के चौथे संस्करण ने एक आभासी कार्यक्रम में हजारों प्रतिभागियों को एक साथ लाया। इस मंच का उद्देश्य भारत में DAY-NRLM की लिंग-केंद्रित पहलों के बारे में जागरूकता पैदा करना है, जिसमें राज्यों और स्वयं सहायता समूह (SHG) के सदस्यों की आवाज़ को बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया गया है। ग्रामीण विकास मंत्रालय, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, बिहार सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों, राज्य सरकार के अधिकारियों, चिकित्सकों, लिंग विशेषज्ञों, शिक्षाविदों, नागरिक समाज के प्रतिनिधियों और एसएचजी सदस्यों सहित 8000 से अधिक प्रतिभागियों ने इसमें भाग लिया।

9 हाइफ़ा की लड़ाई की 105वीं वर्षगांठ मनाई गई

हर साल 23 सितंबर को, इज़रायल में भारतीय दूतावास के राजनयिक और इज़रायली सरकारी अधिकारी 1918 में हाइफ़ा की लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भारतीय सैनिकों को सम्मान देने के लिए हाइफ़ा युद्ध स्मारक में इकट्ठा होते हैं। यह वार्षिक स्मरणोत्सव 105वीं वर्षगांठ का प्रतीक है। वह युद्ध, जहां भारतीय सैनिकों ने विदेशी भूमि पर असाधारण वीरता का प्रदर्शन किया। नौ दशकों से अधिक समय तक, हाइफ़ा की लड़ाई और भारतीय सैनिकों के योगदान को काफी हद तक भुला दिया गया, इतिहास की किताबों और अभिलेखागार के कोनों तक ही सीमित रखा गया। भारतीय सेना के पूर्व अधिकारी और ‘द स्टोरी ऑफ़ द जोधपुर लांसर्स’ के लेखक ब्रिगेडियर एम एस जोधा ने हाइफ़ा की लड़ाई को सबसे आगे लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके दादा, लेफ्टिनेंट कर्नल अमन सिंह, ने 1918 में हाइफ़ा में जोधपुर लांसर्स द्वारा प्रसिद्ध घुड़सवार सेना का नेतृत्व किया था। जोधा के 20 वर्षों से अधिक के व्यापक शोध ने भारतीय सैनिकों के योगदान पर प्रकाश डाला, अंततः भारतीय और इजरायली सरकारों दोनों से मान्यता प्राप्त की।

10 भारत-कनाडा मुद्दे में फ़ाइव आइज़ गठबंधन की भूमिका

कनाडा में अलगाववादी नेता हरमीत सिंह निज्जर की हत्या के आरोप से भड़के भारत-कनाडा मुद्दे ने फाइव आइज़ एलायंस का ध्यान आकर्षित किया है। अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और न्यूजीलैंड के इस खुफिया-साझाकरण गठबंधन ने विवाद को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। फ़ाइव आइज़ अलायंस की उत्पत्ति द्वितीय विश्व युद्ध से मानी जाती है जब ब्रिटेन और अमेरिका ने जर्मन और जापानी कोड को सफलतापूर्वक तोड़ने के बाद खुफिया जानकारी साझा करने का निर्णय लिया था। प्रारंभिक ब्रिटेन-यूएसए (ब्रूसा) समझौता अमेरिकी युद्ध विभाग और यूके की खुफिया और सुरक्षा एजेंसी, गवर्नमेंट कोड एंड साइफर स्कूल (जीसी एंड सीएस) के बीच स्थापित किया गया था। इस समझौते का उद्देश्य खुफिया जानकारी साझा करना, यूरोप में अमेरिकी बलों का समर्थन करना, कर्मियों का आदान-प्रदान करना और संवेदनशील सामग्री को संभालने के लिए संयुक्त नियम विकसित करना है। ब्रूसा समझौते ने यूके-यूएसए (यूकेयूएसए) समझौते के लिए आधार तैयार किया, जिस पर आधिकारिक तौर पर 1946 में हस्ताक्षर किए गए थे। कनाडा 1949 में गठबंधन में शामिल हुआ, उसके बाद 1956 में न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया ने फाइव आइज़ का गठन किया। जबकि समझौते का अस्तित्व 1980 के दशक से ज्ञात था, 2010 में यूकेयूएसए समझौते की फाइलें जारी होने तक इसे आधिकारिक तौर पर स्वीकार नहीं किया गया था।

11 विश्व की सबसे पुरानी लकड़ी की संरचना की खोज की गई

पुरातत्वविदों ने जाम्बिया और तंजानिया की सीमा के पास एक उल्लेखनीय खोज की है, जिससे दुनिया की सबसे पुरानी ज्ञात लकड़ी की संरचना का पता चला है। जाम्बिया में एक नदी के किनारे पाई गई यह प्राचीन लकड़ी की रचना, हमारे दूर के पूर्वजों की सरलता और संसाधनशीलता में आकर्षक अंतर्दृष्टि प्रदान करती है। इस संरचना में एक बड़े फल वाले विलो पेड़ से दो इंटरलॉकिंग लॉग हैं। पुरातात्विक साक्ष्य इंगित करते हैं कि इन लट्ठों को नुकीले पत्थर के औजारों का उपयोग करके सावधानीपूर्वक आकार दिया गया था। अनुमान है कि यह संरचना 4,76,000 वर्ष से अधिक पुरानी है, जो काफी हद तक आधुनिक मनुष्यों के अस्तित्व से पहले की है।

12 पंजाब के अमृतसर में उत्तरी क्षेत्रीय परिषद की 31वीं बैठक

केंद्रीय गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने पंजाब के अमृतसर में उत्तरी क्षेत्रीय परिषद की 31वीं बैठक की अध्यक्षता की। पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री, दिल्ली, जम्मू कश्मीर और लद्दाख के उपराज्यपाल, चंडीगढ़ के प्रशासक, सदस्य राज्यों के वरिष्ठ मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी बैठक में शामिल हुए। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि पिछले 5 वर्षों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में क्षेत्रीय परिषदों की भूमिका सलाहकार प्रकृति से बदलकर कार्रवाई मंच में बदल गई है। उन्होंने कहा कि देश के विकास और सुरक्षा की दृष्टि से उत्तरी आंचलिक परिषद का महत्वपूर्ण स्थान है। श्री शाह ने कहा कि देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और सेना में अधिकांश कर्मी उत्तरी क्षेत्रीय परिषद के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से आते हैं। उत्तरी क्षेत्रीय परिषद में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और केंद्र शासित प्रदेश दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और चंडीगढ़ शामिल हैं। बैठक का आयोजन गृह मंत्रालय के अधीन अंतर-राज्य परिषद सचिवालय और पंजाब सरकार के सहयोग से किया जा रहा है।

13 सिक्किम के मुख्यमंत्री ने मंगन जिले में चैटन-टू जलविद्युत संयंत्र का उद्घाटन किया

सिक्किम के मुख्यमंत्री पी एस तमांग ने मंगन जिले के चैटन लाचेन में सिक्किम पावर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा विकसित चैटन-टू जलविद्युत संयंत्र का उद्घाटन किया। इस अवसर पर श्री तमांग ने सिक्किम के सतत विकास और आर्थिक कल्याण में परियोजना के महत्व पर प्रकाश डाला। मंगन में जनता भेट कार्यक्रम में उन्होंने जिले के अपने चार दिवसीय दौरे के दौरान जनता की शिकायतों का समाधान करने का आश्वासन दिया। तीन मेगावाट की क्षमता वाली चैटन-टू जलविद्युत परियोजना, एक रन-ऑफ-द-रिवर परियोजना है, जिसमें चाग्याचू नदी के पानी का उपयोग किया जाता है। लगभग आठ हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित यह परियोजना लगभग पैंतीस करोड तीस लाख रुपये की लागत से बनाई गई है।

14 अंतरराष्‍ट्रीय वित्त निगम ने भारत में जलवायु निवेश के लिए वित्तिय संसाधनों पर जारी की एक रिपोर्ट

अतंरराष्‍ट्रीय वित्त निगम ने जलवायु परिवर्तन के असर से निपटने के लिए भारत के प्रयासों की सराहना की है। इसके लिए पर्यावरण अनुकूल गतिविधियों को वित्तीय समर्थन देने में नी‍तिगत उपाये किये गये। अंतरराष्‍ट्रीय वित्त निगम ने आज भारत में जलवायु निवेश के लिए वित्तिय संसाधनों पर एक रिपोर्ट जारी की है। इसमें कहा गया कि भारत ने जलवायु कार्रवाइयों में उल्‍लेखनिय प्रगति की है जिससे 2030 से पहले राष्‍ट्रीय निर्धारित योगदान को प्राप्‍त करने का मार्ग प्रसस्‍त हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने 2015 में प्राथमिकता क्षेत्र में ऋण संबंधी योजना में छोटे नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र को शामिल किया । ग्रीन बॉड जारी होने से भारत उभरती अर्थव्‍यस्‍थाओं में दूसरा सबसे बडा ग्रीन बॉड बाजार बन गया है। नि‍जी कम्‍पनियों और सार्वजनिक कम्‍पनियों द्वारा 10 अरब अमरीकी डॉलर से अधिक मूल्‍य के ग्रीन बॉड जारी किये गये हैं। रिपोर्ट में 26वें अतंरराष्‍ट्रीय जलवायु परिवर्तन सम्‍मेलन में भारत की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंचामृत प्रतिबद्धताओं का भी उल्‍लेख किया गया है।

15 भारत और दक्षिण कोरिया के बीच राजनयिक संबंधों के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर सिओल में भारतीय दूतावास ने कार्यक्रम का आयोजन किया

भारत और दक्षिण कोरिया के बीच राजनयिक संबंधों के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर सिओल में भारतीय दूतावास ने एक कार्यक्रम का आयोजन किया। दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक संबंध हैं। भारतीय दूतावास की ओर से शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर अंतर्राष्‍ट्रीय बौद्ध महासंघ ने कोरियाई विदेश मंत्रालय और गिमहाए शहर प्रशासन के सहयोग से बौद्ध धर्म से संबंधित एक पुस्‍तक का विमोचन किया। इस कार्यक्रम में बहुत से प्रतिष्ठित और वरिष्‍ठ बौद्ध भिक्षुओं, सरकार के प्रतिनिधियों, प्रसिद्ध शिक्षाविदों और बुद्धिजीवियों ने भाग लिया। दक्षिण कोरिया में भारत के राजदूत श्री अमित कुमार ने कार्यक्रम की अध्‍यक्षता की।

16 मछली की नई प्रजाति की खोज

हाल ही में भारतीय प्राणी सर्वेक्षण (ZSI) के वैज्ञानिकों ने पश्चिम बंगाल के दीघा मोहना से गहरे पानी में चमकीले नारंगी रंग की समुद्री मछली की एक नई प्रजाति की खोज की है। यह नई प्रजाति, जिसे आमतौर पर गर्नार्ड्स या सी-रॉबिन्स के नाम से जाना जाता है, ट्राइग्लिडे परिवार से संबंधित है। मछली का नाम प्टेरीगोट्रिग्ला इंटरमेडिका (Pterygotrigla Intermedica) है, इसके लक्षण Pterygotrigla hemistictus जैसी प्रजाति से काफी मिलते-जुलते हैं। विश्व भर में ट्राइग्लिडे परिवार की कुल 178 प्रजातियाँ मौजूद हैं। आतंरिक सतह पर काली झिल्लियों वाला एक विशिष्ट पेक्टोरल-फिन, पिछला सफेद किनारा और फिन के मध्य भाग में तीन छोटे सफेद धब्बे इसे औरों से अलग बनाते हैं। यह नई समुद्री मछली भारत में पाई की जाने वाली “प्टेरीगोट्रिग्ला” जीनस की चौथी प्रजाति है। यह भारत में अद्वितीय समुद्री पारिस्थितिक तंत्र की हमारी समझ को बेहतर बनाने में मदद करेगी तथा समुद्री जैवविविधता के मामले में देश की मज़बूत स्थिति को रेखांकित करेगी।

17 नासा का पहला क्षुद्रग्रह नमूना पृथ्वी पर लाया गया

8 सितंबर 2016 को लॉन्च किये गए नासा के ऑरिजिंस, स्पेक्ट्रल इंटरप्रिटेशन, रिसोर्स आइडेंटिफिकेशन और सिक्योरिटी-रेजोलिथ एक्सप्लोरर (OSIRIS-REx) अंतरिक्ष यान की सहायता से पृथ्वी के निकटीय क्षुद्रग्रह बेन्नु (पूर्व में 1999 RQ36) से क्षुद्रग्रह के पहले नमूनों को सफलतापूर्वक पृथ्वी पर लाया गया है। सात वर्ष की लंबी यात्रा के बाद यह अंतरिक्ष यान 4.5 अरब वर्ष पुराने बहुमूल्य नमूने लेकर आया है। पृथ्वी के निकट से तीव्रता से गुज़रने के दौरान ओसिरिस-रेक्स नमूना कैप्सूल रिलीज़ किया गया, यह क्षुद्रग्रह नमूनों को संरक्षित करते हुए संयुक्त राज्य अमेरिका के यूटा रेगिस्तान में सुरक्षित रूप से लैंड हुआ। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि इस कैप्सूल में कार्बन-समृद्ध क्षुद्रग्रह बेन्नु का मलबा है, जो मात्रा में कम से कम एक कप जितना हो सकता है। यह नमूना 4.5 अरब वर्ष पूर्व की पृथ्वी और जीवन के बारे में अमूल्य जानकारी प्रदान करेगा। ओसिरिस-रेक्स अपनी उड़ान और मिशन जारी रखेगा, यह वर्ष 2029 में एपोफिस नामक एक अन्य क्षुद्रग्रह तक पहुँच कर उसका अध्ययन करेगा।

18 हांगचोओ में एशियाई खेलों में घुड़सवारी ड्रेसेज टीम स्पर्धा में भारत ने ऐतिहासिक स्वर्ण पदक जीता

चीन के हांगचोओ में 19वें एशियाई खेलों में भारत ने तीसरा स्‍वर्ण पदक जीता। घुडसवारी की ड्रे‍सेज टीम स्‍पर्धा में सुदीप्ति हजेला, दिव्याकृति सिंह, हृदय छेदा और अनुष अग्रवाल की चौकडी ने पहला स्‍थान हासिल किया। भारत को 41 साल बाद घुड़सवारी में गोल्ड मेडल मिला है। भारतीय घुडसवारी टीम को ऐतिहासिक स्‍र्णिम कामयाबी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी है। उधर, नौकायन में नेहा ठाकुर ने लड़कियों की आईएलसीए-4 डिंगी स्पर्धा में रजत पदक हासिल किया। पुरूषों की विंडसरफर स्‍पर्धा में एबदाद अली ने कांस्‍य पदक पर कब्‍जा किया। पदक तालिका में भारत अब तक तीन स्‍वर्ण, चार रजत और सात कांस्‍य पदकों सहित कुल चौदह पदक जीतकर सातवें स्‍थान पर है।

19 भारतीय टीम वनडे फॉर्मेट में 3000 छक्के लगाने वाली पहली टीम बनी

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) ने ऑस्ट्रेलिया (Australia Cricket Team) के खिलाफ चल रही मौजूदा वनडे सीरीज के दूसरे मैच में बहुत सारे नए रिकॉर्ड बनाए हैं। इस मैच में भारत ने कुल 18 छक्के लगाए और इसी के साथ भारतीय टीम वनडे इतिहास में 3000 छक्के लगाने वाली दुनिया की पहली क्रिकेट टीम बन गई है। वेस्टइंडीज 2953 छक्कों के साथ सूची में दूसरे स्थान पर है, जबकि पाकिस्तान 2566 छक्कों के साथ तीसरे स्थान पर है। हैरानी की बात यह है कि ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी क्रिकेट की ताकतें, जो अपनी आक्रामक खेल शैली के लिए जानी जाती हैं, इस विशेष आंकड़े में शीर्ष तीन में शामिल नहीं हैं।

20 विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस 2023

हर साल 26 सितंबर को, विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस मनुष्यों और उनके पर्यावरण के बीच जटिल संबंधों को उजागर करने के लिए मनाया जाता है। यह वार्षिक पालन हमारे कल्याण पर हमारे परिवेश के गहन प्रभाव पर जोर देता है और इसका उद्देश्य दुनिया भर में स्वस्थ और सुरक्षित समुदायों को बढ़ावा देना है। इस वर्ष के विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस का थीम “Global Environmental Public Health: Standing up to protect everyone’s Health each and every day” है, जो वैश्विक पर्यावरणीय चुनौतियों को लगातार संबोधित करके प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य की रक्षा करने की सामूहिक जिम्मेदारी को रेखांकित करता है।