प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल में पांच वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

0
20

1 राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नई दिल्ली में रक्षा अलंकरण समारोह में 84 सेवारत और सेवानिवृत्त सशस्त्र कर्मियों को विशिष्ट सेवा पुरस्कार प्रदान किए

राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु, जो सशस्त्र बलों की सर्वोच्च कमांडर हैं, ने 27 जून, 2023 को नई दिल्ली में आयोजित रक्षा अलंकरण समारोह (चरण- II) के दौरान सशस्त्र बलों और भारतीय तटरक्षक बल के 84 सेवारत और सेवानिवृत्त कर्मियों को विशिष्ट सेवा पुरस्कार प्रदान किए। राष्ट्रपति ने असाधारण क्रम की विशिष्ट सेवा के लिए कर्मियों को 52 अति विशिष्ट सेवा पदक (एवीएसएम), वन बार टू एवीएसएम, तीन उत्तम युद्ध सेवा पदक (यूवाईएसएम) और 28 परम विशिष्ट सेवा पदक (पीवीएसएम) से सम्मानित किया।

2 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल में पांच वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल के रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से देश की 5 नई वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने सबसे पहले रांची-पटना, धारवाड़-केएसआर बेंगलुरु और गोवा (मडगांव)-मुंबई को वर्चुअल माध्यम से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके बाद श्री मोदी ने मध्यप्रदेश की दो वंदे भारत ट्रेन भोपाल-इंदौर और भोपाल -जबलपुर को झंडी दिखाई। ये दोनों ट्रेन एक साथ रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से रवाना हुईं। प्रधानमंत्री भोपाल में ‘मेरा बूथ, सबसे मजबूत’ अभियान के तहत 543 लोकसभाओं के 10 लाख और मध्यप्रदेश के 64 हजार 100 बूथ के कार्यकर्ताओं को डिजिटली संबोधित कर रहे हैं।

3 टाइम्स एशिया रैंकिंग 2023: भारतीय विश्वविद्यालयों में आईआईएससी शीर्ष पर

टाइम्स हायर एजुकेशन (THE) की 2023 की एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग जारी हो गई है। जिसमें 18 भारतीय विश्वविद्यालयों ने शीर्ष 200 में अपनी जगह बनाई है। भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC) 48वें स्थान पर है, वहीं IISC भारतीय संस्थानों में नंबर-1 पर भी है। हालांकि, पिछले साल की तुलना में आईआईएससी की रैंक में 6 स्थानों की गिरावट आई है। चीन की सिंघुआ यूनिवर्सिटी ने रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया है और लगातार चौथे साल अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है। दूसरे स्थान पर चीन की पेकिंग यूनिवर्सिटी है, जो लगातार चौथे साल भी दूसरे स्थान पर है। तीसरे स्थान पर नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर है, जिसने लगातार चौथे साल भी अपना स्थान बरकरार रखा है।

4 हैदराबाद के पास स्लुइस में 1,000 साल पुरानी जैन मूर्तियां मिलीं

जैन तीर्थंकरों की मूर्तियों और शिलालेखों वाले दो वर्गाकार स्तंभ हैदराबाद के बाहरी इलाके में रंगारेड्डी जिले के मोइनाबाद मंडल के एनिकेपल्ली गांव में उपेक्षित पड़े पाए गए। पुरातत्वविद् और प्लेच इंडिया फाउंडेशन के सीईओ ई. शिवनागिरेड्डी ने कहा कि उन्होंने युवा पुरातत्वविद् और विरासत कार्यकर्ता पी. श्रीनाथ रेड्डी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर मौके का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि उन्हें दो स्तंभ मिले, एक ग्रेनाइट का और दूसरा काले बेसाल्ट का, जिसके चारों किनारों पर चार जैन तीर्थंकरों- आदिनाथ, नेमिनाथ, पार्श्वनाथ और वर्धमान महावीर की बैठी हुई ध्यान मुद्रा में मूर्तियां खुदी हुई थीं। स्तंभों को शीर्ष पर कीर्तिमुखों से सजाया गया है। दोनों स्लैबों पर तेलुगु-कन्नड़ लिपि में शिलालेख हैं, जिनमें से कुछ को पढ़ा नहीं जा सका क्योंकि वे गांव के तालाब की नाली की चिनाई वाली दीवारों पर लगे हुए हैं। एक शिलालेख का दृश्य भाग जेनिना बसदी (मठ) को संदर्भित करता है जो राष्ट्रकूट और वेमुलावाड़ा चालुक्य काल (9वीं-10वीं शताब्दी सीई) के दौरान एक प्रमुख जैन केंद्र चिलुकुरु के करीब मौजूद था।

5 तेलंगाना सरकार ने राज्य के किसानों के खातों में रायथु बंधु योजना के तहत जमा किए वित्तीय सहायता राशि

तेलंगाना सरकार ने राज्य के किसानों को खरीफ मौसम के लिए रायथु बंधु योजना के तहत वित्तीय सहायता देना शुरू कर दिया है। योजना के पहले दिन एक एकड़ से कम जमीन वाले 22 लाख 55 हज़ार किसानों के खातों में छह सौ चालीस करोड़ रुपये की राशि जमा कराई गई। अब तक इस योजना में किसानों को बहत्तर हज़ार नौ सौ करोड़ रुपये की राशि दी जा चुकी है। राज्य के कृषि मंत्रालय ने बताया है कि इस योजना के तहत करीब पांच लाख नये लाभार्थियों को दस हज़ार रुपये प्रति एकड़ की दर से राशि दी जाएगी। इनमें डेढ़ लाख पोडू किसान भी शामिल हैं, जो चार लाख एकड़ पोडू ज़मीन पर खेती करते हैं। इससे राज्य सरकार के खजाने पर करीब तीन सौ करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। पोडू खेती की ऐसी विधि है जिसमें पेड़ों के अवशेषों को जलाकर कृषि भूमि को तैयार किया जाता है। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के वन क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी आमतौर पर इसका इस्तेमाल करते हैं।

6 दुनिया से तेजी से खत्म हो रहे उष्णकटिबंधीय जंगल, अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट के अनुसार 2030 तक वनों की कटाई को समाप्त करने का प्रण पूरा नहीं होगा

विश्‍व में उष्‍ण-कटिबंधीय वन तेजी से घट रहे हैं। आज जारी की गई वन निगरानी परियोजना रिपोर्ट के अनुसार 2030 तक वनों की कटाई को रोकने के देशों के संकल्‍प के एक वर्ष बाद भी वनों की कटाई निरन्‍तर जारी है। विश्‍व संसाधन संस्‍थान के वार्षिक सर्वेक्षण से पता चला है कि पिछले वर्ष एक करोड दो लाख एकड़ क्षेत्र में प्राथमिक वर्षा वन काट दिये गये जो पिछले वर्ष की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक है। नवंबर 2021 के बाद यह पहला आकलन है जिसमें पूरे वर्ष को शामिल किया गया है। तब विश्‍व के 145 देशों ने ग्‍लासगो वैश्विक जलवायु सम्‍मेलन में संकल्‍प लिया था कि इस दशक के अंत तक वनों की कटाई पर रोक लगा दी जाएगी। पिछले वर्ष पेडों की कटाई से 2 दशमलव सात गीगा टन कार्बन डाई आक्‍साइड का उत्‍सर्जन हुआ था जो बहुत बडी संख्‍या है। ब्राजील में सबसे अधिक ऊष्‍णकटिबंधीय वन क्षेत्र हैं जहां वनों की कटाई विश्‍व में सबसे अधिक हुई। वहां विश्‍व के 40 प्रतिशत से अधिक वन काट दिए गए। इसके पश्‍चात डेमोक्रेटिक रिपब्लिक कांगो और बोलीविया का स्‍थान है। रिपोर्ट के कुछ सकारात्‍मक बिंदुओं में से एक दक्षिण एशिया से है जहां मलेशिया और इंडोनेशिया में वनों की कटाई रोकने के प्रयास सफल हुए हैं। कई देश वनों की कटाई को सीमित करने या रोकने के लिए नए सिरे से संकल्प ले रहे हैं। इसलिए निकट भविष्‍य में वैश्विक वन संपदा में बेहतरी के संकेत नजर आ रहे हैं।

7 आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने शहरी स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण- मेरा शहर मेरी पहचान के लिए सर्वेक्षण शुरू किया

आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण- मेरा शहर मेरी पहचान (8वें संस्करण) के लिए सर्वेक्षण शुरू किया है। पहली जुलाई से लगभग तीन हजार कार्यकर्ता एक महीने के अन्‍दर चार हजार पांच सौ से अधिक शहरों का मूल्यांकन करेंगे। शहरों का मूल्यांकन 46 सूचकों के आधार पर किया जायेगा। इस सर्वेक्षण का उद्देश्य स्‍पर्धा और नागरिकों की भागीदारी के माध्‍यम से सतत स्‍वच्‍छता और कचरा प्रबंधन को प्रोत्‍साहन देना है। इस वर्ष कचरे से सम्‍पदा पहल और वैज्ञानिक कचरा प्रबंधन पर ध्‍यान दिया जा रहा है। इस बार सर्वेक्षण में कचरे का उपचार करना और स्रोत पर ही विभिन्‍न प्रकार के कचरे को अलग अलग करना और सार्वजनिक क्षेत्रों की स्‍वच्‍छता जैसे नए सूचक शामिल किए गये हैं।

8 विद्युत मंत्रालय ने भारतीय उद्योग में ऊर्जा कुशल तकनीकों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्टता केंद्र ‘उत्‍प्रेरक’ की स्थापना की

भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय ने उद्योग जगत में स्वच्छ प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देने और वैश्विक ऊर्जा परिवर्तन में भारत के योगदान को बेहतर करने के लिए एक समर्पित उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना की है। इसे यूटीपीआरईआरएके यानी उत्‍प्रेरक नाम दिया गया है जो उन्नत तकनीकि प्रदर्शन केंद्र का संक्षिप्त नाम है। ऊर्जा कुशल तकनीकों को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से स्‍थापित यह उत्कृष्टता केंद्र भारतीय उद्योग की ऊर्जा दक्षता में सुधार लाने के लिए एक उत्प्रेरक की भूमिका निभाना चाहता है। हालांकि इस केंद्र की स्‍थापना विद्युत मंत्रालय के ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) द्वारा उन्नत औद्योगिक प्रौद्योगिकी प्रदर्शन केंद्र (एआईटीडीसी) के नाम से विद्युत मंत्रालय के राष्ट्रीय विद्युत प्रशिक्षण संस्थान (एनपीटीआई) के बदरपुर, नई दिल्‍ली परिसर में किया गया है। केंद्रीय विद्युत राज्यमंत्री श्री कृष्ण पाल ने नई दिल्‍ली के एनपीटीआई बदरपुर में 26 जून, 2023 को इस केंद्र का उद्घाटन किया। ‘उत्‍प्रेरक’ एक रणनीतिक क्षमता-निर्माण संस्थान के रूप में भी काम करेगा। साथ ही यह ऊर्जा दक्षता में शिक्षण एवं प्रशिक्षण के लिए देश भर के ऊर्जा पेशेवरों के लिए एक ही जगह सभी समाधान प्रदान करेगा। अगले पांच वर्षों के दौरान विभिन्‍न उद्योगों एवं अन्य संभावित क्षेत्रों के 10,000 से अधिक ऊर्जा पेशेवरों को व्‍यापक प्रशिक्षण दिए जाने की उम्मीद है।

9 श्री सर्बानंद सोनोवाल ने नए सीएसआर दिशा-निर्देश ‘सागर सामाजिक सहयोग’ लॉन्च किया

केंद्रीय पोत, नौवहन और जलमार्ग मंत्री और आयुष मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने पोत, नौवहन और जलमार्ग मंत्री मंत्रालय के कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के नए दिशा-निर्देश – ‘सागर सामाजिक सहयोग‘ लॉन्च किया। नए दिशा-निर्देश के अनुसार बंदरगाह अब सीधे सीएसआर गतिविधियां चला सकेंगे। जारी किए गए नए सीएसआर दिशा-निर्देश प्रमुख बंदरगाह प्राधिकरण अधिनियम, 2021 की धारा 70 में निर्दिष्ट गतिविधियों से संबंधित परियोजनाओं और कार्यक्रमों को बेहतर तरीके से प्रभावित करेंगे। सीएसआर परियोजनाओं की योजना बनाने और उन्हें लागू करने के उद्देश्य से, हर प्रमुख बंदरगाह में एक कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व समिति का गठन किया जाएगा। समिति के प्रमुख संबंधित बंदरगाह के उप निदेशक होंगे और इसमें 2 अन्य सदस्य होंगे। प्रत्येक प्रमुख बंदरगाह प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए एक कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व योजना तैयार करेगा और बंदरगाह के व्यवसाय से संबंधित सामाजिक और पर्यावरणीय चिंताओं के साथ अपने सीएसआर को व्यवसाय योजना से जोड़ेगा।

10 श्री नितिन गडकरी ने कहा कि पिछले नौ वर्षों में देश में राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई लगभग 59 प्रतिशत बढ़ी

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने कहा कि पिछले नौ वर्षों में देश में राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई लगभग 59 प्रतिशत बढ़ी है। इस विस्तार के साथ ही भारत के पास अब अमेरिका के बाद दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है। नई दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए श्री गडकरी ने कहा “2013-14 में राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई 91,287 किलोमीटर थी जो 2022-23 में बढ़कर 1,45,240 किलोमीटर हो गयी जो, इस अवधि में 59 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि है”। उन्होंने यह भी कहा कि पिछले नौ वर्षों में फोर-लेन राष्ट्रीय-राजमार्ग में वृद्धि लगभग दोगुनी हो गई है। 2013-14 में फोर-लेन राष्ट्रीय-राजमार्ग की यह लंबाई 18,371 किलोमीटर थी जो, पिछले नौ वर्षों में बढ़कर 44,654 किलोमीटर हो गयी है।

11 पुनर्वास महानिदेशालय ने पूर्व सैनिकों के लिए रोजगार पैदा करने के लिए निजी क्षेत्र के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

रक्षा मंत्रालय के पूर्व सैनिक कल्याण विभाग के अंतर्गत पुनर्वास महानिदेशालय (डीजीआर) ने पूर्व सैनिकों को शामिल करने और नागरिक कार्यबल में उन्‍हें बिना किसी बाधा के जोड़ने की सुविधा के लिए आईबीएम के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। इस एमओयू के माध्यम से, डीजीआर नौकरी के उपयुक्‍त अवसरों के लिए पूर्व सैनिकों के समृद्ध प्रतिभा पूल का उपयोग करने के लिए आईबीएम के साथ सहयोग करेगा जो कंपनी और उससे सम्‍बद्ध हो सकते हैं।

12 चंद्रयान-3 में चंद्रयान-2 के लैंडर और रोवर के नाम बरकरार रहेंगे

चंद्रयान-2 मिशन के दुर्भाग्यपूर्ण परिणामों, जिसमें विक्रम नाम का लैंडर चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के प्रयास के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने अगले चंद्रयान-3 मिशन के लैंडर और रोवर के लिये समान नामों का उपयोग करने के अपने निर्णय की घोषणा की है। चंद्रयान-3 के लैंडर का नाम भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के प्रमुख व्यक्ति विक्रम साराभाई के सम्मान में ‘विक्रम‘ रखा जाएगा, जबकि रोवर को ‘प्रज्ञान‘ कहा जाएगा। लॉन्च जुलाई 2023 के मध्य में निर्धारित है और मिशन लैंडर, रोवर एवं प्रोपल्शन मॉड्यूल पर विभिन्न पेलोड के माध्यम से प्रयोग करेगा तथा डेटा एकत्र करेगा।

13 2023 IMD World Competitiveness Ranking जारी की गई

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट (IMD) द्वारा संकलित रैंकिंग, आर्थिक प्रदर्शन, सरकारी दक्षता, बुनियादी ढांचे और बहुत कुछ पर बहुमूल्य जानकारी प्रदान करती है। बहुप्रतीक्षित रैंकिंग में, डेनमार्क प्रतिस्पर्धात्मकता के मामले में शीर्ष स्थान वाले देश के रूप में उभरा। यह उपलब्धि सभी चार कारकों: आर्थिक प्रदर्शन, सरकारी दक्षता, बुनियादी ढांचे और व्यावसायिक दक्षता में देश की निरंतर उत्कृष्टता को दर्शाती है। रैंकिंग में आयरलैंड ने महत्वपूर्ण प्रगति की और सबसे उल्लेखनीय सुधार वाले देश के रूप में उभरा। 11वें स्थान से दूसरे स्थान पर चढ़ते हुए, आयरलैंड ने उत्कृष्ट आर्थिक प्रदर्शन का प्रदर्शन किया। आयरलैंड के उत्थान में कई कारकों ने योगदान दिया, जिनमें कुशल कार्यबल, उच्च शैक्षिक मानक, नीति स्थिरता, प्रतिस्पर्धी कर व्यवस्था और व्यापार-अनुकूल वातावरण शामिल हैं। 2022 में दूसरे स्थान और 2021 में पहले स्थान से गिरने के बावजूद, स्विट्जरलैंड शीर्ष तीन में अपना स्थान बनाए हुए है। देश का अपनी बाजार पहुंच और व्यापारिक भागीदारों का रणनीतिक उपयोग इसकी प्रतिस्पर्धात्मकता को बनाए रखता है।

14 अमेरिका ने नवीकरणीय H-1B वीजा लांच किया

अमेरिका के अधिकारियों ने हाल ही में H-1B वीजा नवीनीकरण प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण विकास की घोषणा की है। ‘इन-कंट्री’ नवीकरणीय H-1B वीजा की शुरूआत का उद्देश्य अमेरिका में काम करने वाले भारतीय पेशेवरों के लिए नवीकरण प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करना है। H-1B वीजा अत्यधिक मांग वाले गैर-आप्रवासी वीजा हैं जो अमेरिकी कंपनियों को सैद्धांतिक या तकनीकी विशेषज्ञता की आवश्यकता वाले विशेष व्यवसायों में विदेशी श्रमिकों को नियुक्त करने की अनुमति देते हैं। ये वीज़ा प्रतिभा की भर्ती को सुविधाजनक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, विशेष रूप से प्रौद्योगिकी क्षेत्र में, जिसमें कई कर्मचारी भारत जैसे देशों से आते हैं। ये एक महत्वपूर्ण निर्णय है जो अमेरिका में रहने वाले हजारों भारतीय पेशेवरों को अपने work visa के नवीनीकरण के लिए विदेश यात्रा की परेशानी के बिना अपनी नौकरी जारी रखने में मदद करेगा।

15 World Drug Report 2023 जारी की गई

हाल ही में जारी संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट ने दुनिया भर में नशीली दवाओं के उपयोग से उत्पन्न बढ़ती चुनौतियों पर प्रकाश डाला है। वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2023 शीर्षक वाली यह रिपोर्ट चिंताजनक आंकड़े प्रदान करती है और सार्वजनिक स्वास्थ्य, रोकथाम और उपचार सेवाओं तक पहुंच को प्राथमिकता देने की तत्काल आवश्यकता पर जोर देती है। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में नशीली दवाओं का इंजेक्शन लगाने वाले लोगों की संख्या आश्चर्यजनक रूप से 13.2 मिलियन है, जो पिछले अनुमान की तुलना में 18% की वृद्धि दर्शाती है। यह तेज वृद्धि नशीली दवाओं की लत की निरंतर प्रकृति और प्रभावी हस्तक्षेप और सहायता प्रणालियों की तत्काल आवश्यकता को उजागर करती है। वैश्विक स्तर पर, 2021 में 296 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा नशीली दवाओं का उपयोग करने की सूचना मिली है, जो पिछले दशक में 23% की चिंताजनक वृद्धि को दर्शाता है। ये संख्याएँ चुनौती के पैमाने और नशीली दवाओं के उपयोग और इससे जुड़े नुकसानों को संबोधित करने के लिए व्यापक रणनीतियों की आवश्यकता को दर्शाती हैं।

16 नई वैश्विक वित्तीय संधि के लिए शिखर सम्मेलन का आयोजन किया गया

नई वैश्विक वित्तीय संधि के लिए शिखर सम्मेलन (Summit for a New Global Financial Pact) हाल ही में पेरिस में हुआ, जिसमें देश के नेता, वित्त मंत्री और नागरिक समाज संगठन एक साथ आए। “प्रदूषक भुगतान सिद्धांत” (polluter pays principle) पर चर्चा के लिए एक अतिरिक्त कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस शिखर सम्मेलन के दौरान आयोजित एक अतिरिक्त कार्यक्रम का शीर्षक था “How to make polluters pay: Climate finance to support global equity”। इस सत्र में “प्रदूषक भुगतान सिद्धांत” की अवधारणा पर चर्चा की गई। यह सिद्धांत इस बात पर जोर देता है कि जो लोग प्रदूषण में योगदान करते हैं, उन्हें अपने कार्यों से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान के प्रबंधन की जिम्मेदारी उठानी चाहिए और इससे प्रभावित लोगों को मुआवजा देना चाहिए। ग्रीनहाउस गैसें, जिन्हें जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण के विभिन्न रूपों में उनके योगदान के कारण प्रदूषक माना जाता है, चर्चा का मुख्य केंद्र बिंदु थीं।

17 भारतीय वायुसेना ने चलाया रणविजय अभ्यास

भारतीय वायु सेना ने हाल ही में रणविजय अभ्यास का समापन किया, जो लड़ाकू पायलटों के कौशल को बढ़ाने के उद्देश्य से एकीकृत युद्धाभ्यास की एक श्रृंखला है। यूबी हिल्स (कर्नाटक) और सेंट्रल एयर कमांड एरिया ऑफ रिस्पॉन्सिबिलिटी में 16 जून से 23 जून तक हुए इस अभ्यास में एकीकृत अभियानों और वायु सेना की इलेक्ट्रॉनिक युद्ध क्षमताओं के इष्टतम उपयोग पर जोर देने के साथ पूर्ण स्पेक्ट्रम संचालन को निष्पादित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया।

18 केंद्र ने चेन्नई के मरीना में डॉ कलैग्नार पेन स्मारक को मंजूरी दी

चेन्नई के मरीना बीच, बंगाल की खाड़ी में मुथमिज़ अरिग्नार डॉ कलैग्नार पेन स्मारक के निर्माण के तमिलनाडु राज्य सरकार के प्रस्ताव को केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफसीसी) से तटीय विनियमन क्षेत्र (CRZ) मंजूरी मिल गई है। मंजूरी कुछ शर्तों के साथ आती है जिन्हें समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र और वन्यजीवों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पूरा करने की आवश्यकता होती है। CRZ मंजूरी विशेषज्ञ मूल्यांकन समिति (सीआरजेड) और तमिलनाडु तटीय क्षेत्र प्रबंधन प्राधिकरण की सिफारिशों के आधार पर दी गई थी। यदि शर्तों को संतोषजनक ढंग से लागू नहीं किया जाता है तो मंत्रालय मंजूरी को रद्द या निलंबित करने का अधिकार सुरक्षित रखता है। डॉ. कलैग्नार पेन स्मारक एक प्रस्तावित अपतटीय स्मारक है और यह तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय एम. करुणानिधि को समर्पित है। करुणानिधि एक प्रखर लेखक, कवि और वक्ता थे, जिन्हें कलैग्नार (कलाकार) के नाम से जाना जाता था। उन्होंने उपन्यास, लघु कथाएँ, जीवनियाँ, निबंध और संस्मरण सहित 100 से अधिक पुस्तकें लिखीं।

19 रूपा पाई की ‘द योग सूत्र फॉर चिल्ड्रन’

बेस्टसेलिंग पुस्तक ‘द गीता फॉर चिल्ड्रन’ के बाद, लेखिका रूपा पाई की आगामी बच्चों की पुस्तक पतंजलि के योग पर 2,000 साल पुराने पाठ के रहस्यों को उजागर करेगी। हैचेट इंडिया द्वारा प्रकाशित ‘द योग सूत्र फॉर चिल्ड्रेन’ का उद्देश्य बच्चों के रोजमर्रा के जीवन में योग के अभ्यास को जोड़ना है और उन्हें अपने आप में सर्वश्रेष्ठ लाने के लिए अपनी मानसिक शक्ति का उपयोग करने में मदद करना है।

20 मशरूम की खेती से असम के कोकराझार ज़िले में उल्लेखनीय प्रगति

एक ज़िला एक उत्पाद‘ पहल और वर्ष 2021 में शुरू किये गए मशरूम मिशन को संरेखित करने तथा मध्याह्न भोजन योजना में मशरूम की शुरुआत के कारण मशरूम उत्पादन में काफी वृद्धि देखने को मिली है। असम के कोकराझार ज़िले ने इस संदर्भ में उल्लेखनीय प्रगति की है। बच्चों के भोजन में पोषक तत्त्वों से भरपूर मशरूम को शामिल करने से कम वज़न वाले, कमज़ोर और एनीमिया से पीड़ित बच्चों की संख्या में क्रमशः 56%, 55% तथा 76% की कमी आई है। इस ज़िले में मातृ मृत्यु दर में भी 72.37% और शिशु मृत्यु दर में 30.56% की कमी आई है। मशरूम अत्यधिक पौष्टिक होता है और इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इसमें कैलोरी और वसा की मात्रा कम होती है जिस कारण यह वज़न प्रबंधन के लिये एक बेहतर विकल्प के रूप में मान जाता है। मशरूम विटामिन एवं खनिजों का एक समृद्ध स्रोत है, जिनमें विटामिन बी, तांबा, सेलेनियम और पोटेशियम शामिल हैं। मशरूम पाचन तंत्र को बेहतर बनाने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूती प्रदान करने वाले डायट्री फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट भी प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त मशरूम हड्डियों के स्वास्थ्य के लिये आवश्यक विटामिन डी के कुछ गैर-पशु स्रोतों में से एक है।