प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘स्वच्छता ही सेवा-2019’ अभियान का शुभारंभ किया

0
75

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 12 सितंबर 2019 को मथुरा में स्वच्छता पर एक व्यापक देशव्यापी जागरूकता अभियान – स्वच्छता ही सेवा (एसएचएस) 2019 का शुभारंभ किया. स्वच्छता ही सेवा-2019 के तहत ‘प्लास्टिक कचरा जागरूकता और प्रबंधन’ पर विशेष जोर दिया जा रहा है. इसे 11 सितंबर से 2 अक्टूबर, 2019 तक आयोजित किया जा रहा है.

इसका उद्देश्य स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर भारत को खुले प्लास्टिक कचरे से मुक्त बनाना है. केन्द्र सरकार के पशुपालन एवं दुग्ध उत्पादन और पेयजल एवं स्वच्छता विभागों और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संयुक्त रूप से एसएचएस के शुभारंभ का आयोजन किया गया था.

स्वच्छता ही सेवा 2019

प्रधानमंत्री द्वारा स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर दिये गये भाषण में प्‍लास्टिक अपशिष्‍ट प्रबंधन के लिए कार्रवाई करने का आह्वान किया गया था. इस वर्ष की स्‍वच्‍छता ही सेवा का विषय प्‍लाटिक अपशिष्‍ट प्रबंधन है. वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय का उद्योग और आंतरिक व्‍यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) जल शक्ति मंत्रालय के पेयजल और स्‍वच्‍छता विभाग के अभियान की सफलता के लिए महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.

कार्य-योजना

• डीपीआईआईटी सीमेंट भट्टों में 2 अक्टूबर, 2019 को एकत्र प्लास्टिक अपशिष्ट की रि-साइक्लिंग सुनिश्चित करेगा और 2 अक्टूबर, 2019 को ही राष्ट्रव्यापी श्रमदान के माध्यम से प्लास्टिक अपशिष्ट एकत्र करेगा.
• डीपीआईआईटी ने सभी राज्य सरकारों और केन्द्र  शासित प्रदेशों से अपने यहां सभी औद्योगिकी एस्टेट्स, पार्कों, कारिडोरों और औद्योगिक क्षेत्रों से 11 सितम्बर, 2019 से शुरू होने वाले स्वच्छ्ता ही सेवा 2019 के लिए  प्लास्टिक अपशिष्ट एकत्र करने का अनुरोध किया है.
• जल शक्ति मंत्रालय के पेयजल और स्वच्छ‍ता विभाग ने डीपीआईआईटी से सीमेंट भट्टों द्वारा प्लास्टिक अपशिष्ट के उपयोग को जरूरी बनाने का अनुरोध किया है.
• डीपीआईआईटी यह सुनिश्चित करेगा कि इस वर्ष दिवाली तक सीमेंट भट्टों में एकत्र किया गया प्लास्टिक  2 अक्टूबर को स्वच्छता ही सेवा अभियान के लिए डीपीआईआईटी के कर्मचारी श्रमदान करेंगे और पूरे देश में प्रौद्योगिक क्षेत्रों और उनके आस-पास प्लास्टिक कचरे का संग्रह सुनिश्चित करेंगे.

डेली करेंट अफेयर्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आह्वान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी नागरिकों से अनुरोध किया कि वे अपने घरों, कार्यालयों और कार्यस्थलों को सिंगल यूज़ प्लास्टिक के उपयोग से मुक्त करें. पर्यावरण, पशुओं और जल जीवों के स्वास्थ्य पर ऐसे प्लास्टिक के खतरनाक प्रभावों की ओर लोगों का ध्यान खींचते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि खरीददारी के लिए बाहर जाते समय कपड़े अथवा जूट के बैगों का इस्तेमाल करें और कार्यालयों में पानी पीने के लिए धातु अथवा मिट्टी के गिलासों का इस्तेमाल करें. उन्होंने लोगों से कहा कि वे अपने आस-पास से प्लास्टिक के सभी कचरे को एक निर्धारित इकट्ठा करें और स्वच्छता ही सेवा के दौरान स्थानीय प्रशासन की सहायता से इसका सुरक्षित निपटारा सुनिश्चित करें.

भारत मलेरिया के मामलों में दुनिया में चौथे स्थान पर

भारत मलेरिया के मामलों में विश्व में चौथे स्थान पर है. ‘द लैंसेट’ पत्रिका में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 में मच्छर काटने से होने वाली घातक बीमारी मलेरिया के कुल मामलों में भारत का स्थान चौथा रहा है. नवीनतम लैंसेट रिपोर्ट के अनुसार 2050 तक विश्व से मलेरिया का उन्मूलन संभव है.

इस रिपोर्ट को दुनिया भर के 41 वैज्ञानिकों, अर्थशास्त्रियों और नीति-निर्माताओं द्वारा तैयार किया गया है. वर्ष 2000 से 2017 तक 20 देशों से मलेरिया की समाप्ति घोषित की गई. इसी तरह के प्रयासों से 2050 तक सभी देशों से मलेरिया की समाप्ति हो सकती है. रिपोर्ट के मुताबिक भारत इस बीमारी से संक्रमित चौथा सबसे बड़ा देश है.

प्रमोद कुमार मिश्रा प्रधानमंत्री के नए प्रधान सचिव

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के वरिष्ठ अधिकारी प्रमोद कुमार मिश्रा को 11 सितम्बर 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रधान सचिव नियुक्त किया गया. प्रमोद कुमार मिश्रा ओडिशा के संभलपुर जिले के रहने वाले हैं. वे 1972 बैच के आईएएस अफसर हैं.

प्रमोद कुमार मिश्रा प्रधानमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव थे और कैबिनेट मंत्री के रैंक का पद संभाल रहे थे. हाल ही में प्रमोद कुमार मिश्रा को आपदा जोखिम न्यूनीकरण हेतु सासाकावा पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया था. उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में एमए (MA) है.

जैक मा ने छोड़ा अलीबाबा के चेयरमैन का पद

विश्व की सबसे बड़ी ई- वाणिज्य कंपनी अलीबाबा समूह के संस्थापक जैक मा ने 10 सितम्बर 2019 को अपना पद छोड़ दिया. जैक मा चीन के सबसे धनी उद्यमी हैं. उन्होंने अपना पद अपनी 55वीं वर्षगांठ पर छोड़ा है. जैक मा हालांकि अलीबाबा पार्टनरशिप के सदस्य बने रहेंगे. अलीबाबा पार्टनरशिप 36 सदस्यीय समूह है. इन सदस्यों के पास कंपनी के अधिकतर निदेशकों को नामित करने का अधिकार है.

अलीबाबा 480 अरब डॉलर के बाजार पूंजीकरण के साथ विश्व की 7वीं सबसे बड़ी सूचीबद्ध कंपनी है. जैक मा ने अलीबाबा का कार्यकारी अध्यक्ष पद छोड़ने के लिए 10 सितंबर 2019 को चुनाव किया था. चीन में इस तिथि को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है. जैक मा पहले अंग्रेजी के शिक्षक थे. उन्होंने साल 1999 में अलीबाबा की स्थापना की थी.

पीके सिन्हा प्रधानमंत्री के प्रमुख सलाहकार नियुक्त

पूर्व कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा को हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रमुख सलाहकार नियुक्त किया गया है. मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने पीके सिन्हा की नियुक्ति को मंजूरी दी है. पीके सिन्हा को अगस्त 2019 में प्रधानमंत्री कार्यालय में ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी (ओएसडी) नियुक्त किया गया था. यह नियुक्ति 11 सितंबर 2019 से प्रभावी हो गई.

पीके सिन्हा उत्तर प्रदेश कैडर के 1977 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. उन्होंने भारत के विद्युत सचिव के रूप में कार्य किया था. वे उससे पहले भारत के नौवहन सचिव थे. उन्होंने केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार दोनों में विभिन्न प्रमुख पदों पर कार्य किये है.

अमेरिका के उत्पादों की 16 श्रेणियों से शुल्क हटाने की घोषणा

चीन ने 11 सितम्बर 2019 को अमेरिका के उत्पादों की 16 श्रेणियों के ऊपर लगे शुल्क को हटाने की घोषणा की. चीन और अमेरिका दोनों एक साल से अधिक समय से व्यापार युद्ध में शामिल हैं. दोनों देश एक-दूसरे के सैंकड़ों अरब डॉलर के सामान पर शुल्क लगा चुके हैं. सीमा शुल्क आयोग के मुताबिक, यह छूट 17 सितंबर 2019 से प्रभावी होगी. छूट की यह समयसीमा एक साल बाद समाप्त होगी.

सीमा शुल्क आयोग ने शुल्क के दायरे से निकलने वाले उत्पादों की दो सूची जारी की. दो सूची में समुद्री खाद्य उत्पाद और कैंसर के रोकथाम की दवाएं शामिल हैं. यह पहला मौका है जब चीन ने कुछ उत्पादों से शुल्क हटाने की घोषणा की है. छूट पाने वाले अन्य उत्पादों में पशुओं का चारा, मछलियों का चारा, चिकित्सकीय लिनियर एक्सेलेरेटर आदि शामिल हैं.