प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मेघालय की राजधानी शिलांग में उत्तर-पूर्वी कॉउन्सिल के गोल्डन जुबली समारोह में भाग लिया

0
32

1. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मेघालय की राजधानी शिलांग में उत्तर-पूर्वी कॉउन्सिल के गोल्डन जुबली समारोह में भाग लिया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शिलांग में पूर्वोत्तर परिषद (एनईसी) की बैठक को संबोधित किया। यह बैठक पूर्वोत्तर परिषद के स्वर्ण जयंती समारोह का प्रतीक है, जिसका औपचारिक उद्घाटन 1972 में हुआ था। पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास में पूर्वोत्तर परिषद के योगदान की सराहना करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि इसका यह स्वर्ण जयंती समारोह चल रहे आजादी का अमृत महोत्सव के साथ आयोजित किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि वे अक्सर क्षेत्र के 8 राज्यों को अष्ट लक्ष्मी के रूप में संदर्भित करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को इसके विकास के लिए 8 आधार स्तंभों, अर्थात – शांति, बिजली, पर्यटन, 5जी कनेक्टिविटी, संस्कृति, प्राकृतिक खेती, खेल की क्षमता पर काम करना चाहिए। स्वर्ण जयंती कार्यक्रम के दौरान पिछले 50 वर्षों के दौरान पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास में NEC के योगदान के वृत्तांतों पर एक स्मारक दस्तावेज “गोल्डन फुटप्रिंट्स” भी जारी किया जायेगा। पूर्वोत्तर परिषद (NEC) की स्थापना संसद के अधिनियम 1971 के तहत की गई थी। इसका औपचारिक उद्घाटन शिलांग में 7 नवंबर, 1972 को शिलांग, मेघालय में हुआ था तथा नवंबर 2022 को इसने अपनी स्थापना के 50 वर्ष पूरे कर लिये हैं। पूर्वोत्तर परिषद (NEC) पूर्वोत्तर क्षेत्र के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए नोडल एजेंसी है जिसमें अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम और त्रिपुरा के आठ राज्य शामिल हैं। NEC पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय (MDoNER) के प्रशासनिक दायरे मेंआता है।

2. संयुक्त कार्य बल की दूसरी बैठक पोर्ट ब्लेयर में आयोजित की गई

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और इंडोनेशिया के आचेह प्रांत के बीच संपर्क सुविधा के विकास पर संयुक्त कार्य बल की दूसरी बैठक पोर्ट ब्लेयर में आयोजित की गई। बैठक के दौरान, 2019 में संयुक्त कार्य बल की पहली बैठक के बाद से हुई प्रगति और कनेक्टिविटी में आने वाली चुनौतियों का जायजा लिया गया। विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने व्यापार, पर्यटन और लोगों के बीच संपर्क को बढ़ावा देने पर भी चर्चा की।

3. सरकार ने अगले वर्ष तक सौ हवाई अड्डों, हेलीपोर्ट और जल हवाई अड्डों को विकसित करने के लिए 4,500 करोड़ रुपये स्‍वीकृ‍त किए

सरकार का यह कार्य उड़े देश का आम नागरिक – उड़ान योजना के तहत एक हजार मार्गों को फिर से चालू करने का लक्ष्य है जिसके तहत सरकार अगले वर्ष तक ऐसे सौ हवाई अड्डों, हेलीपोर्ट और जल हवाई अड्डों को पुनर्जीवित और विकसित करने पर काम कर रही है जो सेवा में नहीं है और जिनका इस्‍तेमाल कम होता है। यह कार्य उड़े देश का आम नागरिक – उड़ान योजना के तहत एक हजार मार्गों को फिर से चालू करने के लक्ष्य का हिस्सा है। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राज्यसभा में एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि सरकार ने मौजूदा अप्रयुक्त, कम उपयोग वाले हवाई अड्डों, राज्य सरकारों की हवाई पट्टियों, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, सार्वजनिक उपक्रमों के पुनरुद्धार के लिए चार हजार पांच सौ करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि अक्टूबर 2016 में शुरू की गई उड़ान दस साल की अवधि के लिए है।

4. संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश (चौथा संशोधन) विधेयक-2022 लोकसभा में पारित

लोकसभा ने संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश (चौथा संशोधन) विधेयक- 2022 पारित कर दिया। यह विधेयक कर्नाटक में बेट्टा कुरुबा समुदाय को अनुसूचित जनजातियों की सूची में शामिल करने के लिए संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश, 1950 में संशोधन के लिए लाया गया। नजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने विधेयक पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि राज्यवार समावेशन प्रक्रिया पूरा करने के बाद अनुसूचित जनजातियों की एक व्यापक सूची लाने की योजना है।

5. लंका के जाफना और पुद्दुचेरी के बीच यात्री फेरी सेवा अगले महीने से शुरू होगी

भारत और श्रीलंका के बीच यात्री नौका सेवा अगले महीने से शुरू होने जा रही है। फेरी सेवा जाफना जिले में कांकेसंथुराई बंदरगाह और भारत में पुदुच्चेरी को जोड़ेगी। श्रीलंका के बंदरगाह और नौवहन मंत्री निमल सिरिपाला डी सिल्वा ने कहा कि भारत सरकार ने फेरी सेवा के लिए सहमति प्रदान कर दी है। उन्होंने कहा कि दक्षिण भारत से श्रीलंका के त्रिंकोमाली और कोलंबो तक यात्री परिवहन सेवाएं भी शुरू की जाएंगी। नई सेवा के अंतर्गत प्रत्‍येक फेरे में तीन सौ से चार सौ यात्री ले जाए जाएंगे। फेरी की यात्रा का समय लगभग साढ़े तीन घंटे होगा। फेरी मालिकों का सुझाव है कि फेरी का किराया पांच हजार प्रति यात्री हो सकता है और एक यात्री सौ किलोग्राम तक सामान ले जा सकेगा।

6. गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने अर्बन-20 सम्मेलन के लोगो, वेबसाइट और सोशल मीडिया हैंडल का अनावरण किया

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने गांधीनगर में अर्बन-20 सम्मेलन के लोगो, वेबसाइट और सोशल मीडिया हैंडल का अनावरण किया। विरासत शहर अहमदाबादफरवरी से जुलाई के बीच जी-20 बैठकों के हिस्से के रूप में अर्बन-20 की मेजबानी करेगा। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि नौ और दस फरवरी को शेरपा बैठक के बाद अर्बन-20 शुरू होगा और जुलाई में महापौर की बैठक से सम्‍पन्‍न होगा।

7. महाराष्‍ट्र में नये भ्रष्‍टाचार रोधी लोकायुक्‍त अधिनियम को लागू करने के विधेयक को मंजूरी मिली

महाराष्‍ट्र विधानमंडल का शीतकालीन सत्र नागपुर में शुरू हो रहा है। मुख्‍यमंत्री एकनाथ शिंदे की अध्‍यक्षता में राज्‍य मंत्रिमण्‍डल ने नये भ्रष्‍टाचार रोधी लोकायुक्‍त अधिनियम को को लागू करने के विधेयक को मंजूरी दी। पहली बार मुख्‍यमंत्री और विधायक लोकायुक्‍त के अंतर्गत आयेंगे। मुख्‍यमंत्री ने कल उपमुख्‍यमंत्री देवेन्‍द्र फडणवीस के साथ एक संवाददाता सम्‍मेलन में यह जानकारी दी। समाज सुधारक अन्‍ना हजारे की अध्‍यक्षता में भाजपा-शिवसेना सरकार के दौरान लोकायुक्‍त के लिए एक समिति का गठन किया गया था। श्री फडणवीस ने बताया कि राज्‍य सरकार ने समिति की रिपोर्ट को स्‍वीकार कर लिया है।

8. केप टू रियो रेस के लिए भारतीय नौसेना नौकायन पोत (आईएनएसवी) तारिणी पर ओशन सैलिंग अभियान – 23

आईएनएसवी तारिणी केप टू रियो रेस 2023 के 50वें संस्करण में भाग लेने के लिए केप टाउन, दक्षिण अफ्रीका के एक अभियान के लिए रवाना हुई है। इस समुद्री नौकायन दौड़ को केप टाउन से 02 जनवरी 2023 को झंडी दिखाई जाएगी और इसका समापन रियो डी जनेरियो, ब्राजील में होगा। यह दौड़ सबसे प्रतिष्ठित ट्रांस-अटलांटिक महासागर दौड़ में से एक है। अभियान को दो महिला अधिकारियों सहित पांच अधिकारियों के एक भारतीय नौसेना दल द्वारा संचालित किया जा रहा है। इस अभियान के दौरान गोवा से रियो डी जनेरियो के लिए केप टाउन और वापस जाने के दौरान, आईएनएसवी तारिणी लगभग 17000 नॉटिकल मील (लगभग 30000 किमी) की दूरी तय करेगी। इस ट्रांस-समुद्री यात्रा में 5-6 महीने की अवधि में चालक दल को भारतीय, अटलांटिक और दक्षिणी महासागरों के चरम मौसम और खराब समुद्री परिस्थितियों का सामना करना है। आईएनएसवी तरिणी को 2017 में ‘नाविका सागर परिक्रमा‘ नामक ऐतिहासिक अभियान में सभी महिला अधिकारी दल के साथ दुनिया भर में परिक्रमा करने के लिए जाना जाता है। वर्तमान अभियान में, जहाज की कप्तानी कैप्टन अतुल सिन्हा द्वारा की जा रही है, जिसमें लेफ्टिनेंट कमांडर आशुतोष शर्मा, लेफ्टिनेंट कमांडर दिलना के, लेफ्टिनेंट कमांडर रूपा ए और सब लेफ्टिनेंट अविरल केशव चालक दल के सदस्यों के रूप में हैं।

9. भारत ने 2028-29 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सदस्यता के लिए उम्मीदवारी की घोषणा की

भारत ने 2028-29 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अस्थाई सदस्यता के लिए उम्मीदवारी की घोषणा कर दी है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने इसकी जानकारी दी। मासिक रूप से बदलने वाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता भारत को दिसंबर, 2022 के लिए मिली है। भारत के पास 31 दिसंबर तक यह अध्यक्षता रहेगी। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के निर्वाचित सदस्य के रूप में दो साल के कार्यकाल में अगस्त 2021 से दूसरी बार भारत को परिषद की मासिक अध्यक्षता मिली है। विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि मुझे आपको बताते हुए खुशी हो रही है कि हमने 2028-29 के सुरक्षा परिषद के लिए अपनी उम्मीदवारी घोषित कर दी है। परिषद में भारत का 2021-22 का कार्यकाल 31 दिसंबर को खत्म हो रहा है। भारत सुरक्षा परिषद में तत्काल सुधार के लिए आवाज उठाने वाले देशों में अग्रणी रहा है।

10. कुनमिंग-मॉन्ट्रियल ग्लोबल बायोडायवर्सिटी फ्रेमवर्क को COP15 द्वारा अपनाया गया

कुनमिंग-मॉन्ट्रियल ग्लोबल बायोडायवर्सिटी फ्रेमवर्क (Kunming-Montreal Global Biodiversity Framework – GBF) को इस साल 19 दिसंबर को 15वीं Conference of Parties (COP15) to the UN Convention on Biological Diversity (CBD) द्वारा अपनाया गया था। कुनमिंग-मॉन्ट्रियल ग्लोबल बायोडायवर्सिटी फ्रेमवर्क (GBF) 23 लक्ष्यों को प्रदान करता है जिन्हें देशों को इस दशक के अंत तक हासिल करने की आवश्यकता है। COVID-19 महामारी के कारण इन लक्ष्यों को अपनाने में देरी हुई है। GBF के 23 लक्ष्य 2010 आइची जैव विविधता लक्ष्यों (Aichi Biodiversity Targets) को रीप्लेस करेंगे। आइची का कोई भी लक्ष्य हासिल नहीं किया गया और एक भी देश ने सभी 20 लक्ष्यों को पूरा नहीं किया है। निम्नीकृत जैव विविधता की वर्तमान स्थिति को देखते हुए, GBF लक्ष्य अत्यधिक महत्वाकांक्षी हैं। दुनिया भर में स्थलीय और समुद्री जैव विविधता के क्षरण को रोकने के लिए 188 सरकारों द्वारा नए लक्ष्यों को अपनाया गया था। आइची लक्ष्यों में देखी गई विफलता से बचने के लिए लक्ष्यों को प्राप्त करने में की गई प्रगति का आकलन करने के लिए यह फ्रेमवर्क ठोस संकेतक प्रदान करता है। इन संकेतकों का उपयोग करके देशों को हर 5 साल या उससे कम में एक बार निगरानी और रिपोर्ट करने की आवश्यकता होती है। जैविक विविधता पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन फरवरी 2026 के अंत और जून 2029 के अंत तक देशों द्वारा प्रस्तुत राष्ट्रीय सूचनाओं को मिलाकर वैश्विक रुझान और प्रगति रिपोर्ट तैयार करेगा। इस ढांचे का अंतिम लक्ष्य 2030 तक वैश्विक प्रयासों का मार्गदर्शन करना है ताकि जैव विविधता के संरक्षण और बहाली को सुनिश्चित किया जा सके।

11. पाणिनि कोड : 2500 साल पुरानी संस्कृत पहेली

भारतीय पीएचडी छात्र ऋषि राजपोपट (Rishi Rajpopat) ने पाणिनि कोड को हल कर लिया है। उन्होंने “In Panini, We Trust: Discovering the Algorithm for Rule Conflict Resolution in the Astadhyayi” शीर्षक से एक थीसिस जारी की। इस थीसिस ने उस समस्या को डिकोड कर दिया है जो सदियों से संस्कृत के विद्वानों के लिए परेशानी का स्रोत थी। पाणिनि संस्कृत के प्रसिद्ध विद्वान, भाषाविद् और वैयाकरण हैं। वह भारत में 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास रहे और उन्हें “प्रथम वर्णनात्मक भाषाविद” माना जाता है। पश्चिमी विद्वान उन्हें “भाषाविदों का पिता” मानते हैं। अष्टाध्यायी पाणिनि की सर्वाधिक महत्वपूर्ण कृतियों में से एक है। यह एक ऐसा व्याकरण है जो अनिवार्य रूप से संस्कृत की प्राचीन भाषा को परिभाषित करता है। इसमें 8 अध्यायों में 3,959 सूत्र हैं। इनमें से प्रत्येक अध्याय को चार खण्डों में विभाजित किया गया है। यह संस्कृत के सभी पहलुओं को नियंत्रित करने वाले बीजगणितीय नियमों के साथ एक निर्देशात्मक और जनरेटिव व्याकरण है। सदियों से इस काम की खोज के बाद से, विद्वान अष्टाध्यायी द्वारा प्रदान किए गए नियमों और उपनियमों का सही उपयोग करने में सक्षम नहीं हुए हैं। अष्टाध्यायी के नियम एल्गोरिद्म की तरह काम करते हैं। यदि किसी शब्द का आधार और प्रत्यय प्रदान किया जाता है, तो एल्गोरिथ्म इसे व्याकरणिक रूप से सही शब्दों, वाक्यांशों और वाक्यों में बदल देगा। यह इसे एक सावधानीपूर्वक प्रक्रिया बनाता है। संघर्ष तब होता है जब पाणिनि के दो या अधिक नियम एक साथ लागू होते हैं, जो आमतौर पर होता है। ऐसे आयोजनों में, पाणिनि के मेटारूल का उपयोग किया जा सकता है।

12. हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने क्लाउडिन गे को पहले अश्वेत अध्यक्ष के रूप में नामित किया

क्लाउडाइन गे (Claudine Gay) हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की 30वीं अध्यक्ष बनेंगी। इसी के साथ वे आइवी लीग स्कूल का नेतृत्व करने वाली पहली अश्वेत शख्स बन जाएंगी। 52 वर्षीय गे हार्वर्ड प्रमुख के लिए चुनी जाने वाली दूसरी महिला हैं। गे फिलहाल यूनिवर्सिटी की डीन और डेमोक्रेसी स्कॉलर हैं। क्लाउडाइन गे 01 जुलाई 2023 से अपना पद भार संभालेंगी। वह लॉरेंस बेको की जगह लेंगी। बेको परिवार के साथ समय बिताने के लिए अपना पद छोड़ रहे हैं।

13. नासा ने पृथ्वी के पानी का सर्वेक्षण करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मिशन ‘स्वोट’ लॉन्च किया

अमेरिकी नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) और फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सेंटर नेशनल डी’एट्यूड्स स्पैटियल्स (सीएनईएस) ने संयुक्त रूप से पृथ्वी की सतह पर लगभग पानी को ट्रैक करने के लिए सरफेस वाटर एंड ओशन टोपोग्राफी (स्वोट) मिशन लॉन्च किया है। स्वोट उपग्रह को 16 दिसंबर 2022 को संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्थित वैंडेनबर्ग स्पेस फोर्स बेस के स्पेस लॉन्च कॉम्प्लेक्स से स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट के माध्यम से लॉन्च किया गया था। मिशन की अवधि तीन साल है। नासा के अनुसार स्वोट हर 21 दिनों में कम से कम एक बार 78 डिग्री दक्षिण और 78 डिग्री उत्तरी अक्षांश के बीच पूरी पृथ्वी की सतह को कवर करेगा। यह 15 एकड़ (62,500 वर्ग मीटर) से बड़ी दुनिया की 95 प्रतिशत से अधिक झीलों और 330 फीट (100 मीटर) से अधिक चौड़ी नदियों पर डेटा प्रदान करेगा। वर्तमान में, मीठे पानी के शोधकर्ताओं के पास दुनिया भर में केवल कुछ हज़ार झीलों के लिए विश्वसनीय माप हैं।

14. मिशेल ओबामा द्वारा “द लाइट वी कैरी: ओवरकमिंग इन अनसर्टेन टाइम्स” नामक पुस्तक

द लाइट वी कैरी: ओवरकमिंग इन अनसर्टेन टाइम्स मिशेल ओबामा द्वारा लिखित और क्राउन पब्लिशिंग द्वारा प्रकाशित एक गैर-काल्पनिक किताब है। द लाइट वी कैरी पाठकों को अपने स्वयं के जीवन की जांच करने, खुशी के स्रोतों की पहचान करने और अशांत दुनिया में सार्थक रूप से जुड़ने के लिए प्रेरित करेगा। लेखक “अपने ‘व्यक्तिगत टूलबॉक्स’ की सामग्री – आदतों और प्रथाओं, दृष्टिकोणों और विश्वासों, और यहां तक ​​कि भौतिक वस्तुओं को साझा करता है जिसका उपयोग वह डर, असहायता और आत्म संदेह की भावनाओं को दूर करने के लिए करती है।”

15. ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा पर साल 2022 में सबसे ज्यादा आर्टिकल लिखे गए

भारत के स्टार जेवलिन थ्रोअर और ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा दुनिया के सबसे तेज धावक और पूर्व ओलंपिक चैंपियन उसैन बोल्ट को पीछे छोड कर 2022 में ऐसे एथलीट बन गए हैं, जिन पर सबसे ज्यादा आर्टिकल लिखे गए हैं। दरअसल साल 2022 में ओलंपिक स्वर्म पदक विजेता नीरज चोपड़ा पर कुल 812 आर्टिकल लिखे गए, जो कि विश्व भर के सभी एथलीटों में सबसे ज्यादा हैं। इसके अलावा इस साल की शुरुआत में नीरज डायमंड लीग का खिताब अपने नाम करने वाले पहले भारतीय बने थे। विश्व एथलेटिक्स संघ (WWA) के द्वारा जारी की गई सूची में नीरज को पहला स्थान मिला है।

16. गोवा मुक्ति दिवस : 19 दिसंबर

गोवा मुक्ति दिवस भारत में हर साल 19 दिसंबर को मनाया जाता है और यह उस दिन को चिह्नित करता है जब भारतीय सशस्त्र बलों ने 1961 में पुर्तगाली (Portuguese) शासन के 450 वर्षों के बाद गोवा को मुक्त कराया था। 2022 में गोवा मुक्ति की 61वीं वर्षगांठ मनाई गई। गोवा की मुक्ति के बाद 1963 में भारत की संसद ने गोवा को भारत में आधिकारिक रूप से शामिल करने के लिए 12वां संवैधानिक संशोधन पारित किया। इसके द्वारा गोवा, दमन व दिउ तथा दादरा व नगर हवेली को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया गया। 1987 में गोवा को दमन व दिउ से अलग करके एक पूर्ण राज्य का दर्जा दिया गया था।

17. भारत में अल्पसंख्यक अधिकार दिवस : 18 दिसम्बर

18 दिसम्बर को भारत में अल्पसंख्यक अधिकार दिवस मनाया जाता है। भारत में प्रतिवर्ष अल्पसंख्यक समुदायों के अधिकारों के बारे जागरूकता फैलाने के लिए अल्पसंख्यक अधिकार दिवस 18 दिसम्बर को मनाया जाता है। इस दिवस के अवसर पर विभिन्न स्थानों पर सेमिनार, सम्मेलन तथा इवेंट्स का आयोजन किया जाता है। भारत में प्रमुख अल्पसंख्यक वर्ग में मुस्लिम, सिख, इसाई, बौद्ध , पारसी तथा जैन हैं। भारत में अल्पसंख्यकों की संख्या कुल जनसँख्या का 19% हिस्सा हैं। जम्मू-कश्मीर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड तथा लक्षद्वीप कुछ एक राज्य/केंद्र शासित प्रदेश हैं, जहाँ पर अधिसूचित अल्पसंख्यक वर्ग बहुल (majority) हैं। राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम, 1992 के राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग की स्थापना की गयी थी। अल्पसंखयकों के साथ धर्म, भाषा, राष्ट्रीय तथा नस्ल के आधार पर भेदभाव पर रोक लगाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने 18 दिसम्बर, 1992 को “राष्ट्र, नस्ल, धर्म तथा भाषा के आधार पर लोगों के अधिकारों की घोषणा” को जारी किया था।

18. अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस : 18 दिसम्बर

प्रतिवर्ष 18 दिसम्बर को अन्तर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसकी स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 4 दिसम्बर 2000 को प्रस्ताव 55/93 को पारित करके की थी। इसका उद्देश्य प्रवासियों के अधिकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। यह ऐसा पहला समझौता है जिसमे अंतर्राष्ट्रीय प्रवास से सम्बंधित सभी पहलुओं पर सभी देशों ने चर्चा करके हामी भरी है। हालांकि अमेरिका इसमें शामिल नहीं है। इसमें प्रवास सम्बन्धी समस्याओं से निपटने के लिए 23 उद्देश्य निश्चित किये गए हैं।

19. 1971 के भारत-पाक युद्ध के हीरो सेवानिवृत्‍त लांस नायक भैरों सिंह राठौड़ का निधन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के युद्ध में अदम्य साहस और शौर्य का प्रदर्शन करने वाले भैरों सिंह राठौड़ के निधन पर दुख व्‍यक्‍त किया है। 81 वर्षीय भैरो सिंह का जोधपुर के भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान- एम्स में निधन हो गया। साल 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान विश्व प्रसिद्ध लोंगेवाला की लड़ाई में वह अपनी बहादुरी के दम पर दुश्मन के सैनिकों पर काल बन टूट पड़े थे। भैरों सिंह राठौड़ की वीरता के लिए उन्हें 1972 में सेना पदक मिला। राठौड़ को कई अन्य सैन्य सम्मानों और असैन्य पुरस्कारों और से भी सम्मानित किया गया। भैरोसिंह साल 1987 में BSF से रिटायर्ड हुए थे सिंह परिवार जोधपुर से करीब 120 किलोमीटर दूर सोलंकियातला गांव में रहता है। वर्ष 1997 में रिलीज हुई फिल्म बॉर्डर में भैरों सिंह राठौड़ की भूमिका सुनील शेट्टी ने निभाई थी।