बौद्ध धर्म के विषय में स्मरणीय तथ्य

0
194

बौद्ध धर्म के विषय में स्मरणीय तथ्य

 

  1. बुद्ध की वैशाली यात्रा के विषय में महावस्तु (Mahavastu) से जानकारी प्राप्त होती है.
  2. पंचेन्द्रिय सुखों (पाँच इन्द्रिय सुख) को त्यागने वाले ऋषियों का उल्लेख सुत्तनिपात (Suttnipat) में मिलता है.
  3. बुद्ध क्षेत्र व सैनिक मामलों की महत्त्वपूर्ण जानकारी देने वाला संगमकालीन ग्रन्थ कल्लपली है.
  4. दिशा बतलाने वाले कौओं का उल्लेख दीघनिकाय (Digha Nikaya) और अंगुत्तर निकाय में है.
  5. वासुदेव शब्द “घटजातक” नामक बौद्ध ग्रन्थ में आया है.
  6. आजीवक सम्प्रदाय के विचार सामफल सुत्त और भगवती सूत्र में मिलते हैं.
  7. “घोषिताराम विहार” (यह एक उपवन है जिसको एक सेठ जिसका नाम घोषित था, उसने बुद्ध के निवास के लिए बनवाया था) के अवशेष कौशाम्बी से मिलते हैं.
  8. घोषिताराम” का निर्माण करने वाला शासक वत्सराज उदयन था. इस विहार के उत्खनन से यह जानकारी मिलती है कि अग्निकांड के द्वारा यह विहार नष्ट हुआ होगा.
  9. पुब्बाराम विहार” को विशाखा ने बनवाया था.
  10. वेलुवन” को बिम्बिसार ने बुद्ध को दान दिया.
  11. प्रछन्न बौद्ध” की संज्ञा “शंकराचार्य” को दी जाती है.
  12. सबसे पहले “बुद्ध प्रतिमा” का निर्माण मथुरा कला-शैली में हुआ.
  13. विसुद्धिमग्ग (Visuddhimagga)” बौद्ध धर्म का “लघु विश्व कोश” है.
  14. प्रज्ञपरमिता सूत्र (Prajnaparamita) महायान बौद्ध का सर्वप्रमुख ग्रन्थ है.
  15. महात्मा बुद्ध की चार दृश्यों से वैराग्य की कथा महापदानसुत्त (Mahapadana Sutta) में वर्णित है.
  16. प्रमुख बौद्ध व्याकरणाचार्य चन्द्रगोमिनी है.
  17. बौद्ध विहारों की सर्वाधिक संख्या जुन्नैर नामक स्थान पर है.
  18. हीनयान सम्प्रदाय के साहित्य की भाषा पाली है.
  19. महायान सम्प्रदाय की साहित्यिक भाषा संस्कृत (चतुर्थ बौद्ध संगीति से) है.
  20. बौद्ध धर्म के प्रमुख संरक्षक नरेश : बिम्बिसार, अजातशत्रु, प्रसेनजित, चंड प्रद्योत, अशोक, मिनेंडर, कनिष्क,  हर्षवर्धन, धर्मपाल, देवपाल आदि हैं.
  21. वज्रयान बुद्ध को अलौकिक दैविक सिद्धियों वाला पुरुष मानने वाला सम्प्रदाय है.
  22. धम्मपद को बौद्ध धर्म की गीता कहा जाता है.
  23.  आम्रपाली/अम्बपाली/अम्बपालिका गणिका ने आमों का अपना बगीचा बुद्ध को दान किया.