भूकंप से हिला अफगानिस्तान और पाक, उत्तर भारत में भी तेज झटके

0
172

CURRENT GK

1.भूकंप से हिला अफगानिस्तान और पाक, उत्तर भारत में भी तेज झटके :-

उत्तरी अफगानिस्तान में बुधवार दोपहर आए शक्तिशाली भूकंप से दिल्ली तक सिहरन दौड़ गई। अफगानिस्तान के हिंदुकुश पर्वतों में आए 6.1 तीव्रता के इस भूकंप से पाकिस्तान के क्वेटा में एक बच्ची की मौत हो गई है। अफगानिस्तान के साथ ही पाकिस्तान के बलूचिस्तान में भूकंप से नुकसान हुआ है।

कई मकानों में दरारें आई हैं। भूंकप की वजह से अफगानिस्तान और पाकिस्तान में कई लोग घायल भी हो गए हैं। अफगानिस्तान में आए इस भूकंप की तीव्रता इतनी ज्यादा थी कि इसके झटके पूरे उत्तर भारत में महसूस किए गए। दिल्ली-एनसीआर में दोपहर 12 बजकर 37 मिनट पर अचानक झटकों ने लोगों को झकझोर दिया। लोग बदहवास होकर घरों और दफ्तरों से बाहर निकल आए।

भूकंप के सबसे ज्यादा झटके जम्मू-कश्मीर में महसूस किए गए। इसके साथ ही हिमाचल, उत्तर प्रदेश और पंजाब में भी भूकंप आया। गनीमत यह रही कि भारत में इन झटकों से कोई नुकसान नहीं हुआ। अमेरिकी जियॉलजिकल सर्वे (यूएसजीएस) के मुताबिक भूकंप का केंद्र हिंदुकुश पर्वतों में ताजिकिस्तान से लगती अफगानिस्तान की उत्तरी सीमा पर 191 किमी की गहराई में था।

 

2.संघर्ष विराम समझौते के बार-बार उल्लंघन के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने की पाकिस्तान की कड़ी आलोचना :-

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संघर्ष विराम के बार-बार उल्लंघन के लिए पाकिस्तान की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को शक्तिशाली भारत की शालीनता का गलत अर्थ नहीं लगाना चाहिए। चंडीगढ़ में भारतीय जनता युवा मोर्चा के सदस्यों को संबोधित करते हुए श्री सिंह ने कहा कि भारत अपने पड़ोसियों सहित सभी के साथ अच्छे संबंध चाहता है। केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि भारत के सभी लोग सुरक्षित है, चाहे वो किसी भी जाति, पंथ और धर्म के हों। उन्होंने कहा कि लोगों को सचमुच जाति, मजहब और अल्पसंख्यक व बहुसंख्यक की मानसिकता से बाहर निकलकर सोचने की जरूरत है और सबको यह मानकर चलना चाहिए कि हम भारतीय हैं। गृह मंत्री ने विश्वास दिलाया है कि हर व्यक्ति चाहे वह किसी जाति, पंथ, मजहब या धर्म को मानने वाला क्यों न हो, वह देश में पूरी तरह सुरक्षित है।

 

3.यूएनएससी सदस्य एकमत- आतंकियों की पनाहगाह है पाकिस्तान :-

अफगानिस्तान के एक शीर्ष दूत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में कहा कि पाकिस्तान के भीतर आतंक की सुरक्षित पनाहगाहों की मौजूदगी को लेकर विश्व निकाय के सदस्यों के बीच राय स्पष्ट है। यहां उन आतंकी ठिकानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी उठी। अफगानिस्तान में यूएन के राजदूत महमूद सैकल ने सीधे-सीधे तो पाकिस्तान का नाम नहीं लिया लेकिन कहा कि उनकी सरकार ने क्षेत्र के एक देश द्वारा यूएनएससी के संकल्पों के उल्लंघन के बारे में विश्व निकाय को सबूत मुहैया करवाए हैं। एक साक्षात्कार में सैकल ने यूएनएससी के संकल्पों के अनुरूप एक देश के खिलाफ कार्रवाई की जरूरत पर बल लिया। उन्होंने कहा कि यूएनएससी सदस्यों के बीच पाकिस्तान में आतंक की सुरक्षित पनाहगाहों की मौजूदगी को लेकर पहले के मुकाबले कहीं अधिक स्पष्टता है और वे एकमत हैं। सैकल ने दावा किया कि उन्होंने कभी नहीं सुना है कि परिषद के किसी भी सदस्य ने पाकिस्तान में आतंक की सुरक्षित पनाहगाहों की मौजूदगी से इनकार किया हो। उन्होंने कहा कि अब इससे भी आगे जाना होगा और परिषद में आम सहमति बनानी होगी। एक बार आम सहमति बन जाने के बाद कि वहां पर (पाकिस्तान में) सुरक्षा परिषद कार्रवाई करने को बाध्य होगी।

 

4.भारतीय नौसेना ने किया स्कोर्पीन पनडुब्बी करंज का जलावतरण :-

भारतीय नौसेना ने स्कोर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी करंज का आज जलावतरण किया। नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा की पत्नी रीना लांबा ने इसका जलावतरण किया। इस पनडुब्बी का निर्माण मुम्बई के मझगांव डॉक लिमिटेड ने किया है। इस अवसर पर एडमिरल लांबा ने कहा कि इस पनडुब्बी का अगले एक वर्ष में गहन परीक्षण किया जाएगा और फिर इसे भारतीय नौसेना में शामिल किया जाएगा। पनडुब्बी करंज, मझगांव डॉक लिमिटेड यानी एमडीएल द्वारा बनाया गया है। एमडीएल फ्रेंचशिप बिल्डिंग के प्रमुख नेबल ग्रुप के सहयोग से कुल छह पनडुब्बियां बना रहा है। करंज एक स्वदेशी पनडुब्बी है जो मेक इन इंडिया के तहत तैयार की गई है। अपने आधुनिक फीचर्स की वजह से यह दुश्मन को ढूंढ कर उस पर सटीक निशाना लगा सकती है। इस पनडुब्बी का इस्तेमाल हर तरह के वॉर फेयर, एन्टी सबमरीन वॉर फेयर और इंटेलीजेन्स के काम में भी किया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले महीने स्कोर्पिन श्रेणी की पहली पनडुब्बी कलवरी की शुरूआत की थी। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि पनडुब्बी निर्माण में भारत अत्याधुनिक देशों की श्रेणी में शामिल हो गया है।

 

5.रद्द घोषित हुआ सुन्दरगढ़ के कांग्रेस विधायक जोगेश चन्द्र सिंह का निर्वाचन :-

ओडिसा उच्च न्यायालय ने सुन्दरगढ़ विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक जोगेश चन्द्र सिंह के निर्वाचन को रद्द घोषित कर दिया है। न्यायमूर्ति बीके नायक ने नामांकन पत्र भरने के दौरान दाखिल उनके हलफनामे में असामनाताएं पाए जाने के बाद यह निर्देश दिया। श्री सिंह ने 2014 में बीजू जनता दल की कुसुम टेटे को हराया था। भारतीय जनता पार्टी के सहदेव साक्सा ने उच्च न्यायालय में उनके चुनाव को चुनौती दी थी। याचिकाकर्ता ने दावा किया था कि श्री सिंह ने फर्जी जाति प्रमाण पत्र देकर आरक्षित विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा। यह आरोप भी लगाया गया था कि कांग्रेस नेता ने नामंकन पत्र भरते समय झूठा हलफनामा दाखिल किया।

 

6.सरकार बना रही है विश्वविद्यालयों में खेलों से संबंधित बुनियादी ढांचा विकसित करने की योजना :-

सरकार विश्वविद्यालयों में खेलों से संबंधित बुनियादी ढांचा विकसित करने की योजना बना रही है, ताकि उन्हें खेलों के लिये उत्कृष्टता केंद्र का रूप दिया जा सके। ट्विटर पर सवालों का जवाब देते हुए खेल मंत्री राज्यवर्धन राठौर ने कहा कि सरकार देश के एक सौ पचास जिलों में हर जिले के एक स्कूल में खेलों से संबंधित बुनियादी सुविधाएं विकसित करेगी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि अगले साल खेलो इंडिया कॉलेज खेल आयोजित किये जाएंगे। राठौर ने कहा कि खेलों इंडिया तो सिर्फ शुरूआत है, इसके बाद कॉलेज गेम्स होगा, उसके बाद वीमैन ऑरीअन्टैटिड गेम्स होगा और उसके भारत के सभी खेल कोच की ट्रेनिंग करायी जाएगी। ऐसे कई सारे हमने वर्टिकल्स रखे गये हैं।

 

7.पासपोर्ट का आखिरी पन्ना छापने की मौजूदा प्रणाली रहेगी जारी :-

विदेश मंत्रालय ने आव्रजन जांच की आवश्यकता वाले- ईसीआर पासपोर्ट धारकों के लिये पासपोर्ट का आखिरी पन्ना छापने की मौजूदा प्रणाली जारी रखने और नारंगी रंग का अलग पासपोर्ट जारी न करने का फैसला किया है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में विभिन्न पक्षों के साथ बातचीत के बाद एक बैठक में यह निर्णय लिया। विदेश मंत्रालय को ऐसे कई अनुरोध मिले थे, जिनमें पहले के इस फैसले पर दोबारा विचार करने का आग्रह किया गया था कि पासपोर्ट बुकलेट का आखिरी पन्ना नहीं छापा जाएगा और आव्रजन जांच की अनिवार्यता वाले पासपोर्ट धारकों के लिये नारंगी रंग का पासपोर्ट जारी किया जाएगा।

 

8.अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने दी चीन जैसे देशों को सख्त चेतावनी :-

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने चीन जैसे देशों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अमरीका के आर्थिक समर्पण का युग खत्म हो गया है और अब वह उन देशों के साथ नये व्यापार समझौते करने का प्रयास कर रहा है, जो निष्पक्ष और परस्पर व्यापार के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी आर्थिक नीतियों से देश में नया विश्वास पैदा हो रहा है। हम सुरक्षित, मजबूत और गौरवशाली अमरीका बना रहे हैं। चुनाव के बाद से हमने विनिर्माण के क्षेत्र में दो लाख नौकरियों सहित चैबीस लाख नई नौकरियों का सृजन किया है। यह बड़ी सफलता है। साल दर साल मजदूरी में स्थिरता के बाद अब आखिरकार इसमे वृद्धि हो रही है।

 

SHARE
Previous articleVOCAB OF THE DAY
Next articleVOCAB OF THE DAY