‘विराट’ बनने के लिए कोहली को इंग्लैंड में बनाना होगा रन: माइकल होल्डिंग

0
135

DAILY CURRENT GK
1. IGI एयरपोर्ट पर अब नहीं दिखेंगी लंबी-लंबी कतार, गृह मंत्रालय ने लिया ये फैसला :- गृह मंत्रालय ने दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय (आइजीआइ) हवाई अड्डे के आव्रजन काउंटरों पर तैनात करने के लिए 1000 अधिकारियों को हायर करने का फैसला लिया है। मंत्रालय ने लंबी कतारों को खत्म करने और यात्रा की कठिनाइयां दूर करने के लिए यह कदम उठाने का फैसला लिया है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि सक्षम अधिकारी ने आव्रजन ब्यूरो को 1000 आव्रजन सहायकों की भर्ती करने की मंजूरी दी है। इन सहायकों की नियुक्ति ठेका आधारित होगी।
350 उच्च श्रेणी के पदों को निम्न श्रेणी में बदलने को भी मंजूरी दी गई है। इससे गुप्तचर ब्यूरो और केंद्रीय सशस्त्र बल के पूर्व कर्मचारियों की ठेका आधार पर नियुक्ति की जा सकेगी। अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती से आव्रजन काउंटरों पर ज्यादा संख्या में लोग होंगे और यात्रियों को पेशेवर एवं सुगम सेवा मुहैया कराई जा सकेगी। अधिकारी ने हालांकि यह नहीं बताया कि कब यह कदम उठाया जाएगा।

IGI Airport will no longer be seen Long-long queue; Home Ministry has taken this decision: – The Home Ministry has decided to hire 1000 officials to deploy the immigration counters at Delhi’s Indira Gandhi International (IIGI) airport. The Ministry has decided to take this step to eliminate long queues and remove the difficulties of traveling. An official of the Home Ministry said on Tuesday that the competent authority has approved the immigration bureau to recruit 1000 immigration assistants. The appointment of these assistants will be contract-based.
It has also been approved to convert 350 posts of upper class to lower category. This will enable appointment of intelligence bureaus and former Central Armed Forces employees on contractual basis. Due to the deployment of additional personnel, there will be a large number of people on immigration counters and a professional and accessible service will be provided to the passengers. The official however did not tell when this step will be taken.

2. उत्तर प्रदेश में कहीं रिमझिम तो कहीं झमाझम बारिश से मौसम सर्द, बढ़ी कंपकंपी :- मंगलवार शाम को उत्तर प्रदेश में कही रिमझिम तो कहीं झमाझम बारिश हुई। जिससे यूपी के पश्चिमी इलाके का मौसम सर्द हो गया। कड़ाके की ठंड में बारिश कंपकंपी बढ़ रही है। गाजियाबाद, मेरठ, बरेली, हरदोई और आसपास के इलाकों तक होते हुए बारिश की रिमझिम यूपी की राजधानी तक पहुंच गई है। तेज हवाओं ने इस मौसम को और सर्द बना दिया है। नमी भरे बादल पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर रुख किए हैं।ऐसे में सड़कों पर गमनागमन प्रभावित हो गया है। फुटपाथ पर रहने वालों के लिए बारिश से बचाव कठिन हो गया है। उत्तर प्रदेश के अन्य इलाकों में भी तापमान गिरने लगा है। लगभग पूरे प्रदेश में बदली छाने लगी है। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को दिन भर बदली छायी रहेगी। पूर्वी और मध्य यूपी में भी बारिश की संभावना है।

In Uttar Pradesh, somewhere in the rimzim, Jhajjam rain rains in the winters, increased tremors: – On Tuesday evening, there was some drizzle in Uttar Pradesh and there was rains in Jhajjam. The winter of the western region of UP became cold. Rain shaking is increasing in the cold winter. Gaziyabad, Meerut, Bareli, Hardoi and surrounding areas have reached the drizzle of UP’s capital.The strong winds made this season more chill. Humidity clouds have turned towards Eastern Uttar Pradesh. In such a situation, the movement on the roads has been affected. For residents on the sidewalk, it has become difficult to protect against rain. Temperature in other areas of Uttar Pradesh has also started to fall. Almost all the state has been changing. According to the Meteorological Department, Wednesday will be changed throughout the day.There is also a possibility of rain in eastern and central UP.

3. रेलवे इंजीनियरों का कमाल रूड़की में दस घंटे में बनाया कंक्रीट का पुल :- मुरादाबाद रेलवे के इंजीनियर लगातार तकनीक का कमाल दिखा रहे हैं। अंग्रेजों के जमाने में बने पुल को तोड़कर नए पुल बना रहे हैं। मुरादाबाद रेल मंडल में सबसे पहले तीन जनवरी को नजीबाबाद के पास बुंदकी स्टेशन से थोड़ा आगे सात घंटे में पुराना पुल तोड़कर नए बनाया और ट्रेन दौड़ा दी थी। इसके शाहजहांपुर और बालामऊ के बीच टोडरपुर स्टेशन के पास नौ जनवरी को साढ़े पांच घंटे में नया पुल बनाया। अब रुड़की और इकबालपुर के बीच लकड़ी के स्लीपर वाले पुल को कंक्रीट का बनाया। सोमवार को टीम ने 150 साल पुराने पुल को तोड़कर दस घंटे में तैयार कर दिया।
रेलवे की इंजीनियङ्क्षरग विभाग की टीम ने इस काम के लिए पहाड़ी क्षेत्र में सुरंग बनाने और बड़ी-बड़ी चïट्टानों को तोड़कर हटाने वाली क्रेन व मशीन मंगाई। रेलवे अधिकारियों को पता था कि 6.1 मीटर लंबे और तीन मीटर ऊंचे सुरखी चूना वाले पुल को तोडऩा आसान नहीं है। टीम ने सोमवार सुबह 11.50 बजे बजे काम शुरू किया। चूने से बने पुल ने चुनौती खड़ी की। टीम ने कंक्रीट ब्लॉक से 10.10 घंटे में नया पुल बना दिया।

Construction of concrete bridges in ten hours :- Moradabad railway engineers are showing a tremendous technique. Break the bridges built in the British era and creating new bridges.In Moradabad Railway Board, on January 3, at the Najibabad near Bundki station, breaking the old bridge in a little more than seven hours, the new bridge was made and ran the train. Between its Shahjahanpur and Balaamu, a new bridge was built in nine and a half hours on January 9 near the Todarpur station. Now a wooden slipper bridge between Roorkee and Iqbalpur is made of concrete. On Monday, the team broke the 150-year-old bridge and prepared it in ten hours.
For the purpose of the work of the Railway Engineering Engineering Department, the crane and the machine floated by constructing tunnels in the mountainous area and breaking down large tanks. Railway officials knew that it is not easy to break the bridge of 6.1 meters long and three meters high. The team started work at 11.50 a.m. on Monday morning. Bridge made from lime raised the challenge. The team made a new bridge from the concrete block in 10.10 hours.

4. दिव्यांगों को भी ठग गई केजरीवाल सरकार, जानें- आशा किरण होम का कड़वा सच :- दिल्ली के आशा किरण होम में नौनिहालों की मौत का सिलसिला साल दर साल जारी है। सरकार की तरफ से तमाम कोशिशें सफेद हाथी साबित हुई हैं। मौत को रोकने के तमाम प्रयास अब तक बेअसर ही साबित हुए हैं। पिछले वर्ष रोहिणी स्थित मानसिक रूप से कमजोर लोगों के गृह आशा किरण में 11 बच्चों की मौत के समय हरकत में आई केजरीवाल सरकार एक साल बाद भी यहां कोई सुधार नहीं कर पाई है। एक मात्र प्रशासक की नियुक्ति के अलावा यहां रिक्त स्थानों को भरने की रफ्तार कुंद पड़ गई है वहीं आज भी यहां क्षमता से अधिक लोग रखे जा रहे हैं। आइए जानते हैं आशा किरण होम का कड़वा सच।

Arvind Kejriwal’s government also got cheated, know-bitter truth of Asha Kiran Home :- The death toll of nine-year deaths in Asha Kiran’s house in Delhi continues year after year. All attempts from the government have proved to be white elephants. All attempts to stop death have proved to be ineffective till now. Last year, at the time of the death of 11 children in the house of Kiran Kiran, in the heart of the mentally challenged people in Rohini, the Kejriwal government has not been able to make any improvement even after one year. In addition to the appointment of a single Administrator, the speed of filling up the vacancies has become stupid,even today, more people are being kept more than the capacity. Let us know Ashara Ray Home’s Bitter Truth.

5. ‘विराट’ बनने के लिए कोहली को इंग्लैंड में बनाना होगा रन: माइकल होल्डिंग :- दक्षिण अफ्रीका दौरे पर लगातार 2 टेस्ट मैच हारने के बाद कप्तान विराट कोहली पर लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं। अब वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने विराट को लेकर यह बयान दिया है। होल्डिंग ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि, ‘भले ही विराट ने दूसरे टेस्ट मैच में 153 रनों की बेहतरीन पारी खेली हो लेकिन वो महान तब कहलाएंगे जब इंग्लैंड में भी रन बनाकर दिखाएं। कोहली की बैटिंग का असली टेस्ट तो इंग्लैंड में होगा।’
होल्डिंग ने आगे कहा, ‘इंग्लैड एक ऐसी जगह है जहां कोहली का बल्ला शांत है अगर कोहली को एक महान बल्लेबाज के तौर पर खुद को स्थापित करना है तो उन्हें इंग्लैंड में भी अपने रनों के सूखे को खत्म करना होगा।’ वैसे वो एक शानदार खिलाड़ी हैं और हर टीम में उनकी तरह का खिलाड़ी होना चाहिए, जो परिस्थितियों में खुद को ढालना बखूबी जानता हो।
आपको बता दें कि विराट कोहली साल 2014 में इंग्लैंड का दौरा करने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं। इस दौरे पर 10 पारियों में उनका बैटिंग औसत मात्र 13.4 का रहा। विराट कोहली के लाजवाब क्रिकेट करियर में यह एक कलंक जैसा है, जिसे साफ करना बहुत जरूरी है।

To become Virat, Kohli has to be made in England Run: Michael Holding :- After losing two consecutive Test matches on the tour of South Africa, captain Virat Kohli is constantly being questioned. Now West Indies fast bowler Michael Holding has given this statement about Virat. The real test of Kohli’s batting will be in England.
Holding further said, “England is a place where Kohli’s bat is cool and if Kohli wants to set himself up as a great batsman, he will have to finish his runs in England too.” By the way, he is a great player and he should be a player of his kind in every team, who knows best how to mold himself.
Let us know that Virat Kohli has been a part of the Indian team visiting England in 2014. His batting average of just 13.4 in 10 innings on this tour. In Virat Kohli’s wonderful cricket career, it is like a blur, which is very important to clean.

6. चीन में खोदाई में मिला सबसे बड़ा ताओवादी मंदिर का खंडहर, 1930 में हुआ था तबाह :- चीन में चार साल की खोदाई के बाद सबसे बड़े ताओवादी मंदिर के खंडहर को खोज निकाला गया है। इस मंदिर का निर्माण सांग वंश (साल 960 से 1279) में किया गया था और साल 1930 में आग में ध्वस्त होने तक इसमें पूजा होती थी। पुरातत्वविदों ने भी चीन के इस सबसे बड़े मंदिर के स्थान की पुष्टि की है। चीन के नेशनल म्यूजियम के पुरातत्वविद शिन लिक्सियांग ने बताया कि ग्रेट शांगकिंग पैलेस चीनी इतिहास के कई सम्राटों के लिए पूजा स्थल और ताओ धर्म के ङोंगई संप्रदाय के लिए प्रमुख स्थान था। यह पैलेस चीनी ताओवादी मास्टर को समर्पित किया गया था।

The ruins of the biggest Taoist temple found in Khogai in China, was destroyed in 1930:- The ruins of the largest Taoist temple have been discovered after four years of digging in China. This temple was built in Song Dynasty (from 960 to 1279) and was worshiped in the year 1930 until it was destroyed in the fire. Archaeologists have also confirmed the location of this largest temple in China. Shin Lixiang, Chinese archbishop of the National Museum of China, said that the Great Shangking Palace was a prominent place for worship of many emperors of Chinese history and the prominent place for the Dongai sect of Taoism. This palace was dedicated to the Chinese Taoist Master.

Visit Us for Daily Updates:-
www.anushkaacademy.com,
www.gkindiatoday.com