श्री सर्बानंद सोनोवाल ने अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान में बच्चों के लिए टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया और बाल रक्षा मोबाइल ऐप लॉन्च किया

0
33

1.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के पहले यात्री ड्रोन वरुण का अनावरण किया

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के पहले यात्री ड्रोन वरुण का अनावरण किया है। प्रधान मंत्री नई दिल्ली में डॉ अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित नौसेना नवाचार और स्वदेशीकरण संगठन (एनआईआईओ) संगोष्ठी ‘स्वावलंबन’ को संबोधित करने के लिए वहां गए थे। स्वदेश निर्मित पायलट-रहित ड्रोन को भारतीय नौसेना को लिए बनाया गया है। पूरी तरह परीक्षण के बाद युद्ध में पहली बार भारतीय नौसेना युद्धपोतों पर इस्तेमाल करेगी। इसके बाद यह इंसानों को ले जाने के लिए इस्तेमाल होगा। स्वदेशी ड्रोन ‘वरुण’ को स्टार्टअप ‘सागर डिफेंस’ ने बनाया है। वहीं, दूसरी तरफ इंसान को सिर्फ इसमें बैठना होगा और इसके अलावा उसे कुछ नहीं करना है। यह ड्रोन उसे खुद ही एक जगह से दूसरी जगह ले जाएगा। इसे रिमोट की सहायता से संचालित किया जाएगा। वरुण, भारत का पहला ड्रोन है जो मानव पे-लोड ले सकता है, इसकी सीमा 25 किमी है। यह यात्री ड्रोन 130 किलोग्राम पेलोड ले जा सकता है और इसमें उड़ान का समय 25-33 मिनट है।

2.प्रधानमंत्री ने देशवासियों से डिजिटल ज्योति पर स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देने का किया आग्रह

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नागरिकों से हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को डिजिटल ज्योत पर अपनी श्रद्धांजलि साझा करने और ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ को मजबूत करने का आग्रह किया है। संस्कृति मंत्रालय आजादी के अमृत महोत्सव के तहत डिजिटल श्रद्धांजलि अभियान चला रहा है। इसके तहत दिल्ली के सेंट्रल पार्क में एक डिजिटल ज्योति प्रज्जवलित की गई है। डिजिटल ट्रिब्यूट डॉट (https://digitaltribute.in/)इन पर जाकर कुछ जानकारी देकर डिजिटल माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित की जा सकती है। श्रद्धांजलि देने वाले का नाम और फोटो सेंट्रल पार्क में लगी एलईडी पर प्रदर्शित किया जाएगा। इस श्रद्धांजलि से जुड़ा एक वीडियो ईमेल या व्हाट्सएप के माध्यम से प्राप्त होगा। हर श्रद्धांजलि के साथ सेंट्रल पार्क में लगी डिजिटल रोशनी और अधिक तेज होती जाएगी।

3.श्री धर्मेंद्र प्रधान ने अगली पीढ़ी को प्रेरित करने के लिए एनसीएफ में अनुशीलन समिति के बारे में जानकारी शामिल करने का आह्वान किया

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि अनुशीलन समिति 20वीं सदी में बंगाल से संचालित एक प्रमुख गुप्त क्रांतिकारी समिति थी, जिसका मिशन औपनिवेशिक शासन को उखाड़ फेंकना और भारत के स्वतंत्रता संग्राम को गति प्रदान करना था। उन्‍होंने साहस, बलिदान और प्रेरणा के इस भवन पर तिरंगा फहराया। श्री प्रधान ने कहा कि सतीश चंद्र प्रमथ मित्राअरबिंदो घोष और सरला देवी द्वारा स्थापित, अनुशीलन समिति (24 मार्च 1902 में) बंगाल की पवित्र भूमि से जुड़ी विभिन्न शानदार संस्थानों में से एक थी, जिसने राष्ट्रवादी लेखन, प्रकाशन और स्वदेशी पर जोर देकर देश की अंतरात्मा को अभिव्यक्ति दी। उन्होंने कहा कि देशबंधु चित्तरंजन दास, सुरेंद्रनाथ टैगोर, जतिंद्रनाथ बनर्जी, बाघा जतिन जैसे महान व्यक्ति अनुशीलन समिति से जुड़े थे। हेडगेवार भी समिति के पूर्व कार्यकर्त्ता थे। उन्होंने कहा कि मुझे विशेषकर अमृत महोत्सव के दौरान इन महानुभावों के प्रति श्रद्धा प्रकट करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। मंत्री ने एनसीईआरटी और शिक्षा जगत से आगामी राष्ट्रीय पाठ्यक्रम की रूपरेखा (एनसीएफ) में अनुशीलन समिति के बारे में पर्याप्त जानकारी शामिल करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि हमारी पाठ्यपुस्तकों में अनुशीलन समिति के इतिहास के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी अगली पीढ़ी को प्रेरित करेगी।

4.श्री सर्बानंद सोनोवाल ने अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान में बच्चों के लिए टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया और बाल रक्षा मोबाइल ऐप लॉन्च किया

केंद्रीय आयुष मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) में बच्चों के लिए टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया। उन्होंने बाल रक्षा मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया, जिसका उद्देश्य माता-पिता के बीच आयुर्वेद के माध्यम से बाल रोग निवारक स्वास्थ्य देखभाल के प्रति जागरूकता पैदा करना है। ऐप माता-पिता से उनके बच्चों के स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा पर किट के प्रभाव के बारे में प्रतिक्रिया भी एकत्र करेगा। आयुष मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का उद्देश्य आयुर्वेद के पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक उपकरणों और प्रौद्योगिकी के बीच तालमेल बनाना है। संस्थान में 12 विशिष्ट विभाग, 30 ओपीडी इकाइयां हैं जिनमें एक से अधिक विषयों से संबंधित अत्याधुनिक अनुसंधान प्रयोगशालाएं और आयुर्वेद में वैश्विक प्रचार और अनुसंधान के लिए एक अंतरराष्ट्रीय सहयोग केंद्र है। आयुर्वेद चिकित्सा और स्वास्थ्य विज्ञान की सबसे पुरानी प्रणाली है जो 3,000 से अधिक वर्ष से जारी है। कोविड के दौरान, एआईआईए ने कोविड हेल्थकेयर सेंटर में मरीजों का इलाज ‘करुणा के साथ देखभाल‘ के अपने मिशन के साथ करके एक प्रमुख भूमिका निभाई।

5.सभी प्रमुख बंदरगाहों को अगले छह महीनों के लिए रो-पैक्स और यात्री नौकाओं पर पोत संबंधी शुल्क से छूट

सरकार ने सभी प्रमुख बंदरगाहों को तत्काल प्रभाव से अगले छह महीनों के लिए रो-पैक्स और यात्री नौकाओं पर पोत संबंधी शुल्क से छूट देने का निर्देश दिया है। बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्रालय ने कहा है कि वैश्विक स्‍तर पर ईंधन की बढती कीमतों में वृद्धि से बंदरगाह क्षेत्र को त्वरित राहत प्रदान करने के लिए यह निर्णय लिया गया है। समुद्री ईंधन की कीमत 76 हजार रुपये प्रति किलोलीटर से बढ़कर एक लाख 21 हजार रुपये प्रति किलोलीटर हो गयी है। मंत्रालय ने कहा है कि जल परिवहन सेवा लागत कम करने, यात्रा का समय कम करने और कई संभावित मार्गों पर तटीय नौवहन को बढ़ावा देने के लिए एक प्रभावी उपाय है।

6.अग्निपथ योजना के खिलाफ आंदोलन से भारतीय रेलवे को हुआ 259 करोड़ का नुकसान

केन्द्र सरकार की ‘अग्निपथ’ योजना के विरुद्ध आंदोलन और विरोध प्रदर्शन के कारण 62 स्थानों पर रेलगाड़ी सेवाएं प्रभावित हुई थी। आंदोलन से भारतीय रेलवे को 259.44 करोड़ रुपए की हानि हुई थी। बता दें, इस विरोध प्रदर्शन के चलते बिहार, यूपी और तेलंगाना राज्यों के रेलवे स्टेशनों पर हिंसा की गई थी। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार को राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अग्निपथ योजना के विरुद्ध आंदोलन और विरोध प्रदर्शन के कारण 62 स्थानों पर रेलगाड़ी सेवाएं प्रभावित हुई थी। 15 से 23 जून के बीच कुल 2,132 रेलगाड़ियों को रद्द किया गया था। उन्होंने बताया कि ये सभी ट्रेने महज एक सप्ताह के अंदर रद्द की गई थीं।

7.सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से राष्ट्रपति भवन में भेंट की

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से राष्ट्रपति भवन में भेंट की। श्री ठाकुर ने राष्ट्रपति का अपना कार्यकाल सफलतापूर्वक और राष्ट्र हित में फैसले लेने के लिए आभार प्रकट किया। उन्होंने राष्ट्रपति को हिमाचली परंपरा के अनुसार ऐतिहासिक चंबा थाल भेंट कर शुभकामनाएं दीं।

8.टाटा प्रोजेक्ट्स के प्रबंध निदेशक बने विनायक पई

टाटा प्रोजेक्ट्स ने विनायक पई को प्रबंध निदेशक (एमडी) नियुक्त करने की घोषणा की। कंपनी ने एक बयान में बताया कि पई ने विनायक देशपांडे की जगह ली है जो लगभग 11 साल तक इस जिम्मेदारी को संभालने के बाद अब सेवानिवृत्त होने वाले हैं। पई को इस क्षेत्र में तीन दशक से अधिक का अनुभव है।

9.भारत की जैव-अर्थव्यवस्था रिपोर्ट 2022 : भारत की जैव-अर्थव्यवस्था 2030 तक 300 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आंकड़े को छू लेगी

भारत की जैव-अर्थव्यवस्था रिपोर्ट 2022 जारी करते हुए केंद्रीय मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने बताया कि भारत की जैव अर्थव्यवस्था 2021 में 80 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक तक पहुंच गई है। 2020 में 14.1 प्रतिशत ($70.2 बिलियन से अधिक) की वृद्धि दर्ज की गई है। इस क्षेत्र में तेजी से विकास को देखते हुए, मंत्री ने कहा, जैव अर्थव्यवस्था द्वारा 2025 तक 150 बिलियन डॉलर और 2030 तक 300 बिलियन डॉलर के आंकड़े को छूने की संभावना है। मंत्री ने बायोटेक क्षेत्र के सभी हितधारकों, विशेष रूप से उद्योग, स्टार्टअप इकोसिस्टम, निवेशकों, वैज्ञानिकों, विद्वानों, उद्यमियों और डीबीटी, बीआईआरएसी जैसे समर्थकों से महत्वाकांक्षी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सामूहिक रूप से काम करने का आग्रह किया।

10.भारतीय रिजर्व बैंक ने सीमा पार से भुगतान के लिए ओपन, कैशफ्री भुगतान, नियरबाय और फेयरेक्स को मंजूरी दी

भारतीय रिजर्व बैंक ने नियामकीय ‘सैंडबॉक्स’ के तहत सीमापार भुगतान के लिये चार इकाइयों के उत्पादों को व्यावहारिक पाया है। इन उत्पादों का पहले परीक्षण किया जा चुका है। ‘सैंडबॉक्स’ से आशय नये उत्पादों या सेवाओं के नियंत्रित परिवेश में वास्तविक माहौल में परीक्षण से है। सीमित उद्देश्य के लिये होने वाले इस तरह के परीक्षण को लेकर नियामक नियमों में कुछ छूट देता है। आरबीआई के अनुसार, ये संगठन अब बैंकों और एनबीएफसी सहित विनियमित व्यवसायों को अपने सीमा पार भुगतान समाधान प्रदान कर सकते हैं। आरबीआई की उदारीकृत प्रेषण नीति सीमा पार निवेश को कवर करेगी। आरबीआई के अनुसार, विनियमित संस्थाएं उत्पाद का उपयोग करने पर विचार कर सकती हैं यदि यह सभी प्रासंगिक नियामक मानदंडों का अनुपालन करती है। निवेशकों को विदेशी शेयरों को प्रभावी ढंग से खरीदने में सक्षम बनाने के लिए, कंपनी हस्तांतरित राशि को अमेरिकी डॉलर जैसे विदेशी मुद्रा में परिवर्तित कर देगी और इसे विदेशी ब्रोकर को भेज देगी।

11.भारतीय बंदरगाह सलाहकार एन्नारासु ने IAPH इंडिया का प्रतिनिधि नियुक्त किया

अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए एक वैश्विक बंदरगाह मंच इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ पोर्ट्स एंड हार्बर्स (आईएपीएच) ने भारत में अपना नेटवर्क विकसित करने के लिए एन्नारासु करुनेसन को अपने प्रतिनिधि के रूप में नामित किया है। एन्नारासु एक मैकेनिकल इंजीनियर हैं, जिनके पास समुद्री और बंदरगाह क्षेत्र में 33 वर्षों से अधिक का नेतृत्व है। उन्होंने मुंबई बंदरगाह के साथ बंदरगाह उद्योग में अपना करियर शुरू किया और बाद में 2001 से 2004 तक मलेशिया के पोर्ट क्लैंग में वेस्टपोर्ट कंटेनर टर्मिनल के संचालन और सीईओ के महाप्रबंधक के रूप में काम किया।

12.नीति आयोग ने डिजिटल बैंक शीर्षक वाली रिपोर्ट जारी की

नीति आयोग ने कहा है कि भारत के पास डिजिटल बैंकों की सुविधा देने के लिहाज से आवश्यक प्रौद्योगिकी है और इसे बढ़ावा देने के लिए नियामक रूपरेखा बनाने की जरूरत होगी। आयोग ने “डिजिटल बैंकः भारत में लाइसेंसिंग और नियामकीय व्यवस्था के लिए एक प्रस्ताव” शीर्षक की अपनी रिपोर्ट में देश में डिजिटल बैंक लाइसेंसिंग और नियामकीय व्यवस्था के लिए एक खाका तैयार किया है। यह पेपर डिजिटल बैंकों को लाइसेंस देने के लिए मौजूदा अंतराल, उपेक्षित जगहों और वैश्विक नियामक सर्वोत्तम प्रथाओं की जांच करता है क्योंकि भारत की बैंकिंग मांगों को पूरा करने के लिए प्रौद्योगिकी का उचित उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

13.भारत का अनुसंधान एवं विकास दुनिया में सबसे कम खर्च करता है: नीति आयोग

भारत अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) पर दुनिया में सबसे कम खर्च करने वाले देशों में शामिल है। इसका खुलासा सरकारी थिंक टैंक नीति आयोग और इंस्टिट्यूट फॉर कॉम्पिटिटिवनेस की ओर से कराए अध्ययन में हुआ है। 2008-09 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 0.8 प्रतिशत की तुलना में 2017-18 में इनमें निवेश घटकर 0.7 प्रतिशत रह गया। आंकड़ों से पता चलता है कि इस मामले में भारत अन्य ब्रिक्स देशों की तुलना में कम खर्च करता है। ब्राजील जीडीपी का करीब 1.2 प्रतिशत, रूस 1.1 प्रतिशत, चीन 2 प्रतिशत से अधिक जबकि दक्षिण अफ्रीका 0.8 प्रतिशत आरएंडडी पर खर्च करते हैं। दुनिया का औसत करीब 1.8 प्रतिशत है।

14.भारत को 2021 में विदेशों से मनीऑर्डर के रूप में 87 अरब डॉलर मिले: UN Report

भारत को 2021 में विदेशों से मनीऑर्डर के रूप में 87 अरब डॉलर मिले और इस मामले में वह शीर्ष पर रहा है। डब्ल्यूएचओ की शरणार्थियों और प्रवासियों पर पहली रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि आज दुनिया में प्रत्येक आठ में से एक व्यक्ति यानी करीब एक अरब प्रवासी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट में यह कहा गया है। डॉलर के रूप में विदेशों से मनीऑर्डर प्राप्त करने में शीर्ष पांच देश भारत, चीन, मेक्सिको, फिलिपीन और मिस्र हैं। रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में 87 अरब डॉलर प्राप्त करने के साथ भारत निम्न और मध्यम आय वाले देशों की श्रेणी में शीर्ष पर है। वहीं चीन और मेक्सिको ने 53 अरब डॉलर, फिलीपीन ने 36 अरब डॉलर तथा मिस्र ने 33 अरब डॉलर प्राप्त किये। रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इस साल भी धन प्रेषण बेहतर रहने की उम्मीद है लेकिन कोविड-19 संकट के कारण चुनौतियां भी हैं।

15.फिल्म निर्माता केपी कुमारन ‘जेसी डेनियल अवार्ड 2022’ से सम्मानित

मलयालम फिल्म निर्माता केपी कुमारन को केरल के सर्वोच्च फिल्म पुरस्कार जेसी डेनियल अवार्ड से सम्मानित किया गया है। कुमारन ने मलयालम फिल्म उद्योग में उनके योगदान के लिए पुरस्कार जीता। इस पुरस्कार में 5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार, एक प्रशस्ति पत्र और एक पट्टिका शामिल है। 2021 की जूरी में गायक पी जयचंद्रन, निर्देशक सिबी मलयिल, फिल्म अकादमी के अध्यक्ष रंजीत और सांस्कृतिक मामलों के विभाग की प्रमुख सचिव रानी जॉर्ज शामिल थे।

16.Microsoft ने लॉन्च किया वीवा एंगेज एप

माइक्रोसॉफ्ट ने टीम्स ने एक नया एप वीवा इंगेज लॉन्च किया है। जो काफी हद तक फेसबुक जैसा है। यह एप काम के दौरान सोशल मीडिया नेटवर्किंग को बढ़ावा देता है। वीवा इंगेज वर्कप्लेस में कम्युनिकेशन, सेल्फ एक्सप्रेशन और कम्युनिटीज को बढ़ावा देता है। इसमें पोस्ट, वीडियो, फोटो आदि के साथ स्टोरीलाइंस सेक्शन दिया गया है।

17.व्यापक निंदा और विरोध के बाद ढाका में पाकिस्तान उच्चायोग ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से बंग्‍लादेश का विकृत झंडा हटाया

बांग्लादेश में व्यापक निंदा और विरोध के बाद ढाका में पाकिस्तान उच्चायोग ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से बांग्लादेश का विकृत झंडा हटा दिया है। पाकिस्तानी उच्चायोग ने अपने आधिकारिक पेज पर दोनों देशों का मिला-जुला झंडा लगा दिया था। फेसबुक पेज पर भारी प्रतिक्रियाओं के बाद पाकिस्‍तानी उच्‍चायोग को टिप्‍पणियां प्राप्‍त करने संबंधी विकल्‍प बंद करना पड़ा। बांग्‍लादेश के मुक्ति युद्ध के लडाकों, बांग्‍लादेश मुक्ति जुद्ध मंच और ‘कई अन्य संगठनों और व्यक्तियों ने इस पर आपत्ति दर्ज की थी। बांग्लादेश के झंडे को विकृत करने के लिए उन्‍होंने देश में आंदोलन शुरू करने की धमकी दी थी।

18.महान क्रांतिकारी अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की जयंती

23 जुलाई को महान क्रांतिकारी अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की जयंती मनाते हैं। चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्य प्रदेश के वर्तमान अलीराजपुर जिले के भावरा गांव में हुआ था। चंद्रशेखर 1921 में स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हुए, जब वे स्कूल के छात्र थे। दिसंबर 1921 में महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन शुरू किया। चंद्रशेखर ने आंदोलन में हिस्सा लिया और उन्हें अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने अपने नाम के साथ ”आजाद” शब्द लगाया था। किवदंती है कि जब उन्होंने यह नाम अपनाया तो कसम खाई थी कि पुलिस उन्हें कभी भी जीवित नहीं पकड़ सकेगी। वे राम प्रसाद बिस्मिल द्वारा गठित क्रांतिकारी संगठन ”हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन” में शामिल हो गए। 1925 में काकोरी रेल डकैती और 1928 में सहायक पुलिस अधीक्षक डॉन सॉन्डर्स की हत्या के कारण वे सबसे अधिक प्रसिद्ध हुए थे। 23 फरवरी 1931 को पुलिस ने आजाद को घेर लिया। उनकी दाहिनी जांग पर गोली लगी जिससे उनका बचना मुश्किल हो गया। उनकी पिस्तौल में एक गोली बची थी और वे पुलिस से घिरे हुए थे। इसलिए उनके पास बचने का कोई उपाय नहीं था। उन्होंने कभी जीवित नहीं पकड़े जाने की प्रतिज्ञा को ध्यान में रखते हुए खुद को गोली मार ली।

19.163वां आयकर दिवस

24 जुलाई को आयकर दिवस मनाया गया। भारत में आयकर प्रणाली के 150 वर्ष पूरे होने पर वर्ष 2010 में आयकर दिवस की शुरुआत की गई थी। वर्ष 1860 में पहली बार एक शुल्क के रूप में आयकर लगाया गया था, उसी वर्ष 24 जुलाई को आयकर प्राधिकरण शुरू हुआ था। इस अवसर पर कर-भुगतान को बढ़ावा देने और इसे नागरिकों के कर्तव्य के रूप में स्थापित करने के लिए अनेक लोक संपर्क कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) और देश भर में उसके सभी क्षेत्रीय कार्यालयों ने आयकर दिवस की 163वीं वर्षगांठ का आयोजन किया।

20.प्रसिद्ध वैज्ञानिक और आईएलएस निदेशक डॉ अजय परिदा का निधन

प्रसिद्ध वैज्ञानिक और इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज (ILS) के निदेशक, डॉ अजय कुमार परिदा का 58 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। उन्हें 2014 में भारत के राष्ट्रपति द्वारा विज्ञान के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने एम एस स्वामीनाथन रिसर्च फाउंडेशन में कार्यकारी निदेशक के रूप में भी काम किया था। उनका शोध मुख्य रूप से अजैविक तनाव सहनशीलता के साथ जलवायु अनुकूल फसल किस्मों को विकसित करने पर केंद्रित है।