लोकसभा उपचुनाव के लिए खत्म हुआ चुनाव प्रचार

0
118

CURRENT GK

 

1.फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैकहॉम भारत की चार दिन की यात्रा पर :-

फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैन्‍युअल मैकहॉम चार दिन की यात्रा पर हैं। उनकी यात्रा का उद्देश्‍य दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय आर्थिक, राजनीतिक और सामरिक संबंधों को मज़बूत और व्‍यापक बनाना है।

प्रधानमंत्री मोदी और इमेन्युअल मैकहोम अंतर्राष्ट्रीय सौर सहयोग के आधार सम्मेलन की सह-अध्यक्षता करेंगे। यात्रा के दौरान भारत और फ्रांस के बीच विभिन्न क्षेत्रों में समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। भारत-फ्रांस मुख्य कार्यकारी अधिकारी मंच की भी बैठक होगी। गौरतलब है कि अप्रैल 2000 से अक्तूबर 2017 के बीच फ्रांस 6 अरब 9 करोड़ डॉलर के कुल निवेश के साथ भारत में नौवां सबसे बड़ा निवेशक रहा है। फ्रांस के राष्ट्रपति के इस दौरे से इन संबंधों को और गति मिलने की संभावना है।

 

2.राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर 29 महिलाओं और नौ संस्‍थाओं को नारी शक्ति पुरस्‍कार प्रदान किये :-

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर वर्ष 2017 के लिए नारी शक्ति पुरस्कार प्रदान किये। राष्ट्रपति भवन में आयोजित विशेष कार्यक्रम में 29 महिलाओं और नौ संस्थाओं को महिलाओं, विशेष रूप से कमजोर और वंचित वर्ग की महिलाओं के हित में उल्लेखनीय सेवाओं के लिए ये पुरस्कार दिये गये। इस अवसर पर राष्‍ट्रपति ने कहा कि बेटियों को बराबरी का दर्जा दिलाने के लिए हमें अपनी परम्‍पराएं बदलनी होंगी।
उन्होंने कहा कि हमें अपनी बेटियों की पुकार सुननी ही होगी। हर उस रीति रिवाज को हर उस परम्परा को बदलना होगा जो हमारी बेटियों को बराबरी का अधिकार देने में बाधक बनी हुई है। महिलाओं के साथ होने वाले बहुत से अपराध सामने ही नहीं आ पाते हैं। उनका साथ देने के लिए पुरुषों को भी जागरूक और संवेदनशील बनाया जाना चाहिए।
राष्ट्रपति ने राष्ट्रपति भवन में मानव तस्करी से मुक्त कराये गए लोगों से भी मुलाकात की।

 

3.उच्‍चतम न्‍यायालय ने लिविंग विल को मान्‍यता देते हुए लाइलाज रोगियों को इच्‍छा मृत्‍यु देने की अनुमति प्रदान की :-

उच्‍चतम न्‍यायालय ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए लाइलाज रोगियों को इच्‍छा मृत्‍यु देने की अनुमति प्रदान कर दी।
प्रधान न्‍यायाधीश न्‍यायमूर्ति दीपक मिश्र की अध्‍यक्षता वाली पांच न्‍यायाधीशों की संविधान पीठ ने लिविंग विल को मान्‍यता देने संबंधी याचिका पर सुनवाई करते हुए लाइलाज रोगियों को कुछ नियमों और प्रक्रियाओं के तहत इच्‍छा मृत्‍यु देने की अनुमति प्रदान की।
पीठ में शामिल न्‍यायमूर्ति ए.के.सिकरी, न्‍यायमूर्ति ए.एम.खानविलकर, न्‍यायमूर्ति डी.वाई.चन्‍द्रचूड़ और न्‍यायमूर्ति अशोक भूषण ने इस बारे में दिशा-निर्देश भी तय किये कि अंतिम इच्‍छा को कौन कार्य रूप देगा और मेडिकल बोर्ड इस आधार पर इच्‍छा मृत्‍यु के लिए कहेगा।
सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने यह व्‍यवस्‍था भी दी कि ये निर्देश  इस बारे में कानून बनने तक लागू रहेगे। लिविंग विल की धारणा के अंतर्गत कोई भी स्‍त्री या पुरूष पहले ही तय कर सकेगा कि बीमारी लाइलाज होने की हालत में उसे जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा जाना है या नहीं।
प्रधान न्‍यायाधीश ने निर्णय सुनाते हुए कहा कि लिविंग विल के मुद्दे पर सभी न्‍यायाधीश एकमत थे ताकि जो व्‍यक्ति असहनीय पीड़ा बर्दाश्‍त करते रहना नहीं चाहता, उसे इच्‍छा मृत्‍यु देने की व्‍यवस्‍था हो।
इस आशय की जनहित याचिका दायर करने वाले स्‍वैच्छिक संगठन की ओर से पेश उच्‍चतम न्‍यायालय के वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता प्रशांत भूषण ने पहले न्‍यायालय को बताया था कि कोमा में पहुंचे रोगी अपनी इच्‍छा नहीं बता सकता, इसलिए उन्‍हें मृत्‍यु का अधिकार मिलना चाहिए।

 

4.लोकसभा उपचुनाव के लिए खत्म हुआ चुनाव प्रचार :-

बिहार में अररिया लोकसभा सीट और जहानाबाद, भभुआ विधानसभा सीट के उपचुनाव के लिए प्रचार समाप्‍त हो गया।यहां 38 उम्‍मीदवार मैदान में है।
अररिया में राष्‍ट्रीय जनता दल सांसद मोहम्‍मद तसलीमुद्दीन और जहानाबाद से आरजेडी विधायक मुद्रिका सिंह यादव तथा भभुआ से भारतीय जनता पार्टी विधायक आनंद भूषण पांडे के निधन के कारण यह उपचुनाव कराया जा रहा है।
उत्‍तर प्रदेश की फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीटों के उप-चुनाव का प्रचार अभियान समाप्त हो गया। यह उप-चुनाव गोरखपुर सीट से मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और फूलपुर सीट से उप-मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इस्‍तीफे के कारण कराया जा रहा है, क्‍योंकि ये दोनों विधान परिषद के लिए चुन लिये गये है। दोनों राज्‍यों में रविवार को वोट डाले जाएंगे और मतगणना 14 मार्च को की जाएगी।

 

5.सूचना और प्रसारण मंत्री ने किया रानी लक्ष्मी बाई और रजिया सुल्तान के जीवन पर प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तकों का विमोचन :-

सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने रानी लक्ष्मी बाई और रजिया सुल्तान के जीवन पर प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित पुस्तकों का विमोचन किया। ये पुस्तकें एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम के तहत 13 भाषाओं में प्रकाशित की गई हैं। श्रीमती ईरानी ने कहा कि महिलाओं की शक्ति और साहस का जश्न केवल अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस जैसे अवसरों पर ही नहीं बल्कि प्रतिदिन मनाया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जोश ये जूनून, ये जश्न मात्र एक दिन तक यह सीमित नहीं रह जाएगा। हर दिन महिला का दिन है, हर दिन शक्ति का पर्व है। हर दिन उत्सव है इंसानियत का जिसकी केन्द्र बिन्दू महिला है।

 

6.भारत ने तालिबान को बिना किसी पूर्व शर्त के शांति प्रक्रिया में शामिल करने के अफगानिस्तान सरकार के प्रस्ताव का समर्थन किया :-

भारत ने तालिबान को बिना किसी पूर्व शर्त के शांति प्रक्रिया में शामिल करने के अफगानिस्तान सरकार के प्रस्ताव का समर्थन किया है। भारत ने विश्व समुदाय से भी इन प्रयासों का समर्थन करने का आह्वान किया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैय्यद अकबरुद्दीन ने परिषद को बताया कि इससे बच्चों और महिलाओं सहित सभी अफगान नागरिकों के अधिकारों की रक्षा होगी। उन्होंने कहा कि अफगानि‍स्‍तान सरकार की शांति की नई पेशकश तालिबान को मुख्यधारा में शामिल करने की दिशा में एक मजबूत कदम है। वहीं श्री अकबरुद्दीन ने आतंकी समूहों की हिंसा का कड़ा जवाब देने की भी अपील की।

28 फरवरी को अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफगनी ने काबुल में एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में तालिबान के समक्ष विस्तृत शांति प्रस्ताव पेश किया था।

 

7.तोरी-बालूमठ रेल लाइन और बालूमठ-सीसीएल साइडिंग राष्ट्र को समर्पित :-

रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनोज सिन्हा ने आज तोरी-बालूमठ रेल लाइन और बालूमठ-सीसीएल साइडिंग को राष्ट्र को समर्पित किया। रेल भवन में वर्चुअल कांफ्रेंसिंग के जरिये गाड़ी को झंडी दिखाकर रवाना करते हुए श्री मनोज सिन्हा ने कहा, ‘झारखंड के लातेहार क्षेत्र से प्रतिदिन लगभग 170 मिलियन टन कोयले के यातायात को दुरुस्त करने की आवश्यकता महसूस हो रही थी। वर्ष 2005-06 से ही तोरी-शिवपुरी 44 किलोमीटर लम्बी नई रेलवे लाइन को मंजूरी दे दी गई थी।

तोरी-शिवपुर नई लाइन (44.0 किलोमीटर) को मुख्य रूप से लातेहार और चतरा जिलों (झारखंड) के आम्रपाली तथा मगध कोयला खानों से कोयला निकालने के लिए निर्मित किया जा रहा है। इस क्षेत्र में अपार कोयला भंडार मौजूद हैं। तोरी से बालूमठ लाइन के बीच 3 स्टेशन, 5 बड़े पुल, 7 ओवर ब्रिज और 39 छोटे पुल पड़ते हैं। आरंभिक आकलन के अनुसार कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने  विभिन्न कोयला ब्लाकों से रोजाना लगभग 80 रेक कोयला निकालने का प्रस्ताव किया है। रेल नेटवर्क से आम्रपाली और मगध कोयला खानों को जोड़ने के लिए सीआईएल 2 साइडिंग का विकास कर रहा है।

 

8.अतुल्य भारत धरोहर श्रृंखला के तहत संगीत-माला कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली, वाराणसी और कोच्चि में :-

दिल्ली में यह आयोजन 10 मार्च, 2018 को लाल किला में शुरू होगा। सबसे पहले इटावा घराने के सितार वादक उस्ताद शाहिद परवेज खान हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत पेश करेंगे। उनके बाद हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में मुम्बई की डॉ. अश्विनी भिड़े-देशपांडे गायन प्रस्तुत करेंगी। वे जयपुर-अतरौली घराने से संबंधित हैं। भारत की अग्रणी बाउल संगीतकार और बंगाल की बाउल लोकगायिका, संगीतकार और दास्तानगो पार्वती बाउल 11 मार्च को अपना कार्यक्रम पेश करेंगी।

रामपुर (उत्तर प्रदेश) के वारसी बिरादरान कव्वाली पेश करेंगे। उल्लेखनीय है कि ये विश्व प्रसिद्ध कव्वाल पद्मश्री अजीज अहमद खान वारसी के पौत्र हैं। इनकी कव्वाली में दिल्ली घराने की गायकी की विशेष छाप नजर आती है। इन्हें पारंपरिक सूफियाना कव्वाली, गजल, ठुमरी, भजन और शास्त्रीय बंदिशों के लिए जाना जाता है।

17 मार्च, 2018 को अरब की सराय, हुमायूं के मकबरे पर वायलिन वादक डॉ. एल सुब्रमण्यम, मृदंग वादक डॉ. उमायलपुरम के सिवारामन और संतूर वादक पंडित शिव कुमार शर्मा अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे। इसी तरह 18 मार्च, 2018 को श्रीमती मालिनी अवस्थी (ठुमरी) और कैपिटल सिटी मिन्सट्रेल्स (सहगान) का कार्यक्रम होगा।

 

9.पाकिस्तानी अदालत का फरमान, सरकारी नौकरी के लिए धर्म बताना जरूरी :-

इस्लामाबाद -पाकिस्तान की एक अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि पहचान दस्तावेज सहित सरकारी नौकरी के लिए आवेदन देते समय सभी नागरिकों को अनिवार्य रूप से अपना धर्म बताना होगा। पाकिस्तानी अदालत का यह फैसला मुस्लिम बहुल देश के कट्टरपंथी तबके के लिए बड़ी जीत जैसा है। अदालत के शुक्रवार के इस फैसले को मानवाधिकार संगठनों ने देश के अल्पसंख्यक समुदाय को झटका करार दिया है। इस्लामाबाद हाई कोर्ट के जज शौकत अजीज सिद्दीकी ने शपथ से जुड़े एक मामले खत्म-ए-नबुव्वत की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। जज ने कहा कि यह सभी पाकिस्तानियों के लिए अनिवार्य है कि वे सिविल सर्विस, आर्म्ड फोर्सेज या न्यायपालिका के लिए शपथ से पहले अपने धर्म का खुलासा करें।