GENERAL KNOWLEDGE

0
169

26 जनवरी से स्कूलों में संविधान की प्रस्तावना पढ़ाना अनिवार्य: महाराष्ट्र सरकार

महाराष्ट्र में 26 जनवरी 2020 से सभी स्कूलों में प्रतिदिन सुबह संविधान की प्रस्तावना का पाठ अनिवार्य रूप से किया जाएगा. महाराष्ट्र के स्कूलों में संविधान की प्रस्तावना का पाठ प्रत्येक दिन सुबह की प्रार्थना के बाद किया जायेगा. राज्य सरकार के एक सर्कुलर में कहा गया है कि प्रस्तावना का पाठ संविधान की संप्रभुत्ता, सबका कल्याण अभियान का हिस्सा है.

यह सरकार का काफी पुराना प्रस्ताव है. सरकार ने इस मामले में साल 2013 के फरवरी माह में परिपत्र जारी किया था. संविधान की प्रस्तावना के अतिरिक्त राज्य के सभी स्कूलों में मराठी भाषा की पढ़ाई कराना भी अनिवार्य होगा.

तेलंगाना नगरपालिका चुनावों में होगा फेस रिकग्निशन एप का इस्तेमाल

तेलंगाना स्टेट इलेक्शन कमीशन द्वारा नगरपालिका चुनावों के दौरान चेहरा पहचानने वाले मोबाइल एप (Face Recognition App) का उपयोग किये जाने की घोषणा की गई. इसका इस्तेमाल दस चयनित पोलिंग स्टेशंस पर पायलट के तौर पर किया जाएगा.

अगर इसका कोई नकारात्मक परिणाम सामने आता है तो मतदाता अपने मताधिकारक से वंचित नहीं होगा तथा इसके बाद वोटर का डाटा डिलीट कर दिया जाएगा. चयनित स्थानों को छोड़कर मतदाताओं की प्रमाणिकता जांचने हेतु पुराने तरीकों का ही उपयोग किया जाएगा.

अमेरिका में पहली बार सिखों की जातीय समूह के रूप में गणना होगी

अमेरिका में साल 2020 की जनगणना में पहली बार सिखों की गणना एक अलग जातीय समूह के तौर पर की जाएगी. इससे अमेरिका में केवल सिखों के लिए ही नहीं, अन्य अल्पसंख्यक जातीय समूहों की अलग गणना का रास्ता खुलेगा. यूनाइटेड सिख के अनुसार अमेरिका में सिखों की संख्या लगभग दस लाख है.

अमेरिका के अतिरिक्त ब्रिटेन में भी सिखों ने एक अलग जातीय समूह के रूप में शामिल किये जाने की मांग की है. नवंबर 2019 में ब्रिटेन में सिख समुदाय सरकार के खिलाफ न्यायालय की शरण में गया क्योंकि उन्हें एक अलग जातीय समूह के रूप में पहचान नहीं दी गई. यह अमेरिकी सरकार में सिखों का समान तथा सटीक प्रतिनिधित्व भी सुनिश्चित करेगा.

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार: राष्ट्रपति कोविंद ने 22 बच्चों को किया सम्मानित

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में देश भर के 22 बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया. भारतीय बाल कल्याण परिषद ने इन पुरस्कारों की घोषणा की थी. वीरता पुरस्कार प्राप्त किए 22 बच्चों में 10 लड़कियां और 12 लड़के शामिल हैं. यह पुरस्कार एक बच्चे को मरणोपरांत दिया गया.

भारतीय बाल कल्याण परिषद ने साल 1957 में ये पुरस्कार शुरु किये थे. पुरस्कार के रूप में एक पदक, प्रमाण पत्र और नकद राशि दी जाती है. सभी बच्चों को विद्यालय की पढ़ाई पूरी करने तक वित्तीय सहायता भी दी जाती है. ये बहादुर बच्चे 26 जनवरी के दिन हाथी पर सवारी करते हुए गणतंत्र दिवस परेड में सम्मिलित होते हैं.

CAA पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने 22 जनवरी 2020 को कहा कि वे नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ दायर याचिकाओं पर केंद्र सरकार का पक्ष जाने बगैर कानून पर रोक नहीं लगा सकता. सुप्रीम कोर्ट ने नागरिकता कानून पर फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट नागरिकता कानून की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने संबंधी याचिकाओं पर सुनवाई हेतु पांच सदस्यीय संविधान पीठ का गठन करेगा.

कोर्ट ने नागरिता कानून को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर केंद्र को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है और कहा है कि अब अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद होगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीएए का विरोध कर रहे याचिकाकर्ताओं को किसी भी प्रकार की अंतरिम राहत देने संबंधी आदेश 04 हफ्ते बाद ही जारी किया जाएगा.

प्रसिद्ध लेखिका नासिरा शर्मा को मिलेगा वर्ष 2019 का व्यास सम्मान

नासिरा शर्मा को साल 2014 में प्रकाशित उनके उपन्यास ‘कागज की नाव’ के लिए वर्ष 2019 का व्यास सम्मान दिया जाएगा. यह सम्मान हरेक साल भारतीय भाषाओं के लेखक तथा कवि को दिया जाता है.

व्यास सम्मान 2019: प्रसिद्ध लेखिका नासिरा शर्मा को साल 2019 के ‘व्यास सम्मान’ के लिए चुना गया है. नासिरा शर्मा को साल 2014 में प्रकाशित उनके उपन्यास ‘कागज की नाव’ के लिए वर्ष 2019 का व्यास सम्मान दिया जाएगा.

यह सम्मान हरेक साल भारतीय भाषाओं के लेखक तथा कवि को दिया जाता है. यह निर्णय हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध विद्वान डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने किया. चयन समिति में प्रो. रामजी तिवारी, ममता कालिया, प्रो. राजेन्द्र गौतम, अरुणा गुप्ता और सुरेश रितुपर्ण शामिल हैं.

पहला व्यास सम्मान

प्रसिद्ध आलोचक डॉ. रामविलास शर्मा को साल 1991 में पहला व्यास सम्मान मिला था. यह पुरस्कार साल 2018 के लिए चर्चित कवि लीलाधरी जगूड़ी को दिया गया था. कवि लीलाधरी जगूड़ी को यह सम्मान साल 2013 में प्रकाशित उनके कविता संग्रह ‘जितने लोग उतने प्रेम’ के लिए दिया गया था.

व्यास सम्मान के बारे में

भारतीय साहित्य में किये गये योगदान हेतु व्यास सम्मान दिया जाता है. यह सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार के बाद दूसरा सबसे बड़ा साहित्य-सम्मान है. के. के. बिड़ला फाउंडेशन ने इस पुरस्कार को साल 1991 में शुरू किया था. रामविलास शर्मा को पहला व्यास सम्मान उनकी कृति ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’ के लिए दिया गया था.

नासिरा शर्मा के बारे में

• नासिरा शर्मा का जन्म 22 अगस्त 1948 को इलाहाबाद में हुआ था. उन्होंने फारसी भाषा एवं साहित्य में एम. ए. किया.

• नासिरा शर्मा हिन्दी की एक प्रसिद्ध लेखिका हैं. उन्होंने सृजनात्मक लेखन के साथ ही स्वतन्त्र पत्रकारिता में भी उल्लेखनीय कार्य किया है.

• वे ईरानी समाज और राजनीति के अलावा साहित्य कला एवं सांस्कृतिक विषयों की विशेषज्ञ हैं. उन्हें उर्दू, अंग्रेज़ी और पश्तो भाषा पर भी अच्छी पकड़ है.

• उन्होंने औरत के लिए ‘औरत’ नामक पुस्तक लिखी जिसमें कामगार स्त्रियों के संदर्भ में लिखा है. वे निम्नवर्गीय तथा कामकाजी औरतों की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करती रहती हैं.

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 22 जनवरी 2020 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से-कोरोना वायरस के सामान्य लक्षण और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम आदि शामिल हैं. 

कोरोना वायरस क्या है? चीन में फैले कोरोना वायरस से भारत सतर्क

कोरोना वायरस के सामान्य लक्षणों से 300 से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं. पिछली बार SARS वायरस की वजह से 800 लोगों की मौत हुई थी. भारत सरकार ने भी इसे लेकर एक एडवाइजरी जारी की है. इसकी पहचान पहली बार दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में हुई थी.

कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर सबसे पहले सांस लेने में दिक्कत, गले में दर्द, जुकाम, खांसी और बुखार होता है. कोरोना वायरस को रोकने के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है, इसलिए डॉक्टर जोखिम को कम करने के लिए अन्य महत्वपूर्ण दवाओं का उपयोग कर रहे हैं.

DAC ने स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने हेतु 5,000 करोड़ रुपये के रक्षा उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी

रक्षा उपकरणों की खरीद के लिए डीएसी सर्वोच्च निर्णय लेने वाली संस्था है. बैठक की अध्यक्षता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की. इस रक्षा अधिग्रहण सौदे का उद्देश्य स्वदेशीकरण को बढ़ावा देना है. इन उपकरणों में अत्‍याधुनिक इलेक्‍ट्रानिक युद्ध उपकरण शामिल है.

भारतीय सेना के लिए डीआरडीओ द्वारा डिजाइन और भारतीय उद्योग द्वारा स्थानीय स्तर पर निर्मित की गईं अत्याधुनिक इलेक्ट्रॉनिक युद्ध प्रणालियां शामिल हैं. इलेक्ट्रॉनिक युद्ध का मुख्य उद्देश्य विरोधी को विद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम के आसानी से उपयोग करने एवं उसके लाभों से वंचित रखना है.

World Economic Forum 2020: दीपिका पादुकोण वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में ‘क्रिस्टल अवॉर्ड’ से सम्मानित

दीपिका पादुकोण ने हाल ही में इवेंट में डिप्रेशन संग अपनी जंग के बारे में बात की. उन्होंने कहा कि लोगों को डिप्रेशन और तनाव को भी दूसरी बीमारियों की तरह समझमा चाहिए तथा इसका इलाज हो सकता है. यह अवॉर्ड दीपिका पादुकोण को 20 जनवरी 2020 को मार्टिन लूथर दिवस पर प्रदान किया गया है.

स्विटजरलैंड के दावोस में हुए समारोह के दौरान इस पुरस्कार को पाने वाली दीपिका पादुकोण एकमात्र भारतीय अभिनेत्री रहीं. दीपिका पादुकोण को ये अवॉर्ड मेंटल हेल्थ के बारे में जागरूकता फैलाने तथा इसका नेतृत्व करने के लिए दिया गया है.

वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना 01 जून से देश भर में होगा लागू, जानिए क्या है इसके फायदे

इस कार्ड को लागू हो जाने के बाद पूरे देश में एक ही तरह का राशन कार्ड होगा. वर्तमान में, यह योजना 01 जनवरी 2020 से देश भर के 12 राज्यों में चालू है. इस योजना की प्रमुख विशेषता यह है कि इस योजना के तहत देशभर में उपभोक्ताओं को एक ही राशन कार्ड दिया जाएगा, जिसका इस्तेमाल वो कहीं भी कर सकते हैं.

इससे पहले केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने वर्ष 2019 में ‘वन नेशन, वन राशन कार्ड’ योजना का पायलट प्रॉजेक्ट चार राज्यों में लागू किया था. इस योजना से सरकार को उम्मीद है कि इससे भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगा. इस बदलाव से एक से अधिक कार्ड रखने की संभावना भी खत्म हो जाएगी.

हैदराबाद विश्व के गतिशील शहरों की सूची में पहले स्थान पर, जानिये दिल्ली और मुंबई का स्थान

इस सूची में हैदराबाद ने बेंगलुरु को पछाड़कर विश्व के सबसे प्रगतिशील शहर के रूप में उभरकर सामने आया है. जेएलएल के अनुसार आर्थिक सुस्ती के बावजूद विश्व के बीस डायनेमिक शहरों की सूची में भारत के सात शहरों को जगह मिली है.

हैदराबाद ने सामाजिक-आर्थिक विकास जैसे मानदंडों पर विश्व के किसी भी अन्य शहर से बेहतर स्कोर किया है. जेएलएल ने यह सूची बनाते समय विश्वभर के शहरों के सामाजिक-आर्थिक एवं वाणिज्यिक परिसंपत्तियों एवं रीयल एस्टेट मार्केट को ध्यान में रखा है.