GENERAL KNOWLEDGE

0
51

पीवी सिंधु ने पहला बीबीसी इंडिया स्पोर्ट्स वुमन ऑफ द इयर‘ अवॉर्ड जीता

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को वोटिंग के ज़रिए बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्स वुमन ऑफ़ द इयर 2019 चुना गया है. पीवी सिंधु को यह सम्मान विश्वभर के प्रशंसकों द्वारा सबसे अधिक वोटिंग मिलने के कारण दिया गया है. पीवी सिंधु का चयन पांच प्रतिभागियों के बीच किया गया. केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने पीवी सिंधू के नाम की घोषणा की.

पीवी सिंधु ने बीते साल स्विट्ज़रलैंड में बैडमिंटन की विश्व चैंपियनशिप जीती थी. वो ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी थीं. पीवी सिंधु के नाम विश्व चैंपियनशिप के पांच मेडल हैं. वे ओलंपिक में बैडमिंटन के एकल मुक़ाबले में रजत पदक जीतने वाली भी पहली खिलाड़ी हैं. वे पिछले चार साल से लगातार टॉप-10 खिलाड़ियों में शामिल रही हैं.

अशरफ गनी ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने हाल ही में दूसरे कार्यकाल के लिये राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली. सितंबर 2019 में हुए राष्ट्रपति चुनाव के वोटों की गिनती फरवरी में पूरी हो चुकी थी. इस गिनती में चुनाव आयोग ने अशरफ गनी की जीत की घोषणा भी कर दी थी.

अशरफ गनी को चुनाव में 50.64 फीसदी वोट हासिल हुए हैं. जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी अब्दुल्ला अब्दुल्ला को 39.52 फीसदी वोट मिले. संयुक्त राष्ट्र परिषद ने अफगानिस्तान सरकार से महिलाओं सहित राजनीतिक और सिविल सोसाइटी के प्रतिनिधियों के साथ गहन बातचीत के जरिये शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का निवेदन किया है.

पूनम यादव आईसीसी महिला T20 वर्ल्ड कप एकादश में जगह बनाने वाली अकेली भारतीय

लेग स्पिनर पूनम यादव हाल ही में आईसीसी महिला T20 वर्ल्ड कप एकादश में जगह बनाने वाली अकेली भारतीय हैं. पूनम यादव ने आईसीसी महिला T20 वर्ल्ड कप में पांच मैच खेलकर कुल दस विकेट अपने नाम किए. इसमें 19 रन देकर चार विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस था.

पूनम यादव के अतिरिक्त युवा भारतीय स्टार शेफाली वर्मा को बतौर 12वीं खिलाड़ी इस टीम में जगह मिली है. भारत को फाइनल में हराकर वर्ल्ड कप जीतने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम की सर्वाधिक पांच खिलाड़ी आईसीसी टीम में हैं. ऑस्ट्रेलिया ने हाल ही फाइनल में भारत को 85 रन से हराकर 5वीं बार यह खिताब अपने नाम किया.

केरल में कोविड-19 के कारण 31 मार्च तक सभी सिनेमा थिएटर बंद रखने का फैसला

केरल में कोरोना वायरस के वजह से 11 मार्च से 31 मार्च तक सभी सिनेमा थिएटर बंद रखने का फैसला किया गया है. यह निर्णय कोच्चि में विभिन्न मलयालम सिनेमा संगठनों की बैठक में लिया गया है. कोरोना वायरस से दुनियाभर में मरने वाले लोगों की संख्या 4,000 से अधिक हो गई है.

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार राज्य में कोरोना वायरस के तीन नए मामलों की पुष्टि हुई है, जिसके बाद राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर चार हो गई है. भारत ने 31 मार्च तक सभी विदेशी शिप की प्रवेश बैन कर दी है. इसके अतिरिक्त, 31 मार्च तक ट्यूशन क्लास, आंगनवाड़ी, मदरसे बंद कर दिए गए हैं.

पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु मोबाइल एप्प लॉन्च किया

पंजाब सरकार ने लोगों को कोरोना वायरस (COVID-19) और इससे बचाव एवं सावधानियों के बारे में जागरुक करने के लिए COVA Punjab नामक मोबाइल एप्प लॉन्च किया है. इस मोबाइल एप्प में कोरोना वायरस से बचने हेतु यात्रा और अन्य बचाव के उपाय बताए गये हैं. मुख्य सचिव ने बताया कि इस मोबाइल एप्प से लोगों को ऐसे लक्षणों को पहचानने में सहायता मिलेगी जो कोरोना वायरस के संभावित लक्षण हो सकते हैं. इससे लोगों को नजदीकी अस्पताल और जिले में कोरोना हेतु विशेष नोडल अधिकारी की जानकारी भी प्राप्त हो सकेगी.

साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019: शशि थरूर समेत 23 लेखकों को मिलेगा यह पुरस्कार

कांग्रेस नेता शशि थरूर को उनकी अंग्रेजी में लिखी पुस्तक ‘एन इरा ऑफ डार्कनेस’ हेतु पुरस्कृत किया जा रहा है. वहीँ, नंद किशोर आचार्य को यह पुरस्कार उनकी हिंदी कविता ‘छीलते हुए अपने को’ के लिए दिया जा रहा है.

हाल ही में साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019 की घोषणा हो चुकी है. राजनेता एवं लेखक शशि थरूर तथा नाटककार नंद किशोर आचार्य समेत 23 लेखकों को साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019 के लिए चुना गया है.

साहित्य अकादमी ने 18 दिसंबर 2019 को इन नामों की घोषणा की. साहित्य अकादमी के अनुसार, इन सभी विजेताओं को 24 फरवरी 2020 को दिल्ली में ताम्र पत्र और एक लाख रुपये के नकद पुरस्कार के साथ सम्मानित किया जाएगा.

कांग्रेस नेता शशि थरूर को उनकी अंग्रेजी में लिखी पुस्तक ‘एन इरा ऑफ डार्कनेस’ हेतु पुरस्कृत किया जा रहा है. वहीँ, नंद किशोर आचार्य को यह पुरस्कार उनकी हिंदी कविता ‘छीलते हुए अपने को’ के लिए दिया जा रहा है.

साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019 पूर्ण सूची: एक नजर में

लेखकपुस्तक (शीर्षक और शैली)भाषा
शशि थरूरएन इरा ऑफ डार्कनेसअंग्रेजी
नंदकिशोर आचार्यछीलते हुए अपने कोहिन्दी
जयश्री गोस्वामी महंतचाणक्यअसमिया
एल. बिरमंगल सिंहई अमादी अदुनगीगी ईठतमणिपुरी
चो. धर्मनसूलतमिल
बंदि नारायणा स्वामीसेप्ताभूमितेलुगु
फुकन चन्द्र बसुमतारीआखाइ आथुमनिफ्रायबोडो
निलबा आ. खांडेकारधवर्डसकोंकणी
कुमार मनीष अरविन्दजिनगीक ओरिआओन करैतमैथिली
वी. मधुसूदनन नायरअचन पिरन्ना वीदुमलयालम
अनुराधा पाटीलकदाचित अजूनहीमराठी
पेन्ना-मधुसूदनःप्रज्ञाचाक्षुषम्संस्कृत
अब्दुल अहद हाज़िनीअख़ याद अख़ कयामतकश्मीरी
तरुण कांति मिश्रभास्वतीओड़िया
किरपाल कज़ाकअंतहीनपंजाबी
रामस्वरूप किसानबारीक बातराजस्थानी
काली चरण हेम्ब्रमसिसिरजलीसंथाली
ईश्वर मूरजाणीजीजलसिंधी
चिन्मय गुहाघुमेर दरजा थेलेबाड्ला
ओम शर्मा जन्द्रयाड़ीबंदरालता दर्पणडोगरी
रतिलाल बोरीसागरमोजमा रेवुं रेगुजराती
विजयाकुड़ी एसारूकन्नड़
शफी किदवईसवनेह-सर सैयद : एक बाज़दीदउर्दू

साहित्य अकादमी पुरस्कार के बारे में

साहित्य अकादमी पुरस्कार भारत में एक साहित्यिक सम्मान है. साहित्य अकादमी द्वारा यह पुरस्कार प्रतिवर्ष दिया जाता है. यह अकादमी प्रतिवर्ष भारत को अपने द्वारा मान्यता प्रदत्त प्रमुख भाषाओं में से प्रत्येक में प्रकाशित सर्वोत्कृष्ट साहित्यिक कृति को पुरस्कार प्रदान करती है.

ये पुरस्कार पहली बार साल 1955 में दिये गये थे. पुरस्कार की स्थापना के समय पुरस्कार राशि केवल पांच हजार रुपए थी लेकिन समय-समय पर यह राशि बढ़ती गई.