TALENT HUNT ANSWERS 15/04/2020

0
73

1.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद भारतीय रेलवे ने भी किस तारीख तक सभी यात्री ट्रेनें रद्द रखने की घोषणा की है?
a. 3 मई
b. 10 मई
c. 15 जून
d. 20 अप्रैल

Answer: a. 3 मई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद भारतीय रेलवे ने भी 3 मई तक सभी यात्री ट्रेनें रद्द रखने की घोषणा की है. गौरतलब है कि रेलवे ने देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बाद पहले 31 मार्च तक और फिर लॉकडाउन बढ़ने के बाद 14 अप्रैल तक सभी यात्री ट्रेनें रद्द कर दी थीं. हालांकि, इस दौरान मालगाड़ियां चलाई जाएंगी. रेलवे ने कहा कि हमने विस्तारित लॉकडाउन अवधि को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया है. रेलवे ने कहा कि 3 मई की मध्य रात्रि यानी रात 12 बजे तक सभी यात्री सेवाएं बंद रहेंगी.


2.विश्व बैंक के ‘दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस’ आर्थिक अद्यतन के अनुसार, COVID- 19 महामारी के कारण वित्त वर्ष 2021 में किस देश की आर्थिक विकास दर की वर्ष 1991 के उदारीकरण के बाद से सबसे खराब रहने की संभावना है?
a. नेपाल
b. चीन
c. बांग्लादेश
d. भारत

Answer: d. भारत
विश्व बैंक के अनुसार, दक्षिण एशियाई क्षेत्र के आठ देशों की आर्थिक वृद्धि दर वर्ष 2020-21 में 1.8 से 2.8% रहने का अनुमान है जो छह माह पूर्व 6.3 प्रतिशत अनुमानित थी. विश्व बैंक के अनुसार, वर्ष 2019 के 5.4-4.1% आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान के विपरीत, वर्ष 2020-21 में 1.5-2.8% प्रतिशत रहने का अनुमान है. वित्त वर्ष 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 1.5% बढ़कर 2.8% होने का अनुमान है. विश्व बैंक के समान अन्य अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों ने भी भारत की विकास दर कम रहने का अनुमान लगाया है.


3.हाल ही में आर्थिक क्षेत्र में COVID-19 के प्रभावों को देखते हुए भारत सरकार आने वाले दिनों में किसी भी अनिश्चितता की स्थिति से निपटने हेतु भारत और किस देश के बीच एक मुद्रा विनिमय समझौते पर सहमति के लिये प्रयास कर रही है?
a. अमेरिका
b. नेपाल
c. पाकिस्तान
d. चीन

Answer: a. अमेरिका
विश्व में COVID-19 से प्रभावित अन्य देशों की तरह भारत में भी स्वास्थ्य के अलावा कई अन्य क्षेत्रों में भी इसके गंभीर प्रभाव देखने को मिले हैं. आर्थिक क्षेत्र में COVID-19 से उत्पन्न हुए दबाव के कारण मार्च और अप्रैल में अब तक भारतीय इक्विटी और ऋण बाज़ार में संस्थागत विदेशी निवेशकों द्वारा बड़ी मात्रा में शेयर की बिक्री देखी गई है. एक द्विपक्षीय मुद्रा विनिमय समझौता दो देशों के बीच निश्चित विनिमय दर पर दी जाने वाली एक तरह की क्रेडिट लाइन है. वर्तमान में COVID-19 के कारण आर्थिक क्षेत्र में उत्पन्न हुई चुनौतियों के बीच अमेरिका के साथ मुद्रा विनिमय की सुविधा से भारतीय रिज़र्व बैंक को मुद्रा अस्थिरता से निपटने में सहायता प्राप्त होगी.


4.दुनिया में हाइड्रोक्सीहक्लोुरोक्विन (Hydroxychloroquine) के उत्पापदन और निर्यात में कौन सा देश शीर्ष स्थान पर है?
a. जापान
b. अमेरिका
c. भारत
d. रूस

Answer: c. भारत
आँकड़ों के अनुसार, वैश्विक आपूर्ति में भारत की हिस्से दारी तकरीबन 70 प्रतिशत है. फार्मास्युथव  टिकल्सप विभाग के अनुसार, हाइड्रोक्सी क्लोीरोक्विन की उत्पाददन क्षमता देश की आवश्यिकता और निर्यात की मांग को पूरा करने के लिये पर्याप्तह है. हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन एक मलेरियारोधी दवा है. मार्च 2020 में प्रकाशित एक फ्राँसीसी वैज्ञानिक के शोध के अनुसार, COVID-19 से संक्रमित 20 मरीज़ों में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन के प्रयोग से अन्य मरीज़ो की तुलना में बेहतर परिणाम पाए गए. हालाँकि, विश्व की किसी भी स्वास्थ्य संस्था द्वारा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन को COVID-19 के उपचार के लिये प्रमाणित नहीं किया गया है. विशेषज्ञों का कहना है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन एक रोग प्रतिरोधक है और यह इलाज नहीं है.


5.आरबीआई ने हाल ही में देश में COVID-19 के कारण उत्पन्न हुई आर्थिक चुनौतियों को देखते हुए देश की सभी बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों द्वारा अपने ग्राहकों को दिये गए ऋण के भुगतान हेतु कितने महीने की अतिरिक्त छूट देने के निर्देश दिये हैं?
a. सात महीना
b. तीन महीना
c. पांच महीना
d. आठ महीना

Answer: b. तीन महीना
आरबीआई द्वारा बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFCs) के द्वारा दिये गए ऋण पर तीन महीने का अतिरिक्त समय देने के निर्देश के बाद अधिकांश NBFCs पर तरलता की कमी का संकट बढ़ गया है. वर्तमान में बैंकों द्वारा NBFCs को दिया गया कुल बकाया ऋण 32.2% की वार्षिक वृद्धि के साथ 7,37,198 करोड़ रुपए (31 जनवरी, 2020) तक पहुँच गया है. वर्तमान में NBFCs द्वारा बाज़ार में वितरित अधिकांश धन वह है जो इन कंपनियों ने बैंकों से ऋण के रूप में लिया था. क्रेडिट रेटिंग एजेंसी क्रिसिल (CRISIL) के अनुसार, NBFCs के पास बैंकों की तरह वित्तीय तरलता के प्रणालीगत स्रोत नहीं होते हैं, वे इनके लिये बड़े निवेशों या होलसेल फंडिंग पर निर्भर करते हैं.