GENERAL KNOWLEDGE

0
116

विश्व तीरंदाजी ने एएआई चुनाव हेतु पर्यवेक्षक किया नियुक्त

विश्व तीरंदाजी ने हाल ही में भारतीय महासंघ पर से सशर्त निलंबन हटाने की दशा में कदम उठाते हुए दिल्ली में होने वाले चुनाव हेतु पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिया है. विश्व तीरंदाजी ने अपने उपाध्यक्ष काजी रजीबुद्दीन अहमद चापोल को पर्यवेक्षक के तौर पर भेजने का फैसला किया है.

विश्व तीरंदाजी के महासचिव टाम डायलेन ने ट्रांजिटरी कमेटी के अध्यक्ष जस्टिस (सेवानिवृत) बदर दुरेज अहमद को लिखे पत्र में कहा कि उनकी रिपोर्ट के आधार पर विश्व तीरंदाजी की कार्यकारी समिति अगले कदम पर फैसला लेगा.

निर्भया केस: दया याचिका के कारण 22 जनवरी को नहीं दी जा सकती दोषियों को फांसी

दिल्ली सरकार ने 15 जनवरी 2020 को हाईकोर्ट को बताया कि साल 2012 के निर्भया केस के दोषियों में से एक ने दया याचिका दायर की है, इसलिए दोषियों की फांसी 22 जनवरी को नहीं हो सकती. तिहाड़ जेल की ओर से पेश हुए एक वकील ने कहा कि दया याचिका खारिज होने के 14 दिनों के बाद ही फांसी की प्रक्रिया पूरी की जा सकती है.

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 07 जनवरी 2020 को निर्भया केस में बड़ा फैसला सुनाया था. कोर्ट ने निर्भया केस के सभी दोषियों का ‘डेथ वारंट’ जारी कर दिया था. चारों दोषियों विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह और पवन गुप्ता को 22 जनवरी को तिहाड़ जेल में सुबह सात बजे फांसी देना है.

पीएमसी बैंक घोटाला: बंबई हाईकोर्ट ने एचडीआईएल की संपत्तियां बेचने हेतु बनाई समिति

बंबई हाईकोर्ट ने हाल ही में पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव (पीएमसी) बैंक घोटाले में संलिप्त हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) की संपत्तियों की बिक्री हेतु एक तीन सदस्यीय समिति बनाई है. यह कदम एचडीआईएल से बैंक का धन तेजी से वसूल करने हेतु उठाया गया है.

समिति के प्रमुख हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश एस. राधाकृष्णन होंगे. एचडीआईएल के प्रवर्तकों राकेश एवं सारंग वधावन ने जांच एजेंसियों से अपनी संपत्तियां बेचकर बैंक का ऋण चुकाने का अनुरोध किया था. कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 30 अप्रैल रखी है तथा तब तक इस मामले में प्रगति रिपोर्ट मांगी है.

आईपीएस अधिकारी आनंद प्रकाश माहेश्वरी ने सीआरपीएफ के महानिदेशक का पदभार संभाला

आईपीएस अधिकारी आनंद प्रकाश माहेश्वरी ने 15 जनवरी 2020 को दुनिया के सबसे बड़े अर्द्धसैनिक बल सीआरपीएफ के नए महानिदेशक का पदभार संभाल लिया है. उत्तर प्रदेश कैडर के 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी आनंद प्रकाश माहेश्वरी को 13 जनवरी 2020 को सीआरपीएफ के नए प्रमुख के पद पर नियुक्त किया गया था.

आईपीएस अधिकारी माहेश्वरी इससे पहले तक गृह मंत्रालय में विशेष सचिव पद पर थे. वे सीआरपीएफ में महानिरीक्षक और उप-महानिरीक्षक पद पर रह चुके हैं. सीआरपीएफ 3.25 लाख कर्मियों के साथ विश्व का सबसे बड़ा अर्द्धसैनिक बल है. यह देश का अग्रणी आंतरिक सुरक्षा बल भी है.

नारेडको ने रियल एस्टेट पोर्टल लॉन्च किया

आवास एवं शहरी मामलों के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने हाल ही में रीयल एस्टेट डेवलपरों के संगठन ‘नारेडको’ द्वारा विकसित ऑनलाइन पोर्टल का उद्घाटन किया है. इस वेबसाइट के तहत तैयार मकानों की सुरक्षित खरीद-बिक्री को बढ़ावा मिलने की उम्‍मीद है.

ग्राहक इस वेबसाइट पर पहुंच कर तैयार घर की खरीदारी या फिर बिक्री कर सकेंगे. नारेडको इस पोर्टल पर सिर्फ रेरा में रजिस्‍टर्ड तैयार आवासीय परियोजनाओं को ही सूचीबद्ध करेगा. यह पोर्टल रियल एस्टेट डेवलपर्स हेतु केवल एक महीने (14 जनवरी से 13 फरवरी 2020 तक) खुलेगा.

प्रसिद्ध लेखिका नासिरा शर्मा को मिलेगा वर्ष 2019 का व्यास सम्मान

नासिरा शर्मा को साल 2014 में प्रकाशित उनके उपन्यास ‘कागज की नाव’ के लिए वर्ष 2019 का व्यास सम्मान दिया जाएगा. यह सम्मान हरेक साल भारतीय भाषाओं के लेखक तथा कवि को दिया जाता है.

व्यास सम्मान 2019: प्रसिद्ध लेखिका नासिरा शर्मा को साल 2019 के ‘व्यास सम्मान’ के लिए चुना गया है. नासिरा शर्मा को साल 2014 में प्रकाशित उनके उपन्यास ‘कागज की नाव’ के लिए वर्ष 2019 का व्यास सम्मान दिया जाएगा.

यह सम्मान हरेक साल भारतीय भाषाओं के लेखक तथा कवि को दिया जाता है. यह निर्णय हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध विद्वान डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने किया. चयन समिति में प्रो. रामजी तिवारी, ममता कालिया, प्रो. राजेन्द्र गौतम, अरुणा गुप्ता और सुरेश रितुपर्ण शामिल हैं.

पहला व्यास सम्मान

प्रसिद्ध आलोचक डॉ. रामविलास शर्मा को साल 1991 में पहला व्यास सम्मान मिला था. यह पुरस्कार साल 2018 के लिए चर्चित कवि लीलाधरी जगूड़ी को दिया गया था. कवि लीलाधरी जगूड़ी को यह सम्मान साल 2013 में प्रकाशित उनके कविता संग्रह ‘जितने लोग उतने प्रेम’ के लिए दिया गया था.

व्यास सम्मान के बारे में

भारतीय साहित्य में किये गये योगदान हेतु व्यास सम्मान दिया जाता है. यह सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार के बाद दूसरा सबसे बड़ा साहित्य-सम्मान है. के. के. बिड़ला फाउंडेशन ने इस पुरस्कार को साल 1991 में शुरू किया था. रामविलास शर्मा को पहला व्यास सम्मान उनकी कृति ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’ के लिए दिया गया था.

यह सम्मान पिछले दस वर्षों में प्रकाशित कृति पर लेखक को दिया जाता है. इस पुरस्कार के तहत चार लाख रुपये की राशि, प्रशस्ति पत्र तथा एक प्रतीक चिह्न दिया जाता है.

नासिरा शर्मा के बारे में

• नासिरा शर्मा का जन्म 22 अगस्त 1948 को इलाहाबाद में हुआ था. उन्होंने फारसी भाषा एवं साहित्य में एम. ए. किया.

• नासिरा शर्मा हिन्दी की एक प्रसिद्ध लेखिका हैं. उन्होंने सृजनात्मक लेखन के साथ ही स्वतन्त्र पत्रकारिता में भी उल्लेखनीय कार्य किया है.

• वे ईरानी समाज और राजनीति के अलावा साहित्य कला एवं सांस्कृतिक विषयों की विशेषज्ञ हैं. उन्हें उर्दू, अंग्रेज़ी और पश्तो भाषा पर भी अच्छी पकड़ है.

• उन्होंने औरत के लिए ‘औरत’ नामक पुस्तक लिखी जिसमें कामगार स्त्रियों के संदर्भ में लिखा है. वे निम्नवर्गीय तथा कामकाजी औरतों की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करती रहती हैं.